Friday, June 21, 2024
Homeसोशल ट्रेंड'सच्चे राष्ट्रवादी पत्रकार, बहुत जल्दी हमें छोड़ कर चले गए': दूसरी पुण्यतिथि पर रोहित...

‘सच्चे राष्ट्रवादी पत्रकार, बहुत जल्दी हमें छोड़ कर चले गए’: दूसरी पुण्यतिथि पर रोहित सरदाना को याद कर भावुक हुए लोग, शेयर कर रहे डिबेट के वीडियो

कोविड-19 से संक्रमित होने के बाद रोहित सरदाना को हार्ट अटैक भी आ गया था। उस समय उनकी उम्र मात्र 42 वर्ष थी

पत्रकार रोहित सरदाना की दूसरी पुण्यतिथि पर लोग उन्हें याद कर के भावुक हो रहे हैं। कोरोना वायरस संक्रमण के बाद इलाज के दौरान उनका निधन हो गया था। इस मौके पर न सिर्फ कई बड़े पत्रकारों, बल्कि आम लोगों ने भी उन्हें याद किया। रोहित सरदाना ने ‘ज़ी न्यूज़’ के शो ‘ताल ठोक के’ और फिर ‘आज तक’ के शो ‘दंगल’ से अपनी पहचान बनाई थी। इन दोनों ही डिबेट शो में कई बड़े मुद्दों पर वो प्रोपेगंडा फैलाने वालों की क्लास भी लगाते थे।

कोविड-19 से संक्रमित होने के बाद रोहित सरदाना को हार्ट अटैक भी आ गया था। उस समय उनकी उम्र मात्र 42 वर्ष थी। उनका निधन तब हुआ, जब वो आम लोगों के बीच अपनी छाप छोड़ने लगे थे और लोग उन्हें पत्रकारिता के बड़े नामों में गिनने लगे थे। अपनी एंकरिंग स्किल्स के कारण वो लोगों के बीच लोकप्रिय बन गए थे। नेताओं से बातचीत के समय भी वो राष्ट्रवाद को नहीं भूलते थे। उनके याद में उनके परिवार ने एक फाउंडेशन भी लॉन्च किया।

उनकी पत्नी प्रमिला दीक्षित भी पत्रकार हैं। रोहित सरदाना अपने पीछे दो बेटियों को छोड़ गए हैं। पत्रकार सुमित अवस्थी ने लिखा, ‘हेलो रोहित, जहाँ होंगे खुश होंगे। बहुत याद आते हो मित्र।’ वहीं पत्रकार श्वेता सिंह ने लिखा, “दोस्ती आम है लेकिन ऐ दोस्त, दोस्त मिलता है बड़ी मुश्किल से।” शुभंकर मिश्रा ने 2 साल पहले के फेसबुक पोस्ट शेयर किया, अब उन्होंने रोहित सरदाना के निधन पर लिखा था कि काँप रहे हैं और धड़कन बढ़ी हुई है।

रोहित सरदाना समय निकाल कर वीडियो के जरिए अपने दर्शकों से रूबरू भी होते थे और न सिर्फ उनके सवालों का जवाब देते थे, बल्कि उनका हालचाल भी पूछते थे। कई लोगों ने वीडियो के उन अंशों को शेयर किया। इससे पता चलता है कि दर्शकों से उनका खास जुड़ाव था। लोगों ने उन्हें सच्चा राष्ट्रवादी बताते हुए लिखा कि वो बहुत जल्दी सबको छोड़ कर चले गए। कइयों ने लिखा कि आप जैसा अब कोई नहीं होगा। लोगों ने लिखा कि देश के वर्तमान हालात में वो उन्हें काफी मिस कर रहे हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बिहार का 65% आरक्षण खारिज लेकिन तमिलनाडु में 69% जारी: इस दक्षिणी राज्य में क्यों नहीं लागू होता सुप्रीम कोर्ट का 50% वाला फैसला

जहाँ बिहार के 65% आरक्षण को कोर्ट ने समाप्त कर दिया है, वहीं तमिलनाडु में पिछले तीन दशकों से लगातार 69% आरक्षण दिया जा रहा है।

हज के लिए सऊदी अरब गए 90+ भारतीयों की मौत, अब तक 1000+ लोगों की भीषण गर्मी ले चुकी है जान: मिस्र के सबसे...

मृतकों में ऐसे लोगों की संख्या अधिक है, जिन्होंने रजिस्ट्रेशन नहीं कराया था। इस साल मृतकों की संख्या बढ़कर 1081 तक पहुँच चुकी है, जो अभी बढ़ सकती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -