Monday, June 17, 2024
Homeसोशल ट्रेंड'लकी अली हमेशा अलग आवाज के लिए याद किए जाएँगे': उड़ गई मौत की...

‘लकी अली हमेशा अलग आवाज के लिए याद किए जाएँगे’: उड़ गई मौत की अफवाह, नफीसा ने बताई हकीकत

लकी अली पिछले काफी समय से चर्चा से दूर हैं। उन्होंने 'क्यूँ चलती है पवन', 'ओ सनम', 'जाने क्या ढूँढता है' और 'मौसम' सहित कई बेहतरीन गाने गाए हैं।

मशहूर गायक लकी अली के निधन की खबरों ने मंगलवार (मई 4, 2021) को सबको झकझोर दिया। कई लोग ट्वीट कर कहने लगे कि उनका इंतकाल कोविड 19 की चपेट में आने के बाद हुआ। हालाँकि, बुधवार (मई 5, 2021) को उनकी दोस्त नफीसा अली ने इस संबंध में सच्चाई बताई। लकी अली की मौत की खबरों को अफवाह करार देते हुए नफीसा अली ने कहा कि लकी पूरी तरह से ठीक हैं।

नफीसा अली ने ट्विटर पर लिखा, “लकी पूरी तरह से ठीक हैं और हम दोनों ने इसी दोपहर बात की है। वह अपने फार्म पर हैं, परिवार के साथ। कोई कोविड नहीं है और वह अपने बेहतर स्वास्थ्य में हैं।”

एक्स्ट्रेस ने टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत में बताया, “मैंने लकी से कम से कम 2-3 बार दिन में बात की। वह ठीक हैं। उन्हें कोविड नहीं है। उनमें एंटीबॉडीज हैं। वह अपने म्यूजिक और कॉन्सर्ट प्लानिंग में व्यस्त हैं। हम दोनों वर्चुअल कॉन्सर्ट के बारे में बात भी कर रहे थे जो आजकल हो रहे हैं। वह बेंगलुरु में अपने फार्म पर हैं और परिवार भी उनके साथ है। मैंने अभी उनसे बात की है और सभी स्वस्थ हैं।”

बता दें कि पिछले काफी समय से लकी अली मीडिया चर्चा से दूर हैं। उन्होंने ‘क्यूँ चलती है पवन’, ‘ओ सनम’, ‘जाने क्या ढूँढता है’ और ‘मौसम’ सहित कई बेहतरीन गाने गाए हैं। हाल में उनकी कुछ वीडियोज वायरल हुई थी जिसमें वह अपनी खूबसूरत आवाज में गाते नजर आए थे। मंगलवार को भी एक सोशल मीडिया यूजर ने यही लिखा था कि लकी अली को हमेशा उनकी अलग आवाज के लिए याद दिलाया जाएगा।

इसके बाद कोरोना काल को देखते हुए लोग उनके जिंदा होने की बात पूछने लगे। बाद में उस ट्विटर यूजर ने कहा, “लोगों को इन दिनों हो क्या गया है। अंग्रेजी समझ नहीं आती। मैंने लिखा है कि वो हमेशा अपनी आवाज के लिए याद रहेंगे। मैने कब बोला RIP। अपनी नेगेटिव सोच बदलो। लकी जिंदा है। हमेशा दिमाग में मरने की न्यूज रहती है।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बकरों के कटने से दिक्कत नहीं, दिवाली पर ‘राम-सीता बचाने नहीं आएँगे’ कह रही थी पत्रकार तनुश्री पांडे: वायर-प्रिंट में कर चुकी हैं काम,...

तनुश्री पांडे ने लिखा था, "राम-सीता तुम्हें प्रदूषण से बचाने के लिए नहीं आएँगे। अगली बार साफ़-स्वच्छ दिवाली मनाइए।" बकरीद पर बदल गए सुर।

पावागढ़ की पहाड़ी पर ध्वस्त हुईं तीर्थंकरों की जो प्रतिमाएँ, उन्हें फिर से करेंगे स्थापित: गुजरात के गृह मंत्री का आश्वासन, महाकाली मंदिर ने...

गुजरात के गृह मंत्री हर्ष संघवी ने कहा कि किसी भी ट्रस्ट, संस्था या व्यक्ति को अधिकार नहीं है कि इस पवित्र स्थल पर जैन तीर्थंकरों की ऐतिहासिक प्रतिमाओं को ध्वस्त करे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -