Wednesday, September 28, 2022
Homeसोशल ट्रेंड'COVID-19 रोकने में मास्क अप्रभावी': प्रशांत भूषण के ट्वीट को ट्विटर ने किया रिमूव,...

‘COVID-19 रोकने में मास्क अप्रभावी’: प्रशांत भूषण के ट्वीट को ट्विटर ने किया रिमूव, बताया- नियमों का उल्लंघन

अपने ट्वीट में भूषण ने रिपोर्ट को कोट किया और मास्क पर हुई स्टडी को पढ़ने को कहा। लेकिन यूजर्स ने उनकी सुनने की बजाय उनकी आलोचना शुरू कर दी। यहाँ तक उनके अपने खेमे के लोगों (वामपंथियों) ने भी उन्हें नहीं बख्शा।

वामपंथी गिरोह के सक्रिय सदस्य व पीआईएल एक्टिविस्ट वकील प्रशांत भूषण के एंटी मास्क ट्वीट को ट्विटर ने अपने प्लैटफॉर्म से रिमूव कर दिया है। 10 अप्रैल को भूषण ने अपने ट्वीट में एक Hypothesis का लिंक शेयर करके ये बताया था कि फेसमास्क का इस्तेमाल कोरोना समय में कारगर नहीं है।

अपने ट्वीट में भूषण ने लिखा था, “डेटा का सुझाव है कि वायरल और संक्रामक बीमारी जैसे कोविड ​​-19  को रोकने के लिए फेसमास्क अप्रभावी हैं। फेसमास्क पहनने से काफी प्रतिकूल शारीरिक और मनोवैज्ञानिक प्रभाव होते हैं।”

अपने ट्वीट में भूषण ने रिपोर्ट को कोट किया और मास्क पर हुई स्टडी को पढ़ने को कहा। लेकिन यूजर्स ने उनकी सुनने की बजाय उनकी आलोचना शुरू कर दी। यहाँ तक उनके अपने खेमे के लोगों (वामपंथियों) ने भी उन्हें नहीं बख्शा।

कई लोगों ने झूठी जानकारी फैलाने पर उनके ट्वीट की रिपोर्ट की और आखिरकार ट्विटर को शाम तक इस ट्वीट को हटाना पड़ा। अब ट्वीट पर भूषण का ट्वीट नहीं दिख रहा। लेकिन ये नजर आ रहा है कि ये ट्वीट ट्विटर नियमों का उल्लंघन करता है।

उल्लेखनीय है कि बरूच वेन्शेलबोइम द्वारा किया गया अध्ययन इस साल जनवरी में साइंश डायरेक्ट पर प्रकाशित किया गया था, और इसी रिपोर्ट को पिछले साल नवंबर में नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इन्फॉर्मेशन, यूएस की नेशनल लाइब्रेरी ऑफ मेडिसिन की वेबसाइट पर प्रकाशित किया गया था, जो अमेरीकी सरकार द्वारा वित्त पोषित है। बता दें कि अध्य्यन, पहले से प्रकाशित वैज्ञानिक स्टडी पर आधारित है। वेबसाइट भी .gov domain पर आती है जिसका मतलब है कि ये यूएस सरकार की वेबसाइट है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘सारे मुस्लिम युवकों को जेल में डाल दिया जाएगा, UAPA है काला कानून’: PFI बैन पर भड़के ओवैसी, लालू यादव और कॉन्ग्रेस MP

असदुद्दीन ओवैसी के लिए UAPA 'काला कानून' है। लालू यादव ने RSS को 'PFI सभी बदतर' कह दिया। कॉन्ग्रेसी कोडिकुन्नील सुरेश ने RSS को बैन करने की माँग की।

2047 तक भारत को बनाना था इस्लामी राज्य, गृहयुद्ध के प्लान पर चल रहा था काम: राजस्थान में जातीय संघर्ष भड़का PFI का सरगना...

PFI 'मिशन 2047' की तैयारी में था, अर्थात स्वतंत्रता के 100 वर्ष पूरे होने तक भारत को एक इस्लामी मुल्क में तब्दील कर देना, जहाँ शरिया चले।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
224,793FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe