Thursday, June 13, 2024
Homeसोशल ट्रेंडबंगाल में मारे जा रहे BJP कार्यकर्ताओं के समय 'कार पर हमला' से लेकर...

बंगाल में मारे जा रहे BJP कार्यकर्ताओं के समय ‘कार पर हमला’ से लेकर ‘बाबुल की विदाई’ तक: सोशल मीडिया पर लोग ऐसे कर रहे याद

“ऐसे लोगो के भरोसे बंगाल जितने चले थे....और वर्षो से त्याग भावना के साथ काम कर रहे कार्यकर्ताओं को उपेक्षित किया था.....भुगतो अब.... ये लोग सिर्फ सत्ता की लालसा के कारण पार्टी में थे....कोई विचारधारा नहीं होती इन लोगो की।”

पूर्व केंद्रीय मंत्री और पश्चिम बंगाल की आसनसोल सीट से दूसरी बार BJP सांसद बाबुल सुप्रियो ने राजनीति से संन्यास ले लिया है। उन्होंने शनिवार (जुलाई 31, 2021) को सोशल मीडिया पर एक लंबी पोस्ट लिखकर राजनीति छोड़ने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि वो 1 महीने के अंदर सांसद के पद से इस्तीफा देकर सरकारी आवास खाली कर देंगे। 

पिछले कुछ दिनों से उनके राजनीति से संन्यास लेने के कयास लगाए जा रहे थे। वे सोशल मीडिया पर लगातार पोस्ट लिख ये इशारा कर रहे थे। बाबुल सुप्रियो ने अपने फेसबुक अकाउंट पर बांग्ला में राजनीति से संन्यास का ऐलान किया है। सुप्रियो के संन्यास लेने की घोषणा के साथ ही सोशल मीडिया पर तमाम तरह की प्रतिक्रियाएँ आ रही है।

एक सोशल मीडिया यूजर ने इस पर टिप्पणी करते हुए लिखा, “असली जिंदगी में ‘बाबुल की विदाई’, क्योंकि बाबुल सुप्रियो ने राजनीति छोड़ दिया।”

वहीं एक अन्य ने लिखा, “ऐसे लोगो के भरोसे बंगाल जितने चले थे….और वर्षो से त्याग भावना के साथ काम कर रहे कार्यकर्ताओं को उपेक्षित किया था…..भुगतो अब…. ये लोग सिर्फ सत्ता की लालसा के कारण पार्टी में थे….कोई विचारधारा नहीं होती इन लोगो की।”

एक ने लिखा, “जा जाधवपुर यूनिवर्सिटी में घुस कर मारपीट और चप्पल खा कर डूबो चुल्लू भर पानी में।”

एक अन्य ने लिखा, “बताओ यार, एक तो बंगाल की एक यूनिवर्सिटी के छात्रों ने बाबुल सुप्रियो को बर्तनों की तरह धोया और अब ऊपर से बीजेपी ने ऐसी लात मारी कि बेचारे को राजनीति ही छोड़नी पड़ गई। बेचारा न घर का रहा न घाट का। बड़ा बे आबरू होकर नरेंद्र मोदी के कूचे से ये निकला।”

एक यूजर ने लिखा, “बेचारे बाबुल सुप्रियो को अपनी कार की इतनी चिंता है कि राजनीति से ही संन्यास ले लिया। देखते जाइए साल भर के भीतर ये TMC में होगा।”

अन्य सोशल मीडिया यूजर ने लिखा, “बाबुल की दुआएँ लेती जा, जा तेरी संसार बसे।”

बाबुल सुप्रियो ने संन्यास की घोषणा करते हुए लिखा कि उन्होंने सब की बातें सुनीं – माता-पिता, पत्नी, बेटी और दोस्तों की। उन्होंने आश्वासन दिया कि वो सब सुन कर कहते हैं कि वो किसी और पार्टी में नहीं जा रहे। उन्होंने कहा कि वो तृणमूल कॉन्ग्रेस (TMC), कॉन्ग्रेस या CPI(M) में नहीं जा रहे, कहीं नहीं। उन्होंने बताया कि किसी ने उन्हें फोन नहीं किया। उन्होंने कहा कि वो एक टीम के खिलाड़ी हैं और हमेशा एक टीम का समर्थन करते हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कश्मीर समस्या का इजरायल जैसा समाधान’ वाले आनंद रंगनाथन का JNU में पुतला दहन प्लान: कश्मीरी हिंदू संगठन ने JNUSU को भेजा कानूनी नोटिस

जेएनयू के प्रोफेसर और राजनीतिक विश्लेषक आनंद रंगनाथन ने कश्मीर समस्या को सुलझाने के लिए 'इजरायल जैसे समाधान' की बात कही थी, जिसके बाद से वो लगातार इस्लामिक कट्टरपंथियों के निशाने पर हैं।

शादीशुदा महिला ने ‘यादव’ बता गैर-मर्द से 5 साल तक बनाए शारीरिक संबंध, फिर SC/ST एक्ट और रेप का किया केस: हाई कोर्ट ने...

इलाहाबाद हाई कोर्ट में जस्टिस राहुल चतुर्वेदी और जस्टिस नंद प्रभा शुक्ला की बेंच ने इस मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि सबूत पेश करने की जिम्मेदारी सिर्फ आरोपित का ही नहीं है, बल्कि शिकायतकर्ता का भी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -