Saturday, April 20, 2024

विषय

हिन्दी

‘हिंदी में नहीं, तमिल में बोलो’: खुले मंच पर AR रहमान ने बीवी सायरा से कहा, वीडियो आया सामने – पहले भी लग चुका...

इससे पहले 2021 में एआर रहमान पर हिंदी भाषा का अपमान करने का आरोप लगा था। कहा गया था कि उन्होंने एक एंकर के हिंदी बोलने पर उसका मजाक उड़ाया था।

केरल में भगवान अयप्पा पर बनी फिल्म ‘मलिकप्पुरम’ ने कमाए ₹100 करोड़, अब तमिल-तेलुगु और हिंदी में भी रिलीज को तैयार: एक और ‘कांतारा’?

मात्र 3.5 करोड़ रुपए में बनी फिल्म 'मलिकप्पुरम' ने 100 करोड़ रुपए से भी ज्यादा की कमाई कर ली है। फिल्म अब तमिल-तेलुगु और हिंदी में रिलीज होने जा रही है।

‘अंग्रेजी सिर्फ संचार का माध्यम, बौद्धिक होने की निशानी नहीं’: गुजरात में बोले PM मोदी – शिक्षा व्यवस्था को अगले स्तर तक ले जाएगी...

पीएम ने कहा कि शिक्षा, पुरातन काल से ही भारत के विकास की धुरी रही है। हमारे पूर्वजों ने ज्ञान और विज्ञान में पहचान बनाई है।

हिंदी में बात करने वालों से नफरत करते थे करण जौहर, उनके लिए ये भाषा ‘डाउन मार्किट’: खुद हिंदी फिल्मों से करते हैं कमाई

बॉलीवुड अभिनेता करण जौहर ने अपनी आतामकथा में खुलासा किया है कि वो हिन्दीभाषियों को पसंद नहीं करते हैं। उन्हें हिन्दू डाउन मार्केट लगती है।

बिन निज भाषा ज्ञान के, मिटन न हिय के सूल: वाजपेयी की हिंदी ‘परंपरा’ को आगे ले जा रहे मोदी

आज का दिन हिंदी भाषा और हिंदी भाषी लोगों, दोनों के लिए बेहद ही खास दिन है, जिसे 'विश्व हिन्दी दिवस' के रूप में देश-विदेश में मनाया जाता है।

उर्दू में लिखा जाता था मनमोहन सिंह का भाषण, क्योंकि हिंदी पढ़ नहीं पाते पूर्व प्रधानमंत्री

भारत के पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह हिन्दी नहीं पढ़ पाते हैं। उन्होंने जितने भी भाषण हिन्दी में दिए वह उर्दू में लिखे गए थे।

हिन्दू धर्म त्यागने वालों को पुनः हिन्दू बनाना: वो पंडित मदन मोहन मालवीय, जो अपने परिचय को लेकर थे स्पष्ट

पंडित मदन मोहन अपने परिचय को लेकर स्पष्ट थे। अस्पृश्यता निवारण और शुद्धि (हिन्दू धर्म त्यागने वालों को पुनः हिन्दू बनाना) के घोर समर्थक थे।

हिन्दी केवल उत्तर भारत की नहीं: हिन्दी दिवस को हिन्दी बोलने वालों तक नहीं करें सीमित, न ही किया जाना चाहिए

हिन्दी का दायरा और महत्व केवल एक दिन तक सीमित नहीं किया जा सकता है और न ही किया जाना चाहिए। और हाँ, हिन्दी केवल उत्तर भारत की भाषा नहीं है।

छात्रों ने कुलपति राकेश भटनागर पर लगाए धाँधली के गंभीर आरोप: शहर में लगे ‘BHU वीसी हिंदी विरोधी’ के पोस्टर

BHU के कुलपति राकेश भटनागर JNU के पूर्व प्रोफ़ेसर हैं। छात्रों ने आरोप लगाया है कि वीसी हिन्दी भाषी छात्रों के साथ भेदभाव कर रहे हैं। यहाँ तक कि भर्ती प्रक्रिया में वह अपने JNU के छात्रों को वरीयता दे रहे हैं। उन पर BHU का कुलपति रहते हुए अधिकांश नियुक्तियों में JNU, वामपंथ और अँग्रेजी को वरीयता देने जैसे कई गंभीर आरोप छात्रों ने पहले भी लगाए हैं।

हिन्दी अमेरिका में सबसे ज़्यादा बोली जाने वाली भारतीय भाषा: अमेरिकन कम्यूनिटी सर्वे ने जारी किए आँकड़े

1 जुलाई 2018 तक 8.74 लाख लोगों के साथ अमेरिका में हिन्दी सबसे अधिक बोली जाने वाली भारतीय भाषा रही, जो 2017 के आंकड़ों में 1.3% की मामूली बढ़ोतरी है। 2010 के बाद से 8 साल के दौरान, इस संख्या में 2.65 लाख लोग जुड़े जो 43.5% का इज़ाफ़ा है।

ताज़ा ख़बरें

प्रचलित ख़बरें

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe