Wednesday, April 14, 2021
Home विविध विषय अन्य बिन निज भाषा ज्ञान के, मिटन न हिय के सूल: वाजपेयी की हिंदी 'परंपरा'...

बिन निज भाषा ज्ञान के, मिटन न हिय के सूल: वाजपेयी की हिंदी ‘परंपरा’ को आगे ले जा रहे मोदी

विश्व हिन्दी दिवस को मनाने का मुख्य उद्देश्य हिंदी को विश्व में प्रचारित-प्रसारित करना, हिंदी के प्रति जागरूकता पैदा करना, इसके प्रति अनुकूल वातावरण तैयार करना, हिंदी के प्रति लोगों में अनुराग पैदा करना और इसे अंतरराष्ट्रीय पटल पर विश्व-भाषा के रूप में स्थापित करना है।

‘निज भाषा उन्नति अहै, सब उन्नति को मूल, बिन निज भाषा ज्ञान के, मिटन न हिय के सूल।’ आज हिंदी का दिन है तो भाषा के महत्व को इस दोहे से ज्यादा बेहतर नहीं समझा जा सकता। हिंदी केवल भाषा नहीं बल्कि यह जीवन जीने का एक तरीका है। हिंदी हमारी पहचान है, हमारी संस्कृति है, और हमारी सभ्यता है।

हिंदी का एक गौरवपूर्ण इतिहास रहा है। पूरे विश्व में हिंदी की एक अलग पहचान है। आज का दिन हिंदी भाषा और हिंदी भाषी लोगों, दोनों के लिए बेहद ही खास दिन है, जिसे ‘विश्व हिन्दी दिवस’ के रूप में देश-विदेश में मनाया जाता है।

विश्व हिन्दी दिवस को मनाने का मुख्य उद्देश्य हिंदी को विश्व में प्रचारित-प्रसारित करना, हिंदी के प्रति जागरूकता पैदा करना, इसके प्रति अनुकूल वातावरण तैयार करना, हिंदी के प्रति लोगों में अनुराग पैदा करना और इसे अंतरराष्ट्रीय पटल पर विश्व-भाषा के रूप में स्थापित करना है।

विदेशों में स्थित भारतीय दूतावास और देश में स्थित सभी सरकारी कार्यालय इस दिन को विशेष रूप से मनाते हैं। इस शुभ अवसर पर विभिन्न विषयों पर हिन्दी में व्याख्यान आयोजित किए जाते हैं। हिंदी विषय पर कविताओं, निबंध प्रतियोगिता समेत अनेकों सांस्कृतिक कार्यक्रम भी आयोजित किए जाते हैं।

जो अधिकारी या कर्मचारी पूरे वर्ष में अधिक से अधिक काम हिंदी में किए होते हैं, वे पुरस्कृत भी होते हैं। हालाँकि करोना महामारी के कारण भले ही सार्वजनिक कार्यक्रमों में कमी आई है, लेकिन कई वर्चुअल कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं, जिसमें दुनिया भर से अनेकों हिंदी भाषा प्रेमी हिस्सा ले रहे हैं। हिन्दी में व्याख्यान ऑनलाइन आयोजित किए जा रहे हैं।

आइए अब बात करते है कुछ अतीत के पन्नों की, जब इस गौरवपूर्ण भाषा के प्रचार-प्रसार को लेकर अनेकों परिस्थितियों का निर्माण हुआ था। सबसे पहले तो हम बात करेंगे दिवगंत प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की, जिन्होंने संयुक्त राष्ट्र संघ में हिंदी में भाषण देने की परंपरा की शुरुआत की थी। इस परंपरा को हमारे वर्तमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आगे ले जा रहे हैं।

विश्व में हिन्दी के विकास तथा इसे प्रचारित-प्रसारित करने के उद्देश्य से विश्व हिन्दी सम्मेलनों की शुरुआत की गई थी। माना जाता है कि पहला विश्व हिन्दी सम्मेलन 10 जनवरी 1975 को नागपुर में आयोजित हुआ था, इसीलिए इस दिन को ‘विश्व हिन्दी दिवस’ के रूप में मनाया जाता है।

2006 में तत्कालीन प्रधानमंत्री द्वारा 10 जनवरी को प्रति वर्ष विश्व हिन्दी दिवस के रूप मनाये जाने की घोषणा की गई थी। जिसके बाद से विदेश मंत्रालय ने विदेशों में 10 जनवरी 2006 को पहली बार ‘विश्व हिन्दी दिवस’ मनाया था।

बहुत बार लोग ‘हिंदी दिवस’ और ‘विश्व हिंदी दिवस’ में भ्रमित हो जाते हैं। बता दें कि ‘हिंदी दिवस’ और ‘विश्व हिंदी दिवस’ दो अलग तिथियाँ तथा दिवस हैं। देश में हिंदी भाषा के प्रसार-प्रचार हेतु 14 सिंतबर को ‘हिंदी दिवस’ मनाया जाता है।

1949 में इसी दिन संविधान सभा ने हिंदी को राजभाषा का दर्जा प्रदान किया था। तभी से इस दिन को ‘हिंदी दिवस’ के रूप में मनाया जाता है। सम्पूर्ण भारतीयों के लिए वह गर्व का क्षण था जब भारत की संविधान सभा ने हिंदी भाषा को देश की आधिकारिक राजभाषा के रूप में अपनाया था।

‘विश्व हिंदी दिवस’ का उद्देश्य पूरे विश्व में हिंदी भाषा का प्रचार-प्रसार करना तथा पूरे विश्व को हिंदी भाषा के माध्यम से एक सूत्र में बाँधना है। हमारी संस्कृति वसुधैव कुटुंबकम् की अवधारणा को आत्मसात करती है, जिसमें हिंदी भाषा का एक अमूल्य योगदान है।

पूरी दुनिया में हिंदी सबसे प्राचीन एवं प्रभावशाली भाषाओं में से एक है। ऐसे में हमें अपनी हिंदी भाषा को बोलने और लिखने में गर्व महसूस करना चाहिए। सवाल है कि क्या हम इस दिशा में सफल हो पाए हैं? हम सभी को खुद से यह प्रश्न करना चाहिए और सोचना चाहिए कि कैसे हमारी मातृ-भाषा को अंतर्राष्ट्रीय पटल पर और भी मजबूती मिले।

अप्रवासी भारतीय भाई-बहनों का भी यह कर्त्तव्य बनता है कि इस दिशा में एक सजग प्रयास करें। हम सभी को यह समझना पड़ेगा कि हिन्दी ना केवल एक भाषा है, बल्कि एक आशा है। हमें वचन लेना चाहिए कि हिन्दी में हम सभी काम करेंगे और इस अद्भुत भाषा का नाम करेंगे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Dr. Mukesh Kumar Srivastava
Dr. Mukesh Kumar Srivastava is Consultant at Indian Council for Cultural Relations (ICCR) (Ministry of External Affairs), New Delhi. Prior to this, he has worked at Indian Council of Social Science Research (ICSSR), New Delhi and Rambhau Mhalgi Prabodhini (RMP). He has done his PhD and M.Phil from the School of International Studies, Jawaharlal Nehru University, New Delhi.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

उद्धव ठाकरे ने लगाई कल रात से धारा 144 के साथ ‘Lockdown’ जैसी सख्त पाबंदियाँ, उन्हें बेस्ट CM बताने में जुटे लिबरल

महाराष्ट्र की उद्धव सरकार ने राज्य में कोरोना की बेकाबू होती रफ्तार पर काबू पाने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी से मदद की गुहार लगाई है। उन्होंने पीएम से अपील की है कि राज्य में विमान से ऑक्सीजन भेजी जाए। टीकाकरण की रफ्तार बढ़ाई जाए।

पाकिस्तानी पाठ्यपुस्तकों में पढ़ाया जा रहा काफिर हिंदुओं से नफरत की बातें: BBC उर्दू डॉक्यूमेंट्री में बच्चों ने किया बड़ा खुलासा

वीडियो में कई पाकिस्तानी हिंदुओं को दिखाया गया है, जिन्होंने पाकिस्तान में स्कूल की पाठ्यपुस्तकों में हिंदू विरोधी प्रोपेगेंडा की तरफ इशारा किया है।

‘पेंटर’ ममता बनर्जी को गुस्सा क्यों आता है: CM की कुर्सी से उतर धरने वाली कुर्सी कब तक?

पिछले 3 दशकों से चुनावी और राजनीतिक हिंसा का दंश झेल रही बंगाल की जनता की ओर से CM ममता को सुरक्षा बलों का धन्यवाद करना चाहिए, लेकिन वो उनके खिलाफ जहर क्यों उगल रही हैं?

यूपी के 15,000 प्राथमिक व उच्च प्राथमिक स्कूल हुए अंग्रेजी मीडियम, मिशनरी स्कूलों को दे रहे मात

उत्तर प्रदेश के प्राथमिक विद्यालयों के बच्चे भी मिशनरी व कांवेंट स्कूलों के छात्रों की तरह फर्राटेदार अंग्रेजी बोल सकें। इसके लिए राज्य के 15 हजार स्कूलों को अंग्रेजी मीडियम बनाया गया है, जहाँ पढ़ कर बच्चे मिशनरी स्कूल के छात्रों को चुनौती दे रहे हैं।

पहले कमल के साथ चाकूबाजी, अगले दिन मुस्लिम इलाके में एक और हिंदू पर हमला: छबड़ा में गुर्जर थे निशाने पर

राजस्थान के छबड़ा में हिंसा क्यों? कमल के साथ फरीद, आबिद और समीर की चाकूबाजी के अगले दिन क्या हुआ? बैंसला ने ऑपइंडिया को सब कुछ बताया।

दिल्ली में नवरात्र से पहले माँ दुर्गा और हनुमान जी की प्रतिमाओं को किया क्षतिग्रस्त, सड़क पर उतरे लोग: VHP ने पुलिस को चेताया

असामाजिक तत्वों ने न सिर्फ मंदिर में तोड़फोड़ मचाई, बल्कि हनुमान जी की प्रतिमा को भी क्षतिग्रस्त कर दिया। बजरंग दल ने किया विरोध प्रदर्शन।

प्रचलित ख़बरें

‘हमें बार-बार जाना पड़ता है, वो वॉशरूम कब जाती हैं’: साक्षी जोशी का PK से सवाल- क्या है ममता बनर्जी का टॉयलेट शेड्यूल

क्लबहाउस पर बातचीत में ‘स्वतंत्र पत्रकार’ साक्षी जोशी ने ममता बनर्जी की शौचालय की दिनचर्या के बारे में उनके चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर से पूछताछ की।

छबड़ा में मुस्लिम भीड़ के सामने पुलिस भी थी बेबस: अब चारों ओर तबाही का मंजर, बिजली-पानी भी ठप

हिन्दुओं की दुकानों को निशाना बनाया गया। आँसू गैस के गोले दागे जाने पर हिंसक भीड़ ने पुलिस को ही दौड़ा-दौड़ा कर पीटा।

भाई ने कर ली आत्महत्या, परिवार ने 10 दिनों तक छिपाई बात: IPL के ग्राउंड में चमका टेम्पो ड्राइवर का बेटा, सहवाग भी हुए...

IPL की नीलामी में चेतन सकारिया को अच्छी खबर तो मिली, लेकिन इससे तीन सप्ताह पहले ही उनके छोटे भाई ने आत्महत्या कर ली थी।

जहाँ खालिस्तानी प्रोपेगेंडाबाज, वहीं मन की बात: क्लबहाउस पर पंजाब का ठेका तो कंफर्म नहीं कर रहे थे प्रशांत किशोर

क्लबहाउस पर प्रशांत किशोर का होना क्या किसी विस्तृत योजना का हिस्सा था? क्या वे पंजाब के अपने असायनमेंट को कंफर्म कर रहे थे?

रूस का S-400 मिसाइल डिफेंस सिस्टम और US नेवी का भारत में घुसना: ड्रैगन पर लगाम के लिए भारत को साधनी होगी दोधारी नीति

9 अप्रैल को भारत के EEZ में अमेरिका का सातवाँ बेड़ा घुस आया। देखने में जितना आसान है, इसका कूटनीतिक लक्ष्य उतनी ही कॉम्प्लेक्स!

यमुनानगर में माइक से यति नरसिंहानंद को धमकी दे रही थी मुस्लिम भीड़, समर्थन में उतरे हिंदू कार्यकर्ता: भारी पुलिस बल तैनात

हरियाणा के यमुनानगर में यति नरसिंहानंद के मसले पर टकराव की स्थिति को देखते हुए मौके पर भारी पुलिस बल की तैनाती करनी पड़ी।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,173FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe