Friday, March 1, 2024

विषय

OpIndia

ऑपइंडिया की एडिटर-इन-चीफ नूपुर जे शर्मा और CEO राहुल रौशन के खिलाफ कार्रवाई पर सुप्रीम कोर्ट की रोक, तमिलनाडु में FIR पर मद्रास हाईकोर्ट...

सुप्रीम कोर्ट ने ऑपइंडिया के सीईओ राहुल रौशन और एडिटर नूपुर जे शर्मा को तमिलनाडु पुलिस की किसी भी कार्रवाई से 4 हफ्तों के लिए राहत दी है।

मेनस्ट्रीम मीडिया का प्रपंच बनाम ऑपइंडिया हिंदी के 4 साल: हम जानते हैं हमले और तेज होंगे, लेकिन हम भी लक्ष्य साधना को अडिग

ऑपइंडिया आपका प्लेटफॉर्म है। आपके सहयोग से ही हम यहाँ हैं। आपके साथ ही आगे बढ़ना है। आशा करते हैं कि आपका साथ और भी मजबूत होता जाएगा।

ऑपइंडिया के हिंदी अकाउंट पर अजब सा ‘बैन’! कोड है टूटा या वोक कोई रूठा? देख लो इलौन भाई

ट्विटर पर जब हम 'OpIndia' या 'ऑपइंडिया' लिख कर सर्च कर रहे हैं तो इसका आधिकारिक हैंडल दिख ही नहीं रहा है। हमारी खबरें भी सर्च करने पर नहीं मिल रहीं।

AG के पास पहुँचा TMC वाला साकेत गोखले, हमारे खिलाफ चलाना चाहता है अदालत की अवमानना का मामला: हम अपने शब्दों पर अब भी...

ऑपइंडिया की एडिटर नुपूर शर्मा के लेख की शिकायत लेकर टीएमसी नेता साकेत गोखले अटॉर्नी जनरल के पास गए हैं ताकि अदालत की अवमानना का केस चलवा सकें।

ऑपइंडिया की एडिटर इन चीफ नुपूर शर्मा को डिजिटल पत्रकारिता का ‘देवऋषि नारद सम्मान’, इस साल 12 पत्रकारों को मिला है यह अवॉर्ड

पत्रकारिता क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान देने वाले मीडियाकर्मियों को नारद पुरस्कार से सम्मानित किया जाता है। इस बार डिजिटल कैटेगरी में ये अवार्ड ऑपइंडिया एडिटर इन चीफ को मिला।

आप जलते हैं तो हम चलते हैं: 3 साल बस एक झाँकी, आपके साथ-समर्थन से वामपंथियों को कई और धक्के देने हैं बाकी

उर्जावान स्वामी विवेकानंद की जयंती पर ऑपइंडिया हिंदी की शुरुआत हुई थी। 3 साल पहले। अब तक आपके भरोसे चले, आगे भी...

हर साथी को धन्यवाद, सभी सहयोगी का आभार… आप लोगों से ही है OpIndia हिंदी

लिखने, पढ़ने, प्रभावित होने, साथ चलने, हौसला बढ़ाने, सहायता करने वाले… आप से ही बनी है OpIndia हिंदी। आपके सहारे बढ़ेंगे, लड़ेंगे, जीतेंगे।

ऑपइंडिया की एडिटर-इन-चीफ और CEO के खिलाफ बंगाल सरकार की चौथी FIR पर भी सुप्रीम कोर्ट का स्टे: पढ़िए डिटेल

ऑपइंडिया के खिलाफ पश्चिम बंगाल सरकार द्वारा की गई चौथी एफआईआर पर भी सुप्रीम कोर्ट ने रोक लगा दी है।

पाठकों तक हमारी पहुँच को रोक रही फेसबुक, मनमाने नियमों को थोप रही… लेकिन हम लड़ेंगे: ऑपइंडिया एडिटर-इन-चीफ का लेटर

हमें लगता है कि जिस ताकत का सामना हमें करना पड़ रहा है, वह लगभग हर हफ्ते हम पर पूरी ताकत के साथ हमला बोलती है। हम लड़ेंगे। लेकिन हम अपनी मर्यादा के साथ लड़ेंगे और अपने सम्मान को बरकरार रखेंगे।

ऑपइंडिया के पाठकों के नाम सम्पादक का पत्र: आशा है 2021, 2020 जैसा न हो!

ऑपइंडिया सिर्फ पत्रकारिता नहीं है, यह एक मुहिम है जो सनातन आस्था की प्रतिरक्षा के लिए है। यह सिर्फ रिपोर्टिंग का काम नहीं है, बल्कि वामपंथियों के कैंसरकारी नैरेटिव को काटने के लिए अपना नैरेटिव बनाने का काम है।

ताज़ा ख़बरें

प्रचलित ख़बरें

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
418,000SubscribersSubscribe