Wednesday, July 24, 2024
Homeसोशल ट्रेंडऑपइंडिया के हिंदी अकाउंट पर अजब सा 'बैन'! कोड है टूटा या वोक कोई...

ऑपइंडिया के हिंदी अकाउंट पर अजब सा ‘बैन’! कोड है टूटा या वोक कोई रूठा? देख लो इलौन भाई

OpIndia के अंग्रेजी हैंडल समेत कई मिलते-जुलते हैंडल सर्च में सजेशन में दिख रहे हैं, लेकिन हमारा हिंदी हैंडल नहीं। देख लीजिए:

जब एलन मस्क ने माइक्रो ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म ट्विटर को नहीं खरीदा था, तब भारत में कई दक्षिणपंथियों ने ये महसूस किया था कि उनके हैंडल को ‘शैडो बैन’ कर दिया जा रहा है। ‘शैडो बैन’, अर्थात फॉलोवर्स को उस हैंडल के ट्वीट्स न दिखना या बहुत कम दिखना। अब एलन मस्क ने ट्विटर को खरीद लिया है, जिसके बाद चीजें काफी बदली हैं। हालाँकि, अब ऑपइंडिया हिंदी का हैंडल ट्विटर के किसी ‘तकनीकी लोचे’ का शिकार बनता दिख रहा है।

या फिर कौन कहे कि ये अंदर ही अंदर किसी अधिकारी या अधिकारियों के समूह की साजिश हो, क्योंकि हालिया ‘ट्विटर फाइल्स’ में हमने देखा है कि कैसे डोनाल्ड ट्रम्प के ट्विटर हैंडल को बैन करने से लेकर जो बायडेन के बेटे हंटर के कारनामों को छिपाने तक, ट्विटर के अधिकारियों का एक समूह साजिशन ऐसी चीजों को अंजाम दे रहा था। विजय गड्डे (जिनकी अब छुट्टी हो गई है) जैसों का रवैया तो चर्चा में था ही। कश्मीर और पाकिस्तान पर भी ट्विटर के अधिकारियों का भारत विरोधी रवैया दिखा था।

अब आपको बताते हैं कि असल में हुआ क्या है। ट्विटर पर जब हम ‘OpIndia’ या ‘ऑपइंडिया’ लिख कर सर्च कर रहे हैं तो इसका आधिकारिक हैंडल दिख ही नहीं रहा है। क्या ये किसी प्रकार का बैन है? या फिर ‘तकनीकी खामी’? या फिर भारत विरोधी अधिकारियों द्वारा जानबूझ कर हमें परेशान करने के लिए की गई साजिश? OpIndia के अंग्रेजी हैंडल समेत कई मिलते-जुलते हैंडल सर्च में सजेशन में दिख रहे हैं, लेकिन हमारा हिंदी हैंडल नहीं। देख लीजिए:

‘OpIndia’ लिख कर सर्च किया, लेकिन हमारे हिंदी वाले हैंडल का कोई अता-पता नहीं

यहाँ तक कि हम अपने हैंडल का यूजरनेम, जो कि ‘OpIndia_In’ है, ये लिख कर सर्च कर रहे हैं फिर भी नीचे सजेशन में हमारा हिंदी हैंडल नहीं दिख रहा है। जब हमने हमारे एक यूआरएल को पेस्ट कर के सर्च किया, तब भी हमारा कोई लिंक नहीं मिला। जैसे, इस खबर को ले लीजिए – ‘अपने सारे मेडिकल बिल खुद भरते हैं PM मोदी: RTI से खुलासा – सरकारी खजाने से एक रुपया भी अपने स्वास्थ्य पर खर्च नहीं किया’।

हमारी खबर का यूआरएल डालने पर ट्विटर पर मिल ही नहीं रहा

हमने इस खबर को सोमवार (9 दिसंबर, 2022) को शाम 6:09 बजे शेयर किया था, लेकिन इसका यूआरएल सर्च करने पर हमें वो ट्वीट दिखा ही नहीं। अब इस खबर को लीजिए – ‘3000+ Km चले, पर बुद्धि वही बाइस पसेरी: ‘सर्दी से डरते हो’ से लेकर ‘देश पुजारियों का नहीं’, राहुल गाँधी का कहा भारत की ही समझ से परे’। ये हमें ट्विटर पर ट्वीट कर रखा है, लेकिन सर्च करने पर हमें दूसरे लोगों द्वारा शेयर की गई हमारी खबर तो मिल रही है, लेकिन हमारे आधिकारिक हैंडल से डाली गई ये खबर नहीं। देखिए:

दूसरों ने हमारी खबर शेयर की, वो मिल रहा लेकिन हमारे हैंडल से डाली गई ट्वीट नहीं

इसी तरह हमारी अन्य खबरों के साथ भी हो रहा है। एंड्राइड फोन में जहाँ कोई सर्च रिजल्ट नहीं दिख रहा है, आईफोन के ट्विटर एप से सर्च करने पर हमें एकाध लिंक्स मिल रहे हैं जो दूसरों ने शेयर किए हैं। ऐसे में ट्विटर के नए मालिक एलन मस्क से अपील है कि वो इस तकनीकी लोचे/साजिश का संज्ञान लें और इसे देखें। हमारे हिंदी हैंडल पर 2.40 लाख फॉलोवर्स हैं। ऐसे में हमारे हैंडल का सर्च रिजल्ट्स में न आना लोगों के एक बड़े समूह की अभिव्यक्ति की आज़ादी का हनन भी है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एंजेल टैक्स’ खत्म होने का श्रेय लूट रहे P चिदंबरम, भूल गए कौन लेकर आया था: जानिए क्या है ये, कैसे 1.27 लाख StartUps...

P चिदंबरम ने इसके खत्म होने का श्रेय तो ले लिया, लेकिन वो इस दौरान ये बताना भूल गए कि आखिर ये 'एंजेल टैक्स' लेकर कौन आया था। चलिए 12 साल पीछे।

पत्रकार प्रदीप भंडारी बने BJP के राष्ट्रीय प्रवक्ता: ‘जन की बात’ के जरिए दिखा चुके हैं राजनीतिक समझ, रिपोर्टिंग से हिला दी थी उद्धव...

उन्होंने कर्नाटक स्थित 'मणिपाल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी' (MIT) से इलेक्ट्रॉनिक एवं कम्युनिकेशंस में इंजीनियरिंग कर रखा है। स्कूल में पढ़ाया भी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -