Sunday, May 19, 2024
Homeवीडियो59 ऐप बैन करने से तिलमिलाया चीन: भारत के चीनी राष्ट्रवादियों को अजीत भारती...

59 ऐप बैन करने से तिलमिलाया चीन: भारत के चीनी राष्ट्रवादियों को अजीत भारती का जवाब | Ajeet Bharti on India’s war on China

चीन जैसे प्रसारवादी देश के लिए पैसा ही सब कुछ है। सौनिकों के मरने पर कुछ नहीं बोला और ऐप बैन होने पर तिलमिला उठा। सिर्फ ByteDance, जिसका टिकटॉक और हैलो ऐप है, को लगभग 6 बिलियन डॉलर (₹45 हजार 300 करोड़) का नुकसान हुआ है।

चीनी ऐप टिकटॉक समेत 59 बैन होने के बाद भारत में बैठे चीनी राष्ट्रवादी बोलने लगे कि ऐप बैन करने से क्या होगा? तो बता दें कि इसका इतना बड़ा फर्क पड़ा कि अपनी सेना का गुणगान करने वाले चीनी अखबार ग्लोबल टाइम्स को बयान जारी करना पड़ गया कि यह गंभीर चिंता का विषय है। इसके लिए हम भारत को WTO तक खींच कर ले जाएँगे।

चीन जैसे प्रसारवादी देश के लिए पैसा ही सब कुछ है। सौनिकों के मरने पर कुछ नहीं बोला और ऐप बैन होने पर तिलमिला उठा। सिर्फ ByteDance, जिसका टिकटॉक और हैलो ऐप है, को लगभग 6 बिलियन डॉलर (₹45 हजार 300 करोड़) का नुकसान हुआ है। ByteDance ने भारत में लगभग 7.5 करोड़ रुपए इनवेस्ट किए हैं। यहाँ पर उनकी प्रति दिन की कमाई ₹2.5 करोड़ थी। केवल ByteDance के भारत में 20 करोड़ यूजर्स हैं।

पूरा वीडियो यहाँ क्लिक कर देखें।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत भारती
अजीत भारती
पूर्व सम्पादक (फ़रवरी 2021 तक), ऑपइंडिया हिन्दी

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जिसे वामपंथन रोमिला थापर ने ‘इस्लामी कला’ से जोड़ा, उस मंदिर को तोड़ इब्राहिम शर्की ने बनवाई थी मस्जिद: जानिए अटाला माता मंदिर लेने...

अटाला मस्जिद का निर्माण अटाला माता के मंदिर पर ही हुआ है। इसकी पुष्टि तमाम विद्वानों की पुस्तकें, मौजूदा सबूत भी करते हैं।

रोफिकुल इस्लाम जैसे दलाल कराते हैं भारत में घुसपैठ, फिर भारतीय रेल में सवार हो फैल जाते हैं बांग्लादेशी-रोहिंग्या: 16 महीने में अकेले त्रिपुरा...

त्रिपुरा के अगरतला रेलवे स्टेशन से फिर बांग्लादेशी घुसपैठिए पकड़े गए। ये ट्रेन में सवार होकर चेन्नई जाने की फिराक में थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -