Wednesday, June 19, 2024
Homeवीडियोपशु अधिकारों की आड़ में क्यों हिन्दूघृणा फैला रहा PETA: अजीत भारती का सवाल...

पशु अधिकारों की आड़ में क्यों हिन्दूघृणा फैला रहा PETA: अजीत भारती का सवाल | Ajeet Bharti on Peta India Pushing Hinduphobia issue

हिन्दू पहले से ही गाय को अपनी माँ मानते हैं और पूजती भी हैं। हिन्दुओं का कोई भी पर्व ऐसा नहीं है, जिसमें जानवरों को मारने की प्रेरणा दी जाती है या फिर उनके चमड़े आदि का प्रयोग किया जाता है। जबकि बाकी धर्मों में होता है।

PETA यानी पीपल फॉर द एथिकल ट्रीटमेंट ऑफ एनिमल्स। PETA ने रक्षा बंधन पर एक होर्डिंग लगाया कि गाय को भी बहन मानो और उनकी रक्षा करो। हिन्दू पहले से ही गाय को अपनी माँ मानते हैं और पूजती भी हैं। हिन्दुओं का कोई भी पर्व ऐसा नहीं है, जिसमें जानवरों को मारने की प्रेरणा दी जाती है या फिर उनके चमड़े आदि का प्रयोग किया जाता है। जबकि बाकी धर्मों में होता है।

PETA हर हिन्दू त्योहार के समय इस तरह का प्रोपेगेंडा ले आता है। हिंदुओं से घृणा करने वाली यह संस्था जानवरों की निर्ममता से हत्या को बढ़ावा भी देती है। PETA गाय पर ऊँगली सिर्फ इसलिए उठाती है, क्योंकि ये हिन्दुओं के लिए एक प्रतीक है। ये बीफ खाने वालों को कुछ नहीं कहते, क्योंकि उनसे डरते हैं। उनके ब्रांड एम्बेसडर बीफ खाने वालों का समर्थन करते हैं।

पूरा वीडियो यहाँ क्लिक कर के देखें।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत भारती
अजीत भारती
पूर्व सम्पादक (फ़रवरी 2021 तक), ऑपइंडिया हिन्दी

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

14 फसलों पर MSP की बढ़ोतरी, पवन ऊर्जा परियोजना, वाराणसी एयरपोर्ट का विस्तार, पालघर का पोर्ट होगा दुनिया के टॉप 10 में: मोदी कैबिनेट...

पालघर के वधावन पोर्ट की क्षमता अब 298 मिलियन टन यूनिट की जाएगी। इससे भारत-मिडिल ईस्ट कॉरिडोर भी मजबूत होगा। 9 कंटेनर टर्मिनल होंगे।

किताब से बहती नदी, शरीर से उड़ते फूल और खून बना दूध… नालंदा की तबाही का दोष हिन्दुओं को देने वाले वामपंथी इतिहासकारों का...

बख्तियार खिजली को क्लीन-चिट देने के लिए और बौद्धों को सनातन से अलग दिखाने के लिए वामपंथी इतिहासकारों ने नालंदा विश्वविद्यालय को तबाह किए जाने का दोष हिन्दुओं पर ही मढ़ दिया। इसके लिए उन्होंने तिब्बत की एक किताब का सहारा लिया, जो इस घटना के 500 साल बाद लिखी गई थी और जिसमें चमत्कार भरे पड़े थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -