Wednesday, May 18, 2022
Homeवीडियोकंगना का ऑफिस BMC ने तोड़ा, बॉलीवुड गैंग चुप: अजीत भारती का वीडियो |...

कंगना का ऑफिस BMC ने तोड़ा, बॉलीवुड गैंग चुप: अजीत भारती का वीडियो | Ajeet Bharti on Kangana Ranaut’s office illegally demolished by BMC

2014 में मोदी सरकार आने के बाद से फासीवाद के आगमन की उलाहनाएँ दी जाती रहीं। हालाँकि, फासीवाद का असली मतलब क्या होता है? इसके वास्तविक मायने पूरे देश को तब पता चला, जब बीएमसी ने कंगना के कार्यालय पर कार्रवाई करके उसे ध्वस्त कर दिया और...

साल 2014 में मोदी सरकार आने के बाद से फासीवाद के आगमन की उलाहनाएँ दी जाती रहीं। कभी देश के लोकतंत्र को खतरे में बताया गया, तो कभी आपातकाल की स्थिति का ऐलान कर दिया गया। आतंकवादियों के ख़िलाफ़ कार्रवाई करने पर भी सरकार को फासिस्ट करार दिया गया।

हालाँकि, फासीवाद का असली मतलब क्या होता है? इसके वास्तविक मायने पूरे देश को तब पता चला, जब बीएमसी ने कंगना के कार्यालय पर कार्रवाई करके उसे ध्वस्त कर दिया और राज्य सरकार की संलिप्ता इसमें साफ नजर आई।

इस बीच जहाँ पूरा देश कंगना के साथ खड़ा था। वहीं, बॉलीवुड के स्टार कलाकार न केवल इस घटना पर मौन रहे बल्कि ये जानने के बावजूद कि रिया चक्रवर्ती ने स्वीकार कर लिया है कि वह ड्रग्स का लेन-देन करती थीं, उन्हें पितृसत्ता से पीड़ित महिला बताया और उनके लिए इंसाफ की माँग भी की।

पूरी वीडियो यहाँ क्लिक करके देखें

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत भारती
अजीत भारती
पूर्व सम्पादक (फ़रवरी 2021 तक), ऑपइंडिया हिन्दी

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मंदिर तोड़ा, खजाना लूटा पर हिला नहीं सके शिवलिंग: औरंगजेब के दरबारी लेखक ने भी कबूला था, शिव महापुराण में छिपा है इसका राज़

मंदिर के तोड़े जाने का एक महत्वपूर्ण प्रमाण 'मा-असीर-ए-आलमगीरी’ नाम की पुस्तक भी है। यह पुस्तक औरंगज़ेब के दरबारी लेखक सकी मुस्तईद ख़ान ने 1710 में लिखी थी।

हनुमान चालीसा के टुकड़े-टुकड़े किए, फिर जला कर फेंक दिया: पंजाब में बेअदबी की घटना, AAP सरकार निशाने पर

पंजाब में हनुमान चालीसा की बेअदबी का मामला। बठिंडा जिले हनुमान चालीसा के जले हुए पन्ने मिलने के बाद से हिन्दू संगठनों में काफी आक्रोश है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
186,629FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe