Friday, May 31, 2024
Homeवीडियोहिन्दूघृणा की फैक्ट्री है पाताल लोक: अजीत भारती का रिव्यू | Ajeet Bharti on...

हिन्दूघृणा की फैक्ट्री है पाताल लोक: अजीत भारती का रिव्यू | Ajeet Bharti on PaatalLok and Hinduphobia in Bollywood

कई फिल्मों में भगवान का अपमान किया गया। आखिर हिन्दू के भगवानों के साथ ही ऐसा क्यों होता है? किसी भी वेबसीरीज में मजहब विशेष या ईसाई के प्रतीक को गिरते हुए नहीं दिखाया जा सकता। आखिर क्यों?

पाताल लोक वेबसीरीज की पटकथा लिखने वाले ने पहले ही सोच लिया था कि किस तरह का प्रोपेगेंडा फैलाना है और फिर इसी के इर्द-गिर्द कहानी रच दी गई। इसमें कुतिया का नाम सती सावित्री होता है। ब्राह्मण कान पर जनेऊ रखकर पराई स्त्री के साथ सेक्स करता है। सभी सवर्णों को नकारात्मक दिखाया गया है। साधु को मंदिर में माँस खाते हुए दिखाया गया। एक स्त्री इसलिए पानी लेने से मना कर देती है, क्योंकि उसे समुदाय विशेष के व्यक्ति ने छुआ होता है।

एक दृश्य में भगवान नरसिंह को गिरते हुए दिखाया जाता है। इससे पहले भी कई फिल्मों में भगवान का अपमान किया गया। आखिर हिन्दू के भगवानों के साथ ही ऐसा क्यों होता है? वो इसलिए होता है क्योंकि हिन्दू बहुत ज्यादा सहिष्णु है। उसे इन सब चीजों से फर्क नहीं पड़ता है कि उनके भगवान को गिरा दिया गया है। वहीं किसी भी वेबसीरीज में मजहब विशेष या ईसाई के प्रतीक को गिरते हुए नहीं दिखाया जा सकता। आखिर क्यों?

पूरी वीडियो यहाँ क्लिक कर के देखें।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत भारती
अजीत भारती
पूर्व सम्पादक (फ़रवरी 2021 तक), ऑपइंडिया हिन्दी

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

200+ रैली और रोडशो, 80 इंटरव्यू… 74 की उम्र में भी देश भर में अंत तक पिच पर टिके रहे PM नरेंद्र मोदी, आधे...

चुनाव प्रचार अभियान की अगुवाई की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने। पूरे चुनाव में वो देश भर की यात्रा करते रहे, जनसभाओं को संबोधित करते रहे।

जहाँ माता कन्याकुमारी के ‘श्रीपाद’, 3 सागरों का होता है मिलन… वहाँ भारत माता के 2 ‘नरेंद्र’ का राष्ट्रीय चिंतन, विकसित भारत की हुंकार

स्वामी विवेकानंद का संन्यासी जीवन से पूर्व का नाम भी नरेंद्र था और भारत के प्रधानमंत्री भी नरेंद्र हैं। जगह भी वही है, शिला भी वही है और चिंतन का विषय भी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -