Friday, March 1, 2024
Homeवीडियोदिल्ली दंगों पर कपिल मिश्रा से अजीत भारती की बातचीत | Ajeet Bharti with...

दिल्ली दंगों पर कपिल मिश्रा से अजीत भारती की बातचीत | Ajeet Bharti with Kapil Mishra on Delhi Riots

कपिल मिश्रा ने कहा कि ये दंगे कट्टरपंथियों के हिंसा करने के दशकों के ट्रैक रिकॉर्ड को बताते हैं। उन्होंने सवाल किया कि आखिर कौन सी बात थी, जिसकी वजह से शाहरुख बंदूक लेकर गलियों में घूमने लगा, आईबी के अंकित शर्मा को चार सौ बार चाकुओं से गोदा गया और कॉन्स्टेबल रतन लाल को इरादतन घेरकर मार डाला गया।

दिल्ली में हुए दंगों के लिए जिस तरह से तमाम वामपंथी मीडिया कपिल मिश्रा को जिम्मेदार बताने पर तुला है, वो बताता है कि फर्जी नैरेटिव गढ़ना इनकी प्रवृत्ति रही है और ये कट्टरपंथियों के कुकृत्यों पे पर्दा डालने के लिए कुछ भी कर सकते हैं। दंगे से ठीक एक दिन पहले ताहिर हुसैन की छत पर एक ट्रक पत्थरों का जमा होना, फैसल फारुक के राजधानी स्कूल की छत पर भारी मात्रा में एसिड, पेट्रोल बम, बम बनाने का सामान जमा होना ये बताता है कि इसकी योजना काफी पहले से चल रही थी और इन लोगों ने हिन्दुओं की हत्या करने और उनके घरों-दुकानों को जलाने का मन पहले से बना लिया था।

दिल्ली दंगों पर बात करते हुए कपिल मिश्रा ने कहा कि ये दंगे कट्टरपंथियों के हिंसा करने के दशकों के ट्रैक रिकॉर्ड को बताते हैं। उन्होंने प्रदर्शनकारियों से सिर्फ सड़क को खुलवाने की बात की क्योंकि इससे वहाँ के स्थानीय लोगों को परेशानी हो रही थी। उन्होंने सवाल किया कि आखिर इसमें ऐसी कौन सी बात थी, जिसकी वजह से शाहरुख बंदूक लेकर गलियों में घूमने लगा, आईबी के अंकित शर्मा को चार सौ बार चाकुओं से गोदा गया और कॉन्स्टेबल रतन लाल को इरादतन घेरकर मार डाला गया।

पूरी वीडियो यहाँ क्लिक कर के देखें।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत भारती
अजीत भारती
पूर्व सम्पादक (फ़रवरी 2021 तक), ऑपइंडिया हिन्दी

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कॉन्ग्रेस की जीत के बाद कर्नाटक विधानसभा में लगे थे ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ के नारे, फॉरेंसिक जाँच से खुलासा: मीडिया में सूत्रों के हवाले से...

एक्सक्लूसिव मीडिया रिपोर्ट में कहा गया है कि जो फॉरेंसिक रिपोर्ट राज्य सरकार को दी गई है उसमें कन्फर्म है कि पाकिस्तान जिंदाबाद कहा गया।

सिद्धार्थ के पेट में अन्न का नहीं था दाना, शरीर पर थे घाव ही घाव: केरल में छात्र की मौत के बाद SFI के...

सिद्धार्थ आत्महत्या केस में 6 आरोपितों की गिरफ्तारी के बाद कॉलेज यूनियन अध्यक्ष के. अरुण और एसएफआई के कॉलेज ईकाई सचिव अमल इहसन ने आत्मसमर्पण कर दिया, जबकि एसएफआई से जुड़े आसिफ खान समेत 9 अन्य आरोपितों की तलाश पुलिस कर रही है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
418,000SubscribersSubscribe