Wednesday, June 19, 2024
Homeवीडियोबिहार के किसान क्यों नहीं करते प्रदर्शन? | Why are Bihar farmers absent in...

बिहार के किसान क्यों नहीं करते प्रदर्शन? | Why are Bihar farmers absent in Delhi protests?

हमारा उद्देश्य अलग-अलग कृषि जानकारों व किसानों से बात करके यह जानना है कि आखिर यहाँ किसानों की समस्या क्या है। क्यों इतनी परेशानियों के बावजूद भी यहाँ का किसान आंदोलन नहीं करता? और क्यों बाढ़ जैसी समस्याओं से प्रभावित होने के बाद भी इस जगह को छोड़ कर नहीं जाता?

कृषक आंदोलन के दौरान ऑपइंडिया इस हफ्ते आपके बीच लेकर आ रहा बिहार के किसानों की स्थिति। हमारा उद्देश्य अलग-अलग कृषि जानकारों व किसानों से बात करके यह जानना है कि आखिर यहाँ किसानों की समस्या क्या है। क्यों इतनी परेशानियों के बावजूद भी यहाँ का किसान आंदोलन नहीं करता? और क्यों बाढ़ जैसी समस्याओं से प्रभावित होने के बाद भी इस जगह को छोड़ कर नहीं जाता?

इसी क्रम में ऑपइंडिया संपादक अजीत भारती आज शंभू शरण शर्मा से बात कर रहे हैं। शंभू एक किसान हैं और लंबे समय से कृषि से जुड़े हैं। वह बेगूसराय इलाके की भौगोलिक स्थिति की जानकारी विस्तार से देते हुए बताते हैं कि छोटे जोत में भिन्न-भिन्न तरह की फसल पैदा करना उन लोगों की मजबूरी है। छोटे जोतदार होने के कारण उन्हें छोटे व्यापारियों के हाथ में अपना गल्ला मनमाने रेट पर बेच देना पड़ता है।

वह अन्य परेशानियों की चर्चा करने के बावजूद दिल्ली में हो रहे ‘आंदोलन’ को राजनीति से प्रेरित कहते हैं। वह बताते हैं कि बिहार में लोग सरकार के भरोसे एक उम्मीद में हैं कि वो व्यवस्था को सुधार देंगे।

पूरा वीडियो इस लिंक पर क्लिक करके देखें

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत भारती
अजीत भारती
पूर्व सम्पादक (फ़रवरी 2021 तक), ऑपइंडिया हिन्दी

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

14 फसलों पर MSP की बढ़ोतरी, पवन ऊर्जा परियोजना, वाराणसी एयरपोर्ट का विस्तार, पालघर का पोर्ट होगा दुनिया के टॉप 10 में: मोदी कैबिनेट...

पालघर के वधावन पोर्ट की क्षमता अब 298 मिलियन टन यूनिट की जाएगी। इससे भारत-मिडिल ईस्ट कॉरिडोर भी मजबूत होगा। 9 कंटेनर टर्मिनल होंगे।

किताब से बहती नदी, शरीर से उड़ते फूल और खून बना दूध… नालंदा की तबाही का दोष हिन्दुओं को देने वाले वामपंथी इतिहासकारों का...

बख्तियार खिजली को क्लीन-चिट देने के लिए और बौद्धों को सनातन से अलग दिखाने के लिए वामपंथी इतिहासकारों ने नालंदा विश्वविद्यालय को तबाह किए जाने का दोष हिन्दुओं पर ही मढ़ दिया। इसके लिए उन्होंने तिब्बत की एक किताब का सहारा लिया, जो इस घटना के 500 साल बाद लिखी गई थी और जिसमें चमत्कार भरे पड़े थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -