Saturday, September 25, 2021
Homeहास्य-व्यंग्य-कटाक्षनीरज चोपड़ा से छिन जाएगा गोल्ड मेडल? गलत निशाने पर लगा था भाला, पावरफुल...

नीरज चोपड़ा से छिन जाएगा गोल्ड मेडल? गलत निशाने पर लगा था भाला, पावरफुल लोगों ने की शिकायत

नीरज चोपड़ा मोदी या देश का समर्थक हो सकता है, लेकिन उसे जैवलिन फेंकने पर ध्यान देना चाहिए था। ये जो समय-समय पर उसने ट्वीट फेंका था, शास्त्रों में उसे ही दिशाभटकम भाला कहा गया है, ऐसा भाला जो...

भारत के छोरे ने टोक्यो में लठ गेर दी भाई! पूरी दुनिया में डंका बजा दिओ भाले से। ऋतिक रोशन जैसे लंबे बाल में छोरा सेक्सी भी लागे हे। हँसी एकदम गोविंदा सी हे, ताकत धर्मेंद्र सी।

सोशल मीडिया पर कुछ ऐसा ही चल रहा है। लड़कियों के कुछ पोस्ट असंसदीय भाषा (अश्लील कैटिगरी भी कह सकते हैं) वाले भी देखे गए। इसमें गलत कुछ भी नहीं। लड़का जवान है, विपरीत लिंग वाला है और सबसे बड़ी बात – Why should boys have all the fun?

खैर! सोशल मीडिया पर ही एक खबर और दिख गई। खबर भारत के लिए बुरी हो सकती है। खबर के पीछे पावरफुल लोगों का हाथ बताया गया है। शीर्षक था – गलत निशाने के बाद भी नीरज चोपड़ा को क्यों मिला गोल्ड मेडल? खबर के भीतर था – ओलंपिक वालों से कर दी गई है शिकायत।

नीरज चोपड़ा मेरा कोई नहीं। मेरा राज्य भी अलग है, जाति भी। लेकिन… खबर के कारण मेरी नींद उड़ गई है। क्यों? क्योंकि मैं भारतीय हूँ। खबर के कारण मेरा चैन खो गया है। क्यों? क्योंकि जिन लोगों (पावरफुल) ने ओलंपिक वालों के पास शिकायत की है, वो इंडिया के ही हैं। कैसे भारतीय हैं, आप सोच सकते हैं!

OK. काम की बात करते हैं। नीरज ने जैवलिन फेंका। ओलंपिक वालों ने देखा। गोल्ड मेडल दिया। कोई बवाल नहीं। लेकिन एक चूक कर दी ओलंपिक वालों ने। चूक जो इन पावरफुल इंडियंस ने नहीं की। पूरे स्टेडियम से सिर्फ एक एंगल से लिया गया वीडियो ओलंपिक वालों को भेजा। क्यों? क्योंकि इसी एक एंगल से नीरज का जैवलिन गलत जगह घुसता वीडियो में साफ-साफ दिख गया।

ऊपर का वीडियो अगर देख चुके तो समझिए कि दर्द कितना हो रहा होगा। इंडियन हों या पाकिस्तानी… गलत जगह भाला चला जाए तो दर्द होना लाजिमी है। लिबरल, वामपंथी, मोदी-विरोधी आदि कह कर उनके दर्द को कम मत आँकिए। प्लीज!

और हाँ! नीरज चोपड़ा मोदी या देश (जिसे हम भारत कहते हैं, पावरफुल लोग इंडिया) का समर्थक हो सकता है, लेकिन उसे जैवलिन फेंकने पर ध्यान देना चाहिए था। ये जो समय-समय पर उसने ट्वीट फेंका था, शास्त्रों में उसे ही दिशाभटकम भाला कहा गया है, यह बिना वजह बतकुच्चन करने वालों के अंदर कहीं भी-कभी भी घुस जाता है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

चंदन कुमारhttps://hindi.opindia.com/
परफेक्शन को कैसे इम्प्रूव करें 🙂

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कहीं स्तनपान करते शिशु को छीन कर 2 टुकड़े किए, कहीं बार-बार रेप के बाद मरी माँ की लाश पर खेल रहा था बच्चा’:...

एक शिशु अपनी माता का स्तनपान कर रहा था। मोपला मुस्लिमों ने उस बच्चे को उसकी माता की छाती से छीन कर उसके दो टुकड़े कर दिए।

‘तुम चोटी-तिलक-जनेऊ रखते हो, मंदिर जाते हो, शरीयत में ये नहीं चलेगा’: कुएँ में उतर मोपला ने किया अधमरे हिन्दुओं का नरसंहार

केरल में जिन हिन्दुओं का नरसंहार हुआ, उनमें अधिकतर पिछड़े वर्ग के लोग थे। ये जमींदारों के खिलाफ था, तो कितने मुस्लिम जमींदारों की हत्या हुई?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,198FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe