Saturday, October 16, 2021
Homeफ़ैक्ट चेकमीडिया फ़ैक्ट चेकUPI ट्रांजैक्शन में नहीं आएगा कोई अतिरिक्त खर्चा: मीडिया के झूठ की PIB ने...

UPI ट्रांजैक्शन में नहीं आएगा कोई अतिरिक्त खर्चा: मीडिया के झूठ की PIB ने खोली पोल, जानें क्या है पूरा मामला

मीडिया के इसी दावे को खारिज करते हुए सरकार ने किसी भी यूपीआई ट्रांजैक्शन के चार्ज में हुई बढ़ोतरी से इंकार किया है। पीआईबी ने अपने फैक्ट चेक में स्पष्ट किया है कि NPCI की ओर से ऐसा कोई निर्णय नहीं लिया गया है।

नया साल आने से पहले मीडिया खबरों में सरकार द्वारा किए नए बदलावों के बारे में चर्चा होनी शुरू हो जाती है। फर्क़ यदि जनता की जेब पर पड़े तो ऐसी खबरों को बढ़ चढ़ कर कवर भी किया जाता है। कुछ ऐसा ही 2-3 दिन पहले हुआ। 

अधिकतर हिंदी वेबसाइट्स पर ऐसी खबर प्रकाशित की गई जिसमें दावा था कि नए साल में UPI ट्रांजैक्शन महँगा होने वाला है और यदि थर्ड पार्टी एप्स से पेमेंट की गई तो अतिरिक्त चार्ज लगेगा।

खबरों में दावे की पुष्टि के लिए NPCI के फैसले का हवाला दिया गया और कहा गया कि NPCI ने एक जनवरी से यूपीआई के जरिए पेमेंट के लिए अतिरिक्त चार्ज लगाने का फैसला लिया है।

विभिन्न रिपोर्टों में कहा गया कि एनपीसीआई ने नए साल पर थर्ड पार्टी एप पर 30 फीसदी का कैप लगा दिया है। इसका उद्देश्य भविष्य में किसी भी थर्ड पार्टी ऐप की मोनोपॉली रोकने और साइज के हिसाब से उसे मिलने वाले खास फायदे को रोकने के लिए किया गया है।

आगे खबरों में ये भी कहा गया डिजिटल पेमेंट करने वाले ग्राहकों को फोनपे, गूगलपे, एमेजॉन पे जैसे थर्ड पार्टी ऐप्स से पेमेंट करने पर एक्सट्रा चार्ज देना होगा। हालाँकि, पेटीएम जैसे ऐप पर एनसीपीआई ने कोई एक्स्ट्रा चार्ज नहीं लगाया है।

अब मीडिया के इसी दावे को खारिज करते हुए सरकार ने किसी भी यूपीआई ट्रांजैक्शन के चार्ज में हुई बढ़ोतरी से इंकार किया है। पीआईबी ने अपने फैक्ट चेक में स्पष्ट किया है कि NPCI की ओर से ऐसा कोई निर्णय नहीं लिया गया है। लेकिन मीडिया रिपोर्ट्स बता रही हैं कि थर्ड पार्टी एप से ट्रांजैक्शन करने पर अतिरिक्त चार्ज लगेगा।

पीआईबी फैक्ट चेक ने अपने ट्विटर पर लिखा, “यह दावे गलत हैं। NPCI की ओर से ऐसा कोई निर्णय नहीं लिया गया है।” इसके अलावा NPCI ने भी अपनी ओर से कहा, “NPCI यह स्पष्ट करना चाहता है कि जो खबरें आ रही हैं कि UPI ट्रांजैक्शन पर 1 जनवरी 2021 से अतिरिक्त चार्ज लगेगा, वो पूर्णत: फर्जी है। 5 नवंबर को जारी की गई हमारी प्रेस रिलीज मेें कीमत या चार्ज से जुड़ा कुछ भी नहीं है।”

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बांग्लादेश में 10 साल की हिंदू बच्ची की मौत, जुमे की नमाज के बाद हुआ था गैंगरेप: मौसी और नानी से भी दुष्कर्म, उलटे...

10 साल की मासूम के साथ कट्टरपंथियों की भीड़ ने रेप किया था। अब खबर है कि ज्यादा खून बह जाने से उसकी जान चली गई।

गहलोत सरकार में मदरसों की बल्ले-बल्ले, मिलेगा 25-25 लाख रुपए का ‘दीवाली बोनस’, BJP का तंज – ‘जनता के टैक्स का सदुपयोग’

राजस्थान में मुख्यमंत्री मदरसा आधुनिकीकरण योजना के तहत मदरसों के लिए मुस्लिमों को 25 लाख रुपए तक की राशि सरकार देगी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
128,973FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe