Friday, April 19, 2024
Homeफ़ैक्ट चेकसोशल मीडिया फ़ैक्ट चेकगाय चोरी के शक में हिंदू भीड़ ने 28 साल के मुस्लिम व्यक्ति को...

गाय चोरी के शक में हिंदू भीड़ ने 28 साल के मुस्लिम व्यक्ति को मार डाला: वायरल खबर का Fact Check

ऑस्ट्रेलियाई लेखक सीजे वर्लमैन ने 'द वायर' की खबर शेयर करते हुए लिखा कि एक 28 साल के मुस्लिम व्यक्ति की 'हिंदुत्व भीड़' ने हत्या कर दी, वो भी गायों की चोरी का झूठा आरोप लगा कर।

सोशल मीडिया पर कुछ तत्व लगातार हिन्दुओं और हिन्दू धर्म को बदनाम करने की जुगत में लगे रहते हैं और इसी क्रम में झूठी खबरें शेयर कर के ऐसा दिखाया जाता है जैसे हिन्दुओं ने मुस्लिमों की हत्या कर दी हो। अब सोशल मीडिया पर असम के तीनसुकिया जिले की एक घटना वायरल हो रही है, जहाँ एक व्यक्ति को जानवरों की चोरी के शक में भीड़ ने पीटा, जिसके बाद उसकी मौत हो गई। फिर क्या था, गिरोह विशेष को एक नैरेटिव मिल गया।

ऑस्ट्रेलियाई लेखक सीजे वर्लमैन ने ‘द वायर’ की खबर शेयर करते हुए लिखा कि एक 28 साल के मुस्लिम व्यक्ति की ‘हिंदुत्व भीड़’ ने हत्या कर दी, वो भी गायों की चोरी का झूठा आरोप लगा कर। वर्लमैन ने हाल ही में लिखा था, “मैं ICC वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल मैच में न्यूजीलैंड का समर्थन कर रहा हूँ। ऐसा इसीलिए, क्योंकि 50 करोड़ हिंदुत्व कट्टरपंथियों को मैं एक सेकेंड के लिए भी खुश नहीं देख सकता।”

सीजे वर्लमैन ने ‘द वायर’ की खबर शेयर कर चलाया प्रोपेगंडा

इसी तरह कुछ अन्य लोगों ने भी ऐसी ही खबर चलाई। इसके आधार पर ‘मुस्लिमों पर अत्याचार’ और ‘हिंदुत्व मॉब की क्रूरता’ वाला नैरेटिव फैलाया गया। वामपंथी मीडिया पोर्टलों में अपनी हैडिंग में भी स्पष्ट किया कि पूरा मामला क्या है। असल में मृतक की उम्र भी 28 वर्ष नहीं थी, उसकी उम्र 34 वर्ष है। ऊपर से सच्चाई ये है कि मृतक मुस्लिम भी नहीं था। उसका नाम शरत मोरन था, जो हिन्दू धर्म से था।

ये घटना शनिवार (जून 12, 2021) की है। ये घटना बाघजन पुलिस थानांतर्गत स्थित कोरजोंगा गाँव की है। उसे पुलिस ने बचा कर दुमदुमा के FRU अस्पताल में शिफ्ट किया, जहाँ उसकी मौत हो गई। मृतक कोर्दोईगूरी गाँव का रहने वाला है। तीनसुकिया के एसपी देबोजीत देओरी ने बताया कि ये चोरी के आरोप में लोगों के शक का नतीजा है। मृतक के शरीर पर कटे के कई निशान पाए गए। इस मामले में FIR दर्ज कर ली गई है।

गाँव में दो लोगों की संदिग्ध गतिविधियों से ग्रामीणों में शक पैदा हुआ, जिसके बाद उन्होंने इन दोनों की खोज शुरू कर दी। ग्रामीणों ने दोनों को खदेड़ कर उनमें से एक को पकड़ लिया और उसकी पिटाई की। पीड़ित अपने एक दोस्त के यहाँ रात में रुका हुआ था। रात में ही उसे पकड़ लिया गया और रात भर बाँध कर एक कमरे में रखा गया। भीड़ ने उसे प्रताड़ित भी किया। लेकिन, न वो मुस्लिम था और न ही ये घटना सांप्रदायिक थी।

​अक्सर हिंदू घृणा से सने ट्वीट करने वाले और इस्लामी समर्थक सीजे वर्लमैन के ऊपर शेखर गुप्ता की वेबसाइट द प्रिंट ने प्रोफाइल किया, उसे एक पत्रकार के रूप में घोषित किया। सच्चाई यह है कि सीजे वर्लमैन एक स्तंभकार है और जगह-जगह अपने लेख छपवाता है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लोकसभा चुनाव 2024: पहले चरण में 60+ प्रतिशत मतदान, हिंसा के बीच सबसे अधिक 77.57% बंगाल में वोटिंग, 1625 प्रत्याशियों की किस्मत EVM में...

पहले चरण के मतदान में राज्यों के हिसाब से 102 सीटों पर शाम 7 बजे तक कुल 60.03% मतदान हुआ। इसमें उत्तर प्रदेश में 57.61 प्रतिशत, उत्तराखंड में 53.64 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया।

कौन थी वो राष्ट्रभक्त तिकड़ी, जो अंग्रेज कलक्टर ‘पंडित जैक्सन’ का वध कर फाँसी पर झूल गई: नासिक का वो केस, जिसने सावरकर भाइयों...

अनंत लक्ष्मण कन्हेरे, कृष्णाजी गोपाल कर्वे और विनायक नारायण देशपांडे को आज ही की तारीख यानी 19 अप्रैल 1910 को फाँसी पर लटका दिया गया था। इन तीनों ही क्रांतिकारियों की उम्र उस समय 18 से 20 वर्ष के बीच थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe