Tuesday, November 30, 2021
Homeफ़ैक्ट चेकसोशल मीडिया फ़ैक्ट चेकरूस में लोगों को घर में रखने के लिए पुतिन ने सड़क पर छोड़े...

रूस में लोगों को घर में रखने के लिए पुतिन ने सड़क पर छोड़े 500 शेर? कोरोना से बचाव के लिए लिया फ़ैसला?

जैसे ही इस पोस्ट को ट्विटर पर डाला गया, लोगों ने इसे लेकर चर्चा शुरू कर दी। कई लोग इस फेक ख़बर के झाँसे में आ भी गए। जहाँ एक तरफ कुछ लोगों ने पुतिन की आलोचना करते हुए पूछा कि अगर शेर ने किसी बच्चे को नुकसान पहुँचाया तो, वहीं दूसरी तरफ कुछ लोगों ने इसे एक 'साहसी निर्णय' बताते हुए इसकी तारीफ की। जबकि....

एक तस्वीर को ब्रेकिंग न्यूज़ बता कर शेयर किया जा रहा है। इसमें सड़क पर एक शेर घूमता हुआ दिख रहा है। बताया जा रहा है कि रूस के राष्ट्रपति ब्लादिमिस पुतिन ने लोगों को घर में रखने के लिए ये तरीका आजमाया है। तस्वीर के साथ कहा जा रहा है कि कोरोना वायरस के बढ़ते ख़तरे के मद्देनज़र लोग सेल्फ-क्वारंटाइन में रहें, इसीलिए पुतिन ने लोगों के भीतर डर बैठाने के लिए ये तरीका आजमाया है। ये भी दावा किया जा रहा है कि रूस में ऐसे 500 शेर सड़कों पर खुले छोड़ दिए गए हैं।

इस तस्वीर को ऐसा बनाया गया है ताकि देख कर प्रतीत हो कि ये किसी टीवी न्यूज़ चैनल पर चल रहे ‘लाइव’ न्यूज़ का स्क्रीनग्रैब है। बता दें कि रूस में ऐसा कुछ भी नहीं किया गया है और न ही ऐसा कुछ करने का निर्णय लिया गया है। जो तस्वीरें शेयर की जा रही हैं, वो दक्षिण अफ्रीका स्थित जोहान्सबर्ग की है। ये तस्वीरें ताज़ी भी नहीं हैं। ये 2016 की है। इस वायरल पोस्ट को एक मोबाइल ऐप के जरिए बनाया गया है। आप देख सकते हैं कैसे इस पोस्ट को शेयर कर के लोगों को भ्रमित किया जा रहा है:

जैसे ही इस पोस्ट को ट्विटर पर डाला गया, लोगों ने इसे लेकर चर्चा शुरू कर दी। कई लोग इस फेक ख़बर के झाँसे में आ भी गए। जहाँ एक तरफ कुछ लोगों ने पुतिन की आलोचना करते हुए पूछा कि अगर शेर ने किसी बच्चे को नुकसान पहुँचाया तो, वहीं दूसरी तरफ कुछ लोगों ने इसे एक ‘साहसी निर्णय’ बताते हुए इसकी तारीफ की। जबकि या तस्वीर तो सच्ची है लेकिन इसे लेकर शेयर की जा रही ख़बर झूठी है।

दक्षिण अफ्रीका का शेर ‘कोलम्बस’ वाले तस्वीर की सच्चाई

अब इस तस्वीर की सच्चाई जानते हैं। इसे अप्रैल 15, 2016 में ‘न्यू यॉर्क टाइम्स’ ने शेयर किया था। ख़बर के अनुसार, तस्वीर में दिख रहे शेर का नाम ‘कोलंबस’ है जिसे जोहान्सबर्ग स्थित पार्क से एक फ़िल्म की शूटिंग के लिए लाया गया था। उसी दौरान उसे सड़क पर छोड़ा गया था, जो फ़िल्म शूटिंग का ही हिस्सा था। ‘डेली मेल’ ने भी ये ख़बर उस दिन शेर कोलम्बस की तस्वीर के साथ शेयर की थी। दक्षिण अफ्रीका के स्थानीय न्यूज़ पोर्टलों ने भी इस ख़बर को प्रकाशित किया था।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,729FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe