Wednesday, July 28, 2021
Homeफ़ैक्ट चेकसोशल मीडिया फ़ैक्ट चेकFACT CHECK: स्वीडन में दंगाइयों से चर्च बचाने के लिए संप्रदाय विशेष के लोगों...

FACT CHECK: स्वीडन में दंगाइयों से चर्च बचाने के लिए संप्रदाय विशेष के लोगों ने बनाया ह्यूमन चेन? दोहराया बेंगलुरु?

हमने पाया कि ह्यूमन चेन वाली ये तस्वीर 5 साल पुरानी है। 2015 की यह तस्वीर नॉर्वे की है। ओस्लो के चर्च का समर्थन करने के लिए संप्रदाय विशेष के लोगों ने ऐसा किया था। उनका दावा था कि वो नॉर्वे के यहूदियों के साथ सहानुभूति जताने के लिए ऐसा कर रहे हैं।

सोशल मीडिया पर एक तस्वीर वायरल हो रही है, जिसे स्वीडन का बताया जा रहा है। इस तस्वीर में कुछ लोग ह्यूमन चेन बनाए दिख रहे हैं। इसे शेयर करते हुए लोग पूछ रहे हैं कि ये असली है या फिर फॉटोशॉप? बता दें कि स्वीडन में हाल ही में हुए दंगों को लेकर लोग ये पूछ रहे थे कि क्या अभी तक बेंगलुरु की तरह संप्रदाय विशेष के लोगों ने ह्यूमन चेन नहीं बनाया या फिर मीडिया में इस तरह की खबर नहीं चली, जिससे दंगाइयों की करतूतें और पहचान छिपाई जा सके।

ज्ञात हो कि हाल ही में बेंगलुरु में हुए हिन्दू-विरोधी दंगों में संप्रदाय विशेष की भीड़ ने जम कर उत्पात मचाया था। पैगंबर मुहम्मद का अपमान करने का आरोप लगाते हुए एक कॉन्ग्रेस विधायक के घर को घेर लिया गया था और जम कर आगजनी व पत्थरबाजी की गई थी। इसके बाद मीडिया में इस तरह की खबरें जम कर चली थीं कि कैसे कुछ संप्रदाय विशेष के लोगों ने ह्यूमन चेन बना कर एक मंदिर को बचाया। हालाँकि, मीडिया के हिसाब से बचाने वालों का तो मजहब था, लेकिन जिनसे वो मंदिर को बचा रहे थे, उनका कोई मजहब नहीं था।

ठीक इसी तरह, स्वीडन के बारे में भी ऐसा ही दावा करते हुए तस्वीर वायरल हुई। ये तस्वीर किसी अब्दुल हमीद के फ़ेसबुक पोस्ट की स्क्रीनशॉट के रूप में है, जिसके बारे में कहा गया है कि ये एडिटेड भी हो सकती है। इस पोस्ट में लिखा हुआ है कि स्वीडन में चर्चों को भीड़ से बचाने के लिए संप्रदाय विशेष के लोगों ने ह्यूमन चेन बनाया है। साथ ही ये सवाल भी पूछा गया है कि क्या आपने कभी यहूदी, ईसाई या हिन्दू को मस्जिदों को बचाते हुए देखा है?

साथ ही इस फ़ेसबुक पोस्ट में दावा किया गया है कि ऐसा इसीलिए होता है क्योंकि इस्लाम दुनिया का सबसे शांतिपूर्ण मजहब है और जब तक पूरी दुनिया इस्लाम नहीं अपनाएगी, तब तक विश्व में शांति नहीं आ सकती। अब्दुल हामिद के इस स्क्रीनशॉट को शेयर करते हुए ट्विटर हैंडल ‘सूपस्टार राज’ ने पूछा कि क्या ये सच में हुआ है या फिर किसी ने तस्वीर के साथ छेड़छाड़ की है? जब हमने इस तस्वीर को खँगाला तो कुछ और सच्चाई सामने आई।

जब हमने इसका फैक्ट-चेक किया तो पाया कि ह्यूमन चेन वाली ये तस्वीर 5 साल पुरानी है। 2015 की यह तस्वीर नॉर्वे की है। ओस्लो के चर्च का समर्थन करने के लिए संप्रदाय विशेष के लोगों ने ऐसा किया था। उनका दावा था कि वो नॉर्वे के यहूदियों के साथ सहानुभूति जताने के लिए ऐसा कर रहे हैं। इस ‘रिंग ऑफ पीस’ में करीब 1000 संप्रदाय विशेष के लोगों ने भाग लिया था। ये वही संप्रदाय विशेष के लोग थे, जो फिलिस्तीन का समर्थन करते हुए इजरायल को गाली देते हैं। दिलचस्प यह है कि स्वीडन में हिंसा और आगजनी के अगले दिन संप्रदाय विशेष के लोगों ने ओस्लो में भी दंगे किए थे।

मीडिया हमेशा ऐसी किसी भी घटना में हमलावरों के मजहब को छिपाने के लिए ऐसी खबर बनाता है, जिससे पता चले कि किसी खास मजहब के लोग मानवता के लिए कितना अच्छा काम कर रहे हैं और दंगों के दौरान भी समाजसेवा में लगे रहे। इसके लिए मंदिरों को बचाने के लिए ह्यूमन चेन बनाने या फिर महिलाओं-बच्चों की सुरक्षा करते हुए संप्रदाय विशेष के लोगों को दिखाया जाता है और सैकड़ों की भीड़ द्वारा की गई हिंसा को छिपाने की कोशिश की जाती है।

बता दें कि बेंगलुरु दंगों के दौरान बने ह्यूमन चेन का भी एक वीडियो वायरल हुआ था, जिससे ऐसा लग रहा था कि ये सब पब्लिसिटी के लिए किया जा रहा है। बाद में एक और वीडियो सामने था। इसमें वीडियो शूट करने वाले व्यक्ति को बैकग्राउंड से किसी को ये कहते हुए सुना जा सकता है कि इसे ‘जल्दी से अपलोड करे।’

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बिहारियों के पास ज्यादा दिमाग नहीं होता’: तमिलनाडु के मंत्री KN नेहरू, DMK ने प्रशांत किशोर को बनाया था रणनीतिकार

तमिलनाडु के मंत्री व सत्ताधारी पार्टी DMK नेता KN नेहरू ने सरकारी नौकरियों को लेकर कहा कि बिहारियों के पास हमारी तरह ज्यादा दिमाग नहीं होता।

बसवराज बोम्मई ने ली कर्नाटक CM की शपथ, ‘जंजीर’ देख रहे थे पिता जब मिली थी मुख्यमंत्री चुने जाने की खबर

भाजपा नेता बसवराज बोम्मई (Basavaraj Bommai) ने बुधवार (28 जुलाई, 2021) को कर्नाटक के नए मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली। जानिए उनके बारे में।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,580FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe