Sunday, July 25, 2021
Homeदेश-समाज219 साल से तारीख़ पे तारीख़, भारत का सबसे पुराना केस 1800 में हुआ...

219 साल से तारीख़ पे तारीख़, भारत का सबसे पुराना केस 1800 में हुआ था दर्ज़

आखिरी सुनवाई 20 नवंबर 2018 को - कलकत्ता हाई कोर्ट में भी पिछले 48 साल से मिली तारीख़ पे तारीख़!

कलकत्ता हाई कोर्ट बना 1862 में। लेकिन यहां के सबसे पुराने पेंडिंग केस की बात करें तो यह लगभग 219 साल पुराना है। चौंक गए! लाज़िमी भी है। क्योंकि जिस पेंडिंग केस AST/1/1800 की बात यहाँ की जा रही है, वो साल 1800 में दर्ज़ की गई थी। यह आंकड़ा सरकारी है – नेशनल जूडिशियल डेटा ग्रिड का।

साल 1800 में दर्ज़ ‘ऐतिहासिक’ केस

कलकत्ता हाई कोर्ट भारत का पहला हाई कोर्ट था। 1 जुलाई 1862 में जब इसकी स्थापना हुई, तब इसे फोर्ट विलियम हाई कोर्ट के नाम जाना जाता था। इसका मतलब यह हुआ कि जिस ‘ऐतिहासिक’ केस AST/1/1800 की बात इस ख़बर में की जा रही है, वो साल 1800 में किसी लोअर कोर्ट में दर्ज़ की गई होगी।

निचली अदालतों में लगभग 170 साल ख़ाक छानने के बाद 1 जनवरी 1970 को यह ‘ऐतिहासिक’ केस AST/1/1800 कलकत्ता हाई कोर्ट में रजिस्टर किया गया। अफ़सोस, हाई कोर्ट में भी इसे पिछले 49 साल से तारीख़ पे तारीख़ ही नसीब हुई। इस केस में आखिरी सुनवाई 20 नवंबर 2018 को हुई थी।

कलकत्ता हाई कोर्ट में भी पिछले 49 साल केस पर फैसला नहीं

नेशनल जूडिशियल डेटा ग्रिड (NJDG) एक सरकारी वेबसाइट है। यहाँ देश भर की अदालतों के पेंडिंग केसों की जानकारी आपको एक क्लिक पर उपलब्ध हो जाती है।

NJDG के चौंकाने वाले आंकड़े:

  • देश भर की कुल पेंडिंग केसों की संख्या 2.94 करोड़
  • देश की 24 हाई कोर्ट में करीब 49 लाख केस पेंडिंग
  • 2.44 लाख पेंडिंग केस के साथ कलकत्ता हाई कोर्ट सबसे ऊपर
  • देश की सभी हाई कोर्ट में 10 लाख से ज्यादा केस, जो 10-30 साल से पेंडिंग
  • सभी केसों को खत्म होने में लगेंगे 324 साल (सरकारी सर्वे)

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

चंदन कुमारhttps://hindi.opindia.com/
परफेक्शन को कैसे इम्प्रूव करें 🙂

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘अपनी ही कब्र खोद ली’: टाइम्स ऑफ इंडिया ने टोक्यो ओलंपिक में भारतीय तीरंदाजी टीम की हार का उड़ाया मजाक

दक्षिण कोरिया के किम जे ड्योक और आन सन से हारने के बाद टाइम्स ऑफ इंडिया ने दावा किया कि भारतीय तीरंदाजी टीम औसत से भी कम थी और उन्होंने विरोधियों को थाली में सजाकर जीत सौंप दी।

‘सचिन पायलट को CM बनाओ’: कॉन्ग्रेस के बड़े नेताओं के सामने जम कर हंगामा, मंत्रिमंडल विस्तार से पहले बुलाई थी बैठक

राजस्थान में मंत्रिमंडल में फेरबदल से पहले ही मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और पूर्व मुख्यमंत्री सचिन पायलट के समर्थकों के बीच बहस और हंगामेबाजी हुई।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,156FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe