Wednesday, January 26, 2022
Homeबड़ी ख़बरPM मोदी ने साध्वी प्रज्ञा ठाकुर का खुलकर किया बचाव, कहा कॉन्ग्रेस को पड़ेगा...

PM मोदी ने साध्वी प्रज्ञा ठाकुर का खुलकर किया बचाव, कहा कॉन्ग्रेस को पड़ेगा महँगा

मोदी ने समझौता एक्सप्रेस ब्लास्ट के बारे में कहा कि उस केस में जाँच हुई लेकिन कुछ नहीं निकला। जज लोया जिनकी मृत्यु प्राकृतिक थी उसे कॉन्ग्रेस ने इतना लंबा खींचा और हत्या बताने का प्रयास किया।

साध्वी प्रज्ञा के भाजपा से चुनाव लड़ने को लेकर हो रहे विरोध का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मुँहतोड़ जवाब दिया है। प्रधानमंत्री ने भोपाल से साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को प्रत्याशी बनाए जाने पर कहा कि साध्वी की उम्मीदवारी कॉन्ग्रेस को महँगी पड़ने वाली है। उन्होंने राहुल गाँधी और सोनिया गाँधी को निशाने पर लेते हुए कहा कि अमेठी और रायबरेली से कॉन्ग्रेस उम्मीदवार भी जमानत पर रिहा है। इस पर कोई सवाल नहीं करता, लेकिन भोपाल की उम्मीदवार (प्रज्ञा ठाकुर) जमानत पर है, तो ये बहुत बड़ा सवाल बन गया है। उन्होंने कहा कि उन सबको जवाब देने के लिए साध्वी प्रज्ञा एक प्रतीक है और यह कॉन्ग्रेस को महँगा पड़ने वाला है।

टाइम्स नाउ को दिए एक इंटरव्यू में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि जब 1984 में इंदिरा गाँधी की मृत्यु हुई, तब उनके बेटे ने कहा था कि जब एक बड़ा पेड़ गिरता है तो पृथ्वी हिलती है। इसके बाद, हजारों सिखों का नरसंहार हुआ। क्या यह कुछ लोगों द्वारा फैलाया गया आतंक नहीं था? इसके बावजूद राजीव गाँधी को देश का प्रधानमंत्री बनाया गया। उस समय मीडिया ने कभी ऐसा सवाल नहीं पूछा, जैसा वह अब सवाल पूछ रहे हैं। सिख दंगों के आरोपितों को कॉन्ग्रेस ने बड़ा मंत्री बनाया। उनमें से एक आज मप्र का मुख्यमंत्री है। पीएम मोदी ने कहा कि एक महिला वह भी साध्वी (प्रज्ञा) को जब प्रताड़ित किया गया, तब किसी ने उँगली नहीं उठाई।

उन्होंने कहा कि वो गुजरात में रहे हैं, और वहाँ कॉन्ग्रेस के तौर-तरीकों से अच्छी तरह परिचित हैं। मोदी ने कहा कि कॉन्ग्रेस फिल्म की स्क्रिप्ट की तरह एक कहानी गढ़ने का काम करती है। पहले वो कुछ उठाते हैं, फिर उसमें कुछ जोड़ते हैं, उसके बाद अपनी कहानी के लिए एक खलनायक जोड़ते हैं, ताकि कहानी का झूठा प्रचार किया जा सके। यह कॉन्ग्रेस का ‘modus operandi’ अर्थात काम कारण एक तरीका है।

मोदी ने समझौता एक्सप्रेस ब्लास्ट के बारे में कहा कि उस केस में जाँच हुई लेकिन कुछ नहीं निकला। जज लोया जिनकी मृत्यु प्राकृतिक थी उसे भी कॉन्ग्रेस ने इतना लंबा खींचा और हत्या बताने का प्रयास किया। उन्होंने कहा कि दुनिया में 5,000 साल तक जिस महान संस्कृति और परंपरा ने ‘वसुधैव कुटुम्बकम’ का संदेश दिया, ‘सर्वे भवन्तु सुखिन: सर्वे संतु निरामया’ का संदेश दिया, जिस संस्कृति ने ‘एकम् सत् विप्रा: बहुधा वदन्ति’ का संदेश दिया, ऐसी संस्कृति को कॉन्ग्रेस ने आतंकवादी कह दिया। उन सबको जवाब देने के लिए साध्वी प्रज्ञा एक प्रतीक है और ये कॉन्ग्रेस को बहुत महँगा पड़ने वाला है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

माइनस 40 डिग्री हो या 15000 फीट की ऊँचाई… ITBP के हिमवीरों ने तिरंगा फहरा यूँ मनाया 73वाँ गणतंत्र दिवस

सीमाओं की रक्षा में तैनात भारतीय तिब्बत बॉर्डर पुलिस (ITBP) ने लद्दाख और उत्तराखंड की बर्फीली ऊँचाई वाली चोटियों में तिरंगा फहराया।

लाल किला में पेशाब से लेकर महिला पुलिस से बदतमीजी तक: याद कीजिए 26 जनवरी, 2021… जब दिल्ली में खेला गया था हिंसक खेल

आइए, याद करते हैं 26 जनवरी, 2021 (गणतंत्र दिवस) को दिल्ली में क्या-क्या हुआ था। किसान प्रदर्शनकारियों ने हिंसा के दौरान क्या-क्या किया। नेताओं-पत्रकारों ने कैसे उन्हें भड़काया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
153,622FollowersFollow
413,000SubscribersSubscribe