Sunday, June 26, 2022
Homeदेश-समाज'तलाक-ए-सुन्नत' खत्म कराने सुप्रीम कोर्ट पहुँची मुस्लिम महिला, जानिए कैसे तीन तलाक से है...

‘तलाक-ए-सुन्नत’ खत्म कराने सुप्रीम कोर्ट पहुँची मुस्लिम महिला, जानिए कैसे तीन तलाक से है अलग: दिल्ली हाई कोर्ट में एक से अधिक निकाह का मामला

तलाक-ए-सुन्नत एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमें शौहर अपनी बीवी को एक बार में तलाक न देकर उसे तीन महीनों में धीरे-धीरे देता है। इस दौरान यदि शौहर और बीवी के बीच की समस्या सुलझती है तो समझौते की गुंजाइश रहती है। इसी तरह इस्लाम में बहुविवाह भी सामान्य चीज है। इस्लामी कानून के तहत चार निकाह इस्लाम में जायज हैं।

इस्लामी प्रथाओं के कारण मुस्लिम महिलाओं के साथ होती आई नाइंसाफी के खिलाफ अब समुदाय की महिलाओं ने धीरे-धीरे आवाज उठानी शुरू की है। हाल ही की खबरें हैं कि दिल्ली हाई कोर्ट में बहुविवाह से पहले बीवी की इजाजत और सुप्रीम कोर्ट में तलाक-ए-सुन्नत को असंवैधानिक घोषित कराने के लिए याचिका डाली गईं थीं। दिलचस्प बात ये है कि ये याचिकाएँ उसी दौरान चर्चा में आईं जब देश में समान नागिरक संहिता लागू कराने की माँग भी जोरों पर है और केंद्रीय गृह मंत्री ने कहा है कि भाजपा शासित राज्यों में इसे लागू किया जा सकता है।

तलाक-ए-सुन्नत को असंवैधानिक कराने की माँग

सुप्रीम कोर्ट में महिला पत्रकार बेनजीर हीना द्वारा जिस ‘तलाक-ए-सुन्नत’ के विरुद्ध याचिका डाली गई है। वो किसी मुस्लिम व्यक्ति को ये अधिकार देता है कि वो अपनी बीवी को बेवजह तलाक दे सके। यह प्रक्रिया एक बार में लागू नहीं होती। इसे रिकवरेबल तलाक भी कहा जाता है। इसमें पुरुष एक महीने में एक बार तलाक कहता है। तीसरे तलाक कहने तक अगर दोनों के संबंध सुधर जाते हैं तो इस रूप में शौहर-बीवी के बीच समझौते की संभावना बनी रहती है। जबकि ट्रिपल तलाक एक बार में ही दिया जाता है। इसीलिए ये तलाक-ए -सुन्नत और ट्रिपल तलाक दो अलग चीजें हैं। 

शिया और सुन्नी दोनों इसे अमल में लाते हैं। जिस महिला ने इसे असंवैधानिक घोषित कराने के लिए न्यायलय का दरवाजा खटखटाया है वो खुद भी तलाक-ए-सुन्नत की पीड़िता है। याचिकाकर्ता के अनुसार, उन्हें उनके ससुराल वालों ने पहल दहेज न मिलने पर यातनाएँ दीं। बाद में शौहर ने भी तलाक-ए-सुन्नत का नोटिस भेज दिया। उन्होंने ये भी बताया कि कैसे तमाम घटनाओं का उल्लेख करते हुए उन्होंने दिल्ली महिला आयोग से शिकायत की थी और एफआईआर भी दर्ज की थी। मगर उन्हें जवाब मिला कि ये शरीया कानून के अनुसार सही है।

बहुविवाह के खिलाफ मुस्लिम महिला की आपत्ति

इसी तरह इस्लाम में 4 निकाह करने को मान्यता प्राप्त है। कई कट्टर मौलाना इसके लिए मुस्लिम पुरुषों को प्रेरित करते हैं और ऐसे दर्शाया जाता है कि समाज कल्याण के लिए किया जाने वाला कार्य है।ऐसे में रेशमा ने इस प्रथा के विरुद्ध आवाज उठाते हुए दिल्ली हाई कोर्ट में अपनी याचिका डाली थी और माँग की थी कि बहुविवाह करने से पहले ये अनिवार्य किया जाना चाहिए कि पुरुष अपनी पत्नी से अगले निकाह की इजाजत ले। इसके अलावा यह भी सुनिश्चित हो कि व्यक्ति नई बीवी के लिए घर और उसकी जरूरतें पूरी करने में सक्षम है या नहीं। उसे अगला निकाह करने से पहले न्यायिक अधिकारी का प्रमाण पत्र अनिवार्य किया जाए जिसमें वो बताए कि वो अपनी सारी बीवियों के साथ समान व्यवहार करेगा। इस्लामी कोड के तहत होने वाली शादियों के पंजीकरण अनिवार्य किए जाने की माँग भी याचिका में उठाई गई थी।

मुस्लिम महिलाओं के हित में केंद्र ने लिया फैसला

बता दें कि इस्लाम में ट्रिपल तलाक, तलाक-ए-सुन्नत, हलाला, बहुविवाह ऐसी प्रक्रियाएँ जिनके कारण मुस्लिम महिलाओं को लंबे समय से तमाम यातानाओं से गुजरना पड़ा। ऐसे में केंद्र की मोदी सरकार ने मुस्लिम महिलाओं को राहत देने के लिए ट्रिपल तलाक के खिलाफ तो 2019 में कानून बना दिया, जिसमें तलाक देने वाले पुरुषों के खिलाफ दंड का प्रावधान है। मगर कट्टरपंथी मोदी सरकार के इस फैसले को आज भी इस्लाम विरोधी बताते है, जबकि हकीकत में ये रिवायत महिला विरोधी थी और इस पर कार्रवाई भी तभी हुई जब मुस्लिम महिलाओं ने शिकायत की, अपनी आवाज उठाई। आज ट्रिपल तलाक की तरह अन्य कट्टरपंथी प्रथाओं से छुटकारा पाने के लिए मौलानाओं के पास जाने की जगह कोर्ट के पास आना बताता है कि देश में संविधान के अनुसार समान कानून की आवश्यता सबको।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘उसकी गिरफ्तारी से खुशी है क्योंकि उसने तमाम सीमाओं को तोड़ दिया था’ – आरबी श्रीकुमार पर ISRO के पूर्व वैज्ञानिक नम्बी नारायणन

सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी के बाद गिरफ्तार किए गए रिटायर्ड IPS आरबी श्रीकुमार की गिरफ्तारी पर इसरो के पूर्व वैज्ञानिक ने संतोष जताया।

गे बार के पास कट्टर इस्लामी आतंकी हमला, गोलीबारी में 2 की मौत: नॉर्वे में LGBTQ की परेड रद्द, पूरे देश में अलर्ट

नॉर्वे की राजधानी ओस्लो में गे बार के नजदीक हुई गोलीबारी को प्रशासन ने इस्लामी आतंकवाद करार दिया है। 'प्राइड फेस्टिवल' को रद्द कर दिया गया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
199,433FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe