Friday, April 10, 2020
होम संपादक की पसंद पाकिस्तान की हालत: किया-किया.. क्या किया.. क्या किया रे सनम...

पाकिस्तान की हालत: किया-किया.. क्या किया.. क्या किया रे सनम…

"तौबा-तौबा ! कैसे अज़ीब शौक़ पाल रखे हैं इन भारतियों ने...एक तो मॉर्निंग वॉक के लिए भी विमान से निकलते हैं और ऊपर से टमाटर के बदले बम गिरा कर निकल जाते हैं।"

ये भी पढ़ें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

ये क्या हुआ…? कैसे हुआ…? कब हुआ?” पाकिस्तान के मेजर जनरल आसिफ़ गफ़ूर जब सुबह नींद से जागे होंगे तो उन्हें राजेश खन्ना का यह गाना ज़रूर याद आया होगा। अरे, उनके घर में ‘अमर प्रेम’ की पाइरेटेड डीवीडी तो पड़ी ही होगी। आख़िर हो भी क्यों न, पाकिस्तान की पूरी की पूरी एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री ही भारतीय फ़िल्मों की पाइरेटेड और हॉल डब्ड सीडीज की बिक्री से चलती है।

पाकिस्तानी मेजर जनरल ने घर में ‘अमर प्रेम’ की पाइरेटेड सीडी तो रखी ही होगी

पाकिस्तानी मेजर जनरल के जवाब में उनके मातहत अधिकारियों ने भी ‘अमर प्रेम’ के इसी गाने के रूप में जवाब भी दिया होगा- “अब क्या सुनाएँ?” हो सकता है इसके बाद मेजर जनरल ने उनसे पूछा होगा- “अरे, तुमने भी अमर प्रेम देख रखी है?” अधिकारियों ने क्या जवाब दिया, इसका पता लगाने के लिए हमारे सूत्र हवाई रास्तों से इस्लामाबाद के लिए निकल गए हैं।

अब मुद्दे पर आते हैं और समझते हैं कि पाकिस्तान के ‘इंटर सर्विस पब्लिक रिलेशन’ के डायरेक्टर जनरल- मेजर जनरल आसिफ़ गफ़ूर ने ऐसा क्या किया और कहा जिस से पूरे पाकिस्तान की पोल खुलती नज़र आ रही है। इसके लिए पूरे घटनाक्रम को समझना पड़ेगा। सुबह-सुबह जब कौवों ने भी मल-मूत्र का सेवन नहीं किया था तभी गफ़ूर ने ट्विटर (जो कि पाकिस्तान में प्रतिबंधित नहीं है) खोला और धड़ाधड़ ट्वीट कर बताया कि कैसे भारतीय वायुसेना ने सीमा पार करने की कोशिश की लेकिन पाकिस्तानी वायुसेना ने उनसे संघर्ष किया तो वह पेलोड जंगल में गिरा कर भाग निकले।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

घबराहट में गफ़ूर को पता ही नहीं चला कि उन्होंने कब अपनी ट्वीट में बालाकोट का जिक्र कर दिया। इसके बाद पाकिस्तानी मीडिया में चर्चाएँ तेज हो गई कि अगर भारतीय वायुसेना (IAF) बालाकोट तक घुस गई है तो उन्हें सीमा पर से कैसे भगा दिया गया? ऐसा इसीलिए, क्योंकि बालाकोट तो पाकिस्तान के ख़ैबर पख़्तूनख़्वा प्रान्त में है। उन्होंने अपनी ट्वीट्स में मुज़फ़्फ़राबाद और बालाकोट का जिक्र भी कर दिया और साथ ही यह भी कहा कि IAF लाइन ऑफ कंट्रोल (LOC) का उल्लंघन करने के बाद लौट गए। जब डैमेज कण्ट्रोल के रास्ते ही नहीं सूझे तो पाकिस्तान ने गुपचुप आतंकियों की लाशों को ठिकाने लगाने का कार्य शुरू कर दिया।

बौखलाए गफ़ूर को पता ही नहीं चला कि दिन कब बीत गया और शाम को उन्होंने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर भारत को चेतावनी दी। तब तक यह साफ़ हो चुका था कि भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान में घुस कर सैकड़ों आतंकियों को मार गिराया है। पाकिस्तानी वायुसेना की भी पोल खुल चुकी थी क्योंकि लोगों को पता चल चुका था कि भारतीय मिराज-2000 लड़ाकू विमानों के फॉर्मेशन को देख कर पाकिस्तानी एफ-16 भाग निकले थे। गफ़ूर ने भारत को धमकी देते हुए कहा:

“प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा आगाह किए जाने के बावजूद भारत ने जो आक्रामकता दिखाई, पाकिस्तान उसका चौंकाने वाला और अलग तरीके से जवाब देगा। गफूर ने कहा कि भारत का मकसद हमारे सैन्य मोर्चे पर हमला करने के बजाय रिहायशी इलाक़ों पर हमला करना था ताकि वह बता सके कि उसकी कार्रवाई दहशतगर्दों के खिलाफ थी।”

जब गफ़ूर से यह पूछा गया कि उनकी सेना ने भारतीय विमानों क्यों नहीं मार गिराया, तो इसके जवाब में उन्होंने कहा कि भारत की तरफ से कोई हमला नहीं हुआ। बकौल आसिफ़, हमला तब माना जाता जब भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तानी सेना को निशाना बनाया होता। क्या आसिफ़ ने यह बोल कर इस बात की तस्दीक़ कर दी कि भारत ने पाकिस्तानी सेना को नहीं बल्कि आतंकियों को निशाना बनाया। उन्होंने तो अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भारत के आतंकियों के ख़िलाफ़ ‘Pre-emptive Strike’ वाली बात को और बल दे दिया। क्योंकि, भारत ने तो पहले ही कह दिया है कि उसका निशाना न नागरिक थे और न पाकिस्तानी सेना- यह कार्रवाई सिर्फ़ और सिर्फ़ आतंकियों के ख़िलाफ़ थी।

पाकिस्तानियों का हाल बाज़ीगर के इस गाने जैसा है

आसिफ़ ने भारत को चौंकाने की भी बात कही। अगर कुछ हुआ ही नहीं है, भारत ने कुछ किया ही नहीं है, तो पाकिस्तान किस कार्रवाई की जवाब देने की बात कर रहा है? अगर कुछ नहीं हुआ है तो बौखलाहट कैसी? अगर कुछ नहीं हुआ है तो पाकिस्तान में आपात बैठकों का सिलसिला कैसे चल निकला? अगर भारत ने कुछ किया ही नहीं तो फिर ज़ंग की धमकी क्यों? इन सबका अर्थ है कि कुछ ऐसा हुआ है, जिसके घाव काफ़ी गहरे हैं। कुछ ऐसा हुआ है, जो वह न बता सकते हैं और न छिपा सकते हैं।

किसी घर में अगर कोई व्यक्ति बीमार होता है तो उसके इलाज के लिए उसे किसी अस्पताल में भर्ती कराया जाता है या फिर किसी अच्छे डॉक्टर से सलाह ली जाती है। लेकिन घर में कोई बीमार ही नहीं हो और घर का मुखिया उसे अस्पताल में दाख़िल कराने की बात करे तो क्या वह पागल नहीं कहलाएगा? तो यहाँ दो स्थितियाँ बनती हैं। या तो भारत ने गहरा वार किया है नहीं तो पाकिस्तान का मुखिया ही पागल है।

क्या पाकिस्तान अब अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के सामने अपने आतंकियों की परेड करवाएगा ताकि वह भारत के दावों को नकार सके? क्या वह 350 आतंकियों को संयुक्त राष्ट्र के महासचिव के सामने ले जाकर चीख-चीख कर कहेगा- ‘भारत के दावों की पोल खुल गई। लो देखो, हमारे सारे आतंकी अभी भी ज़िंदा हैं।‘ पाकिस्तान का मुखिया पागल नहीं है। वो ऐसा कभी नहीं करेगा। इस से पहली बात की पुष्टि हो जाती है। भारत ने आतंकियों का ऐसा सफाया किया है कि उनके बात-विचार और रुख पल-पल बदल रहे हैं।

पाकिस्तान ने भारतीय फ़िल्मों पर तत्काल प्रभाव से प्रतिबन्ध लगा कर अपने सिनेमाघरों को वीरान छोड़ दिया है। क्यों? गफ़ूर की माने तो भारतीय विमान पाकिस्तान में रेकी करने गए थे और फिर वापस लौट आए। क्या पाकिस्तान से चार गुना बड़े क्षेत्रफल वाले भारत में एयरस्पेस की कमी हो गई है जो वे सुबह मॉर्निंग वॉक के लिए पाकिस्तान जाएँगे? गफ़ूर के इस बयान के बाद टमाटर वाला पाकिस्तानी पत्रकार ज़रूर कह रहा होगा- “तौबा-तौबा ! कैसे अज़ीब शौक़ पाल रखे हैं इन भारतियों ने…एक तो मॉर्निंग वॉक के लिए भी विमान से निकलते हैं और ऊपर से टमाटर के बदले बम गिरा कर निकल जाते हैं।

फिलहाल कन्फ्यूज्ड गफ़ूर जवाब का सवाल देने में व्यस्त हैं। वे अपनी डायरी पर लिख-लिख कर मिटा रहे हैं- “वो आए, बालाकोट में बम गिराया और सीमा से ही भाग गए…नहीं-नहीं, वो आए और घूम-फिर कर निकल लिए..ये अच्छा रहेगा- वो आए, हमने संघर्ष किया और वे भाग निकले…या फिर ये- वो आए, कुछ नहीं किया, जो किया उसका करारा जवाब दिया जाएगा। किया, नहीं किया, किया, नहीं किया, कुछ किया, ,जो भी किया उसका जवाब देंगे, किया .. क्या किया…हम करेंगे।” तब तक उनके घर में एक और पाइरेटेड सीडी बज उठी:

“किया-किया…क्या किया…क्या किया रे सनम…!!!!”

- ऑपइंडिया की मदद करें -
Support OpIndia by making a monetary contribution

ख़ास ख़बरें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

ताज़ा ख़बरें

लॉकडाउन में घोटाले के आरोपित वाधवान परिवार को VIP ट्रीटमेंट: महाबलेश्वर भेजने पर घिरी महाराष्ट्र सरकार, 23 पुलिस हिरासत में

“इस बारे में जाँच की जाएगी कि वाधवान परिवार के 23 सदस्यों को खंडाला से महाबलेश्वर की यात्रा करने की अनुमति कैसे मिली।” इसके साथ ही महाराष्ट्र सरकार द्वारा भारी शर्मिंदगी झेलने के बाद गृह विभाग के विशेष सचिव और एडिशनल डीजीपी अमिताभ गुप्ता को तत्काल प्रभाव से अनिवार्य अवकाश पर भेज दिया गया।

तमिलनाडु: 24 घंटे में 96 नए कोरोना पॉजिटिव आए सामने, 84 तबलीगी जमात से जुड़े, कुल 834 में 763 मरकज की सौगात

तमिलनाडु में पिछले 24 घंटे में कोरोना संक्रमण के 96 नए मामले सामने आए हैं, जिनमें से 84 संक्रमित लोग दिल्ली निजामुद्दीन में आयोजित तबलीगी जमात के कार्यक्रम से जुड़ हुए हैं।

नशे को हाथ न लगाने वाला मकरज से लौटा जमाती कोरोना पॉजिटिव: लोगों के साथ गुड़गुड़ाया हुक्का, पी चाय-पानी, कई गाँवों में मिलने गया

उसने गाँव वालों से मरकज के मजहबी सभा में शामिल होने वाली बात को सबसे छुपाया। जब ग्रामीणों ने उससे इस संबंध में पूछा तो भी उसने झूठी और मनगढ़ंत कहानी सुनाकर उनको बरगलाया। लोगों ने भी आसानी से उसकी बातों को मान लिया और उसके साथ हिलने-मिलने लगे।

हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन मिलने से इजराइल के प्रधानमंत्री भी हुए गदगद, PM मोदी को कहा- प्रिय दोस्त, धन्यवाद!

भारत ने मंगलवार को इसके निर्यात पर लगी रोक को आंशिक रूप से हटा लिया और गुरुवार को भारत द्वारा भेजी गई 5 टन दवाइयाँ इजरायल पहुँच गईं, जिनमें हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन भी शामिल थी। जिसके बाद नेतन्याहू का ट्वीट आया।

मधुबनी: दलित महिला के हत्यारों को बचाने के लिए सरपंच फकरे आलम ने की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट बदलवाने कोशिश

“गाँव में लोगों ने अफवाह उड़ा दी है कि हमने मुस्लिम परिवार से 2 लाख रुपए लेकर मामले को रफा-दफा कर दिया है। ये बिल्कुल गलत बात है। हमने ऐसा कुछ भी नहीं किया है और न ही करेंगे। हम तो कहते हैं कि 1 लाख रुपया मेरे से और ले लो और दोषियों को सजा दो। हमें पैसे नहीं, इंसाफ चाहिए। हमारी माँ चली गई, उनकी मौत नहीं हुई, उनकी हत्या की गई। हमारा एक जान चला गया। हम पैसा लेकर क्या करेंगे? हमें तो बस इंसाफ चाहिए।”

‘चायनीज’ कोरोना देने के बाद चीन ने चली कश्मीर पर चाल: भारत ने दिया करारा जवाब, कहा- हमारे घर में न दें दखल, हमारा...

चीनी प्रवक्ता ने कहा था कि पेइचिंग कश्मीर के हालात पर नजर रखे हुए हैं और हमारा रुख इस पर नहीं बदला है। कश्मीर मुद्दे का इतिहास शुरू से ही विवादित रहा है और इसका समाधान संयुक्त राष्ट्र के चार्टर, सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों और द्विपक्षीय तरीके से होना चाहिए।"

प्रचलित ख़बरें

एक ही थाली में 6-7 लोग खाते थे, सेक्स करना भी सिखाते थे: मरकज में 21 दिन रहे शख्स का खुलासा

तेलंगाना के रहने वाले इस व्यक्ति के अनुसार तबलीगी जमात पूरी दिनचर्या तय करता है। खाने-पीने से लेकर मल-मूत्र त्याग करने तक सब कुछ। यहाँ तक कि सेक्स कैसे करना है, ये भी जमात ही सिखाता था। यह भी कहा जाता था कि बीमार पड़ने पर डॉक्टरों के पास नहीं जाना चाहिए और अल्लाह में यकीन करना चाहिए।

हस्तमैथुन, समलैंगिकता, सबके सामने शौच-पेशाब: ‘इस्लाम ऑन द मूव’ किताब में तबलीगियों की पूरी ट्रेनिंग की कहानी

“आज हर कोई आइसोलेशन में रखे गए तबलीगियों को देखकर हैरान है कि वे इतना क्यों थूक रहे हैं। तो बता दें कि उनका धर्मशास्त्र उन्हें ऐसा करने की शिक्षा देता है कि नमाज पढ़ते समय या मजहबी कार्य करते समय शैतान की दखलअंदाजी खत्म करने के लिए वो ये करें।"

जैश आतंकी सज्जाद अहमद डार के जनाजे में शामिल हुई भारी भीड़: सोशल डिस्टेंसिंग की उड़ी धज्जियाँ, बढ़ा कोरोना संक्रमण का खतरा

सुरक्षाबलों द्वारा जैश आतंकी सज्जाद अहमद डार को बुधवार को मार गिराने के बाद शव को परिजनों को सौंप दिया गया इस हिदायत के साथ कि जनाजे में ज्यादा लोग एकत्र न हों, लेकिन इसके बाद भी जैसे ही आतंकी के शव को परिजनों को सौंप दिया गया। नियमों और कोरोना से खतरे को ताक पर रखकर एक के बाद एक भारी संख्या में स्थानीय लोगों की भीड़ उसके जनाजे में जुटने लगी।

घर में BJP कैंडिडेट की लाश, बाहर पेड़ से लटके थे पति: दीया जलाने पर TMC ने कही थी निशान बनाने की बात

शकुंतला हलदर अपने ही घर में संदिग्ध परिस्थितियों में मृत मिलीं। उनके पति चंद्र हलदर घर के पिछले हिस्से में आम के पेड़ से लटके हुए थे। हत्या का आरोप सत्ताधारी दल टीएमसी के गुंडों पर लग रहा है। यह भी कहा जा रहा है कि मृतक दंपती के बेटों को घर में घुसकर धमकी दी गई है।

तबलीगी जमात के ख़िलाफ़ मत बोलो, टीवी पर आ रही सब न्यूज फेक है: रेडियो मिर्ची RJ सायमा ने किया मरकज के ‘मानव बम’...

“स्वास्थ्य अधिकारियों पर थूकना, सड़कों पर बस से बाहर थूकना, महिला कर्मचारियों के सामने अर्ध नग्न हो, भद्दी टिप्पणी करना, अस्पतालों में अनुचित माँग करना, केवल पुरुष कर्मचारियों को उनके लिए उपस्थित होने के लिए हंगामा करना और आप कितनी आसानी से कह रही हो कि इनके इरादे खराब नहीं हैं। हद है।”

ऑपइंडिया के सारे लेख, आपके ई-मेल पे पाएं

दिन भर के सारे आर्टिकल्स की लिस्ट अब ई-मेल पे! सब्सक्राइब करने के बाद रोज़ सुबह आपको एक ई-मेल भेजा जाएगा

हमसे जुड़ें

175,602FansLike
53,894FollowersFollow
215,000SubscribersSubscribe
Advertisements