Tuesday, April 23, 2024
Homeहास्य-व्यंग्य-कटाक्षमोदी के कहने पर फोर्ब्स में कन्हैया का नाम, शेहला ने नए नोट पर...

मोदी के कहने पर फोर्ब्स में कन्हैया का नाम, शेहला ने नए नोट पर लिख दिया- कन्हैबा बेब्फा है

सबसे ज्यादा आहत शेहला हुई हैं। टूटे काँच से कलाई पर कुछ लिखने जा रही थीं... तभी जामिया की जेहादिनों ने समझाया कि कन्हैया तो काफिर है, काफिरों के लिए खून क्यों बहाना! इसके बाद शेहला ने पास बैठे कॉमरेड से एक नया नोट मॉंगा और उस पर लिख डाला- कन्हैया कुमार बेवफा है। यह नोट जैसे ही ट्वीट किया गया, वायरल हो गया।

फोर्ब्स की विश्व के टॉप-20 निर्णायक लोगों की सूची लीक होने के बाद लिबरल गिरोह में फूट पड़ने की खबर आ रही है। रक्तपिपासु वामपंथी कन्हैया कुमार के रक्त के प्यासे बताए जा रहे। खान मार्केट गैंग का कहना है कि मोदी-शाह ने साजिशन कन्हैया कुमार का नाम सूची में डलवाया है। इसके लिए अडानी से बकायदा फोर्ब्स को विज्ञापन दिलवाया गया है। कहा जा रहा है कि विज्ञापन का पैसा लेकर खुद अंबानी गए थे।

सूत्रों के अनुसार पेरियार हॉस्टल में इस मसले पर पोलित ब्यूरो की बैठक हुई थी। बैठक की भनक एबीवीपी के लोगों को नहीं लगे इसके लिए ड्रेस कोड तय किया गया- नकाब। बैठक में मौजूद लोगों के बीच का विभाजन साफ तौर पर दिख रहा था। एक पक्ष का कहना था कि साजिशन कन्हैया का नाम डलवाया गया है। वहीं, दूसरे गुट का कहना था कि इस साजिश में कन्हैया भी शामिल है। इस गुट के लोग कह रहे थे कि गिरिराज सिंह ने चूँकि अगला चुनाव नहीं लड़ने का ऐलान कर दिया है, इसलिए कन्हैया ‘फूल’ बना रहा है। इस गुट को जिन प्रमुख लोगों का समर्थन हासिल है उनमें प्राइम टाइम प्रोपेगेंडा स्पेशलिस्ट रवीश कुमार, लिंगलहरी कुमार की खास दोस्त शेहला रशीद और टुकड़े-टुकड़े गैंग के उनके प्रमुख सिपहसलाहकार उमर खालिद शामिल हैं।

गुप्त सूत्र बताते हैं कि उमर खालिद बेहद गुस्से में था। बैठक के दौरान ही उसने पूरी बकार्डी गटक ली। फिर खाली बोतल दीवार पर मार दी। उसका कहना था कि जब दिल्ली पुलिस की एफआईआर में उसका नाम कन्हैया के साथ है तो फोर्ब्स की सूची में साथ-साथ क्यों नहीं है। कांच के उन्हीं टुकड़ों से शेहला कलाई पर कुछ लिखने जा रही थी। लेकिन जामिया की जेहादिनों ने मजहब का वास्ता देकर रोक लिया। समझाया कि कन्हैया कुमार वैसे भी काफिर ही है। काफिरों के लिए खून बहाया नहीं जाता है। उनका खून बहाया जाता है। नारा-ए-तकबीर के बाद शेहला ने पास बैठे कॉमरेड से एक नया नोट मॉंगा और उस पर लिख डाला- कन्हैया कुमार बेवफा है। यह नोट जैसे ही ट्वीट किया गया वायरल हो गया।

विश्वस्त सूत्रों के अनुसार इसके बाद रवीश फट पड़े। उन्होंने कहा कि इस प्रोपेगेंडा में सबसे ज्यादा मेरी ही स्याही लगी है। फिर कैसे कन्हैया का नाम आया। पहले मेरा हक बनता है। उन्होंने कन्हैया पर जात भाई को ही दगा देने का गंभीर आरोप लगाया। प्राइम टाइम नहीं करने का ऐलान करते हुए वे बीच बैठक से ही निकल गए। कन्हैया ने सफाई देने की कोशिश की तो उसे बोलने नहीं दिया गया। इसी दौरान हुई गर्मागर्म बहस में एक बोतल आइशी घोष के कपार पर बजर गया।

अपना ही खून देख नकाबधारी पतली गली से निकल गए। कॉमरेडों ने इसकी सूचना सलीम उर्फ योगेंद्र यादव को दी। बरखा को भी काम पर लगाया गया। तय किया गया कि आइशी के खून को भगवा में रंगना है। जनपथ तक खबर पहुँची तो राहुल गाँधी के नाम से सुरजेवाला ने ट्वीट दागा। लिखा, “मोदी-शाह ने आपका पैसा लूट कर अपने दोस्तों को दिया। फिर उन उन दोस्तों से फोर्ब्स को पैसा दिलवाया। विपक्षी एकता को तोड़ने के लिए उन्हीं पैसों से कन्हैया का नाम सूची में डलवाया गया है।” इस क्रोनोलॉजी को समझने की अपील करते हुए ​प्रियंका गॉंधी रवीश कुमार को मनाने उनके घर पहुॅंचीं। लेकिन रवीश ने स्पष्ट कर दिया- बोलना ही है। कम से कम पुस्तक मेला तक तो ‘बोलना ही है’।

इस मसले की गूँज सदन में भी सुनाई पड़ी। अधीर रंजन चौधरी ने इसे आंतरिक मामला मानने से इनकार करते हुए संयुक्त राष्ट्र से दखल देने की मॉंग की है। कॉन्ग्रेस की अपील पर संयुक्त राष्ट्र ने कहा है कि वह इसके लिए तैयार है। चीन ने कहा है कि वह सुरक्षा परिषद में यह मामला उठाएगा। इमरान खान ने आईएसआई से पूरे मामले की जॉंच करवाने का ऐलान किया है।

बढ़ते दबाव के बीच कन्हैया ने ट्वीट किया है;

“कितनी बेशर्म सरकार है। पहले निर्णायक लोगों की सूची में मेरा नाम डलवाती है। फिर कॉमरेड येचुरी पर प्रेशर डाल पोलित ब्यूरो का बैठक बुलवाती है। बैठक में बोतल तुड़वाती है। फिर भी नहीं झुकने पर प्रियंका गॉंधी को सीधे रवीश के घर भेजती है। जब से ये सत्ता में आए हैं तब से लिबरलों की फाड़ कर रखी है।”

इस बीच दिल्ली वाले सर जी ने भी बयान जारी कर अपना पक्ष रखा है। उनका कहना है- मैंने तो पहले ही कहा था सब मिले हुए हैं जी!

‘माँ’ को छोड़ ‘मर्दानगी’ पर अटके मुनव्वर, ‘मर्दाना कमज़ोरी’ के शर्तिया इलाज के लिए वामपंथियों ने लगाई लाइन

NDTV के पत्रकार ने इमरान खान को फेक वीडियो भेज कर कराई Pak की फजीहत, रवीश ने जारी किया बयान!

खोज उस क्रिएटिव डॉक्टर की, जिसने नकली पीड़ितों के हिजाब और जैकेट पर बैंडेज लगाया

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

तेजस्वी यादव ने NDA के लिए माँगा वोट! जहाँ से निर्दलीय खड़े हैं पप्पू यादव, वहाँ की रैली का वीडियो वायरल

तेजस्वी यादव ने जनसभा को संबोधित करते हुए कहा है कि या तो जनता INDI गठबंधन को वोट दे दे, वरना NDA को देदे... इसके अलावा वो किसी और को वोट न दें।

नेहा जैसा न हो MBBS डॉक्टर हर्षा का हश्र: जिसके पिता IAS अधिकारी, उसे दवा बेचने वाले अब्दुर्रहमान ने फँसा लिया… इकलौती बेटी को...

आनन-फानन में वो नोएडा पहुँचे तो हर्षा एक अस्पताल में जली हालत में भर्ती मिलीं। यहाँ पर अब्दुर्रहमान भी मौजूद मिला जिसने हर्षा के जलने के सवाल पर गोलमोल जवाब दिया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe