Wednesday, May 25, 2022
Homeसंपादक की पसंदमठाधीश पत्रकारों को औकात दिखाती सोशल मीडिया

मठाधीश पत्रकारों को औकात दिखाती सोशल मीडिया

अंग्रेज़ी पत्रकारिता के कुलदीपक राजदीप सरदेसाई अमरीका में जाकर पिट गए, हथेलियाँ रगड़ कर जीरो वॉट बिजली उत्पादन करने वाले पुण्य प्रसून अब एक बिस्कुट मालिक के चैनल में क्रांति कर रहे हैं, रवीश कुमार का तो यह हाल है कि वे प्रनॉय रॉय के घर में तीसरी सबसे पुरानी चीज हो चुके हैं।

याद कीजिए सोशल मीडिया से पहले का वह दौर जब हम टीवी पर बोलने वालों, अखबारों में लिखने वालों और सिनेमा में दिखने वालों की शख़्सियत पर अतिशय मोहित रहते थे, उनके फैन होते थे, उनको खत लिखते थे, उनसे मिलना चाहते थे, उनके ऑटोग्राफ और फोटोग्राफ के लिए लालायित रहते थे।

वे जो कहते, करते और बोलते थे हम उसे सत्य का दस्तावेज मान कर सहेज के रख लेते थे। उस वक्त किसी में इतना दुस्साहस नहीं होता था कि इन हस्तियों के कंटेंट में लेफ्ट, राइट, कम्युनलिज्म, सेकुलरिज्म, नेशनलिज्म और एंटी-नेशनलिज्म खोजे और अगर कोई दुर्लभ ज्ञानी ऐसा करने में सक्षम होता भी तो उसे अपना पक्ष रखने के लिए कोई ठौर नहीं था। टीवी, अखबार, पत्रिकाएँ सभी सिंडिकेट के हाथ में थे।

नतीजतन दृश्य, श्रव्य और छपाई के माध्यम के चुने हुए लोग खबरों और जानकारी पर एक संगठित नियंत्रण करके रखते थे, जो वह परोसते थे उसे पहले नोटों में तौल लेते थे, और इसके एवज में जहाँ वह मोटा फायदा कमा रहे थे वहीं तमाम पुरस्कारों, पदवी, सम्मान और सुविधाओं को ताश की तरह फेंट कर आपस में बांट लेते थे।

लेकिन समय के साथ सबसे अच्छी बात यह है कि वह बदलता है, और यह समय भी बदला, सोशल मीडिया आया। लोगों ने कौतूहल वश लिखना शुरू किया, मन में जो दबा था उसे धीरे-धीरे बाहर लाना शुरू किया और उन्हें हैरानी तब हुई जब पता चला कि उनकी तरह तो लाखों लोग सोचते हैं, उनकी तरह तो लाखों लोगों को शिकायतें और आक्रोश हैं, जिसे न आवाज़ मिल रही थी न जगह।

और यहीं से एक सिलसिला शुरू हुआ बेबाक बोलने, लिखने का। जहाँ कोई लिहाज नहीं, कोई सेंसरशिप नहीं, किसी भाषाई अशुद्धि का कोई मलाल नहीं। हालाँकि लिबर्टी का लोगों ने अतिक्रमण भी किया, वे अभद्र हुए, अमर्यादित भी। लेकिन वो तथाकथित लेखकों, संपादकों, बुद्धिजीवियों, विचारकों, चिंतकों और कलाकारों का हुक्का भरना बन्द कर चुके थे, लोगों ने ‘महानताओं’ की पालकी को कंधे से उठाकर चौराहे पर रख दिया था।

जिसका परिणाम हुआ कि अंग्रेज़ी पत्रकारिता के कुलदीपक राजदीप सरदेसाई अमरीका में जाकर पिट गए, अपनी हथेलियाँ रगड़ कर जीरो वॉट बिजली उत्पादन करने की क्षमता रखने वाले पुण्य प्रसून वाजपेयी पत्रकारिता के तमाम घाटों का पानी पीकर अब एक बिस्कुट मालिक के चैनल में क्रांति कर रहे हैं। रवीश कुमार का तो यह हाल है कि वे प्रनॉय रॉय के घर में तीसरी सबसे पुरानी चीज हो चुके हैं, लेकिन तब भी उनकी नौकरी छोड़ नहीं सकते क्योंकि उन्होंने इतना ‘यश’ कमाया है कि यहाँ से जाने के बाद उन्हें शायद ही कोई रोजगार दे।

और जिनका सितारा बीते पाँच बरस में 18वीं बार गर्दिश में गया है वह बरखा दत्त हैं। आज जो हुआ, उस जिक्र को क्या दोहराना, लेकिन उसके बाद जो हो रहा है वह बड़ा दिलचस्प है कि महीने भर पहले वे ट्विटर के CEO जैक डोरसी के साथ ‘ब्राह्मणवादी पितृसत्ता को पीटने’ का प्लाकार्ड लहरा रहीं थीं, उनके बगल में फोटो खिंचवाकर, ट्विटर यूजर्स को अपनी पहुँच का संदेश दे रही थीं, आज उन्हीं को अदालत में घसीटने की धमकी दे रही हैं, क्योंकि उनकी आज की ‘हरकत’ पर ट्विटर ने ‘भारत छोड़ो आंदोलन’ शुरू नहीं किया, सपोर्ट बरखा हैश टैग ट्रेंड नहीं किया। उल्टा उन्हें हड़का दिया और बौखलाहट में वे अब ऑलमोस्ट ‘नग्न’ नृत्य करने पर उतारू हो गई हैं। यह ताकत है सोशल मीडिया की।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आतंकियों ने कश्मीरी अभिनेत्री की गोली मार कर हत्या की, 10 साल का भतीजा भी घायल: यासीन मलिक को सज़ा मिलने के बाद वारदात

जम्मू कश्मीर में आतंकियों ने कश्मीरी अभिनेत्री अमरीना भट्ट की गोली मार कर हत्या कर दी है। ये वारदात केंद्र शासित प्रदेश के चाडूरा इलाके में हुई, बडगाम जिले में स्थित है।

यासीन मलिक के घर के बाहर जमा हुई मुस्लिम भीड़, ‘अल्लाहु अकबर’ नारे के साथ सुरक्षा बलों पर हमला, पत्थरबाजी: श्रीनगर में बढ़ाई गई...

यासीन मलिक को सजा सुनाए जाने के बाद श्रीनगर स्थित उसके घर के बाहर उसके समर्थकों ने अल्लाहु अकबर की नारेबाजी की। पत्थर भी बरसाए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
188,823FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe