Tuesday, September 29, 2020
Home हास्य-व्यंग्य-कटाक्ष चाय से लिट्टी-चोखा तक: लिट्टी-फेस्ट तो बस बहाना है, मनुवाद से लेकर पूँजीवाद जो...

चाय से लिट्टी-चोखा तक: लिट्टी-फेस्ट तो बस बहाना है, मनुवाद से लेकर पूँजीवाद जो लाना है

बुद्धिजीवियों का कहना है देश में बुद्धि की भारी कमी हैं आजकल। जरूरी है कि लिट्-फेस्ट का आयोजन किया जाए, जहाँ हम भड़ास निकाल सकें, और अपनी पुस्तकें बेच सकें। लेकिन सरकार का ध्यान लिट्-फेस्ट की जगह लिट्टी-फीस्ट पर है। बुद्धिजीवी जाएँ तो कहाँ जाएँ?

लोभी मीडिया पत्रकारिता के एक मात्र ठेकेदार के शो ‘पाँय-टाँय’ की स्क्रिप्ट हमें मिल गई है। उनको प्रधानमंत्री का लिट्टी-चोखा खाना पसंद नहीं आया। लीजिए आप भी पढ़ लीजिए;

अचानक आपका मन किसी हाट में जाने का करे तो आप क्या करेंगे? हो सकता है आप उठें और हाट बाजार घूमने निकल जाएँ। आपको खाने का मन करे तो खा लें। जरूरी तो नहीं कि आप लिट्टी भी खाएँ तो उसमे दर्शन शास्त्र छुपा हो अथवा चोखे में राजनीति ही छुपी हो। लेकिन, जब प्रधानमंत्री लिट्टी-चोखा खाते हैं, तो उसका कोई न कोई अर्थ निकाला जाना स्वाभाविक है। मन में कई तरह के प्रश्न आते हैं और आने भी चाहिए। प्रधानमंत्री चाहते तो दाल-बाटी या गांकर-भर्ता या दाल-बाफले भी खा सकते थे। लेकिन प्रधानमंत्री अपने लाव-लश्कर के साथ केवल विहार के उद्देश्य से हाट में तो जाते नहीं, उनके मन में बिहार का उद्देश्य हो, ऐसा क्यों नहीं समझा जाना चाहिए?

प्रधानमंत्री लिट्टी-चोखा खा रहे हैं, क्या समाज मे चोखावाद बढ़ता जा रहा है? देश में पहले भी प्रधानमंत्री हुए हैं और मौका मिलने पर कुछ न कुछ खाते रहे हैं। वो खाते तो थे लेकिन लिट्टी-चोखा खाते हुए फोटो नहीं खिंचवाते थे। राजनीति में चोखा अपनी जगह बनाने में लग गया है। चाय से शुरू हुआ प्रधानमंत्री का सफर, पकौड़े पर पहुँचा और अब निशाने पर लिट्टी-चोखा है।

आप लोग ‘पाँय-टाँय’ शो देखते रहिए। हम बताते हैं चोखे में कौन सा धोखा है। सबसे पहले तो प्रधानमंत्री ने जिस दुकान से चोखा खाया उसे कौन चला रहा था? वह किस जात का था? किसी ने बताया नहीं, न ही गोदी मीडिया ने ये सवाल उस दुकान वाले से पूछा। कहीं वो संघ के ही लोग तो नही थे? कहीं भाजपा के किसी कार्यकर्ता ने ही दुकान तो नहीं खोल रखी है?

ऐसे प्रश्न पूछे जाने चाहिए जो नहीं पूछे गए। तस्वीर देखने से पता चलता है कि प्रधानमंत्री ने प्लेट बाएँ हाथ में पकड़ रखी है। प्लेट किसी टेबल पर भी रख सकते थे, लेकिन शायद मकसद कुछ और रहा होगा। हो सकता है सिर्फ लिट्टी के साथ फोटो खिंचवाना चाहते हों। लेकिन क्या यह नहीं पूछा जाना चाहिए कि फोटो खिंचवाने के लिए लिट्टी-चोखा खाने भर से उन तमाम ग़रीबों को कुछ राहत मिलेगी जो रोज ही लिट्टी-चोखा खाते हैं? वो लोग मजबूरी में खाते हैं और पूँजीवाद के एक छोर पर फाइव स्टार खाट पर बैठे हुए प्रधानमंत्री सेवन स्टार लिट्टी-चोखा खा रहे हैं।

हमारे कृषि और अन्य सभी विषयों के विशेषज्ञ विनोदवा का कहना है कि चोखा खाते हुए प्रधानमंत्री स्वाद तो लेते हैं लेकिन उन्हें यह ध्यान नहीं आता कि वह बैगन, जिसका चोखा बनाया गया है, किसी ग़रीब किसान ने उगाया होगा, उसके हुनर का क्या? क्या हुनर हाट में उसे एक-दो एकड़ जमीन नहीं दी जा सकती थी? क्या हो जाएगा अगर इंडिया गेट पर खाली पड़ी जमीन पर बैगन, टमाटर और आलू उगाने के लिए किसानों को अनुमति मिल जाए?

उनका कहना सही है, यह हुनर हाट जैसे आयोजन पूँजीवाद का दिखावा मात्र हैं। बहकावे में मत आइए। क्या किसी ने उस लिट्टी-चोखा का भाव पूछा? हमने अपनी फैक्ट चेक करने वाली वेबसाइट ‘फॉल्ट न्यूज़’ को पड़ताल पर लगाया। जल्द ही जाने-माने व्यर्थशास्त्री धूरा एक यूट्यूब वीडियो भी लेकर प्रस्तुत होंगे। लेकिन तब तक उनकी पड़ताल से जो निकलकर आया है, उसे मोटा-मोती आपको बता दें;

उड़ती-उड़ती खबर आई है कि लिट्टी में जो सत्तू भरा गया था, ख़ास तौर पर बनवाया गया था। लिट्टी को सोने की सिगड़ी में चाँदी के अंगारों पर सेका गया था। दोने में जिस चटनी में डुबोकर प्रधानमंत्री लिट्टी खा रहे हैं, उसमें जो धनिया डाली गई है, वो बहुत महँगी है, उसकी कीमत लगभग 0.00060 लाख रुपए किलो बताई जाती है और उसे खाने से चेहरे पर चमक आ जाती है। मन हराभरा रहता है। ‘फॉल्ट न्यूज़’ के हवाले से खबर तो ऐसी आ रही है कि उसमें गुजरात की आनंद डेरी की एक खास गाय के दूध का घी डाला गया था। उसकी कीमत भी लाखों मे है।

घी कम से कम 0.00600 से 0.00800 लाख रुपए प्रति किलो होने की बात सामने आ रही है। बताइए किस ग़रीब को ऐसा घी मिलता है? प्रधानमंत्री घी मे डूबी हुई लिट्टी खाकर कौन सा संदेश देना चाहते हैं? सब नेता घी खाएँगे और जनता हुनर हाट मे घुमते हुए दूर से ही सूँघती रहे? लिट्टी जब उस लाखों के घी में ‘डुबुक डुबुक डुबुक डूड़ो’ करते हुए डूब जाती होगी, तब उसे अर्थव्यवस्था का ध्यान कहाँ से आता होगा? उसे तो घी पीने को मिल गया।

आपको उस प्लेट को गौर से देखना चाहिए जिसमें प्रधानमंत्री ने बड़ी चतुराई से एक प्याज भी रखवाई है। शायद कहना चाहते हों- देखो अब प्याज तीस रुपये किलो मिल रहा है। जैसे दीवार बनाकर ट्रंप से झुग्गी छुपाने की जद्दोजहद चल रही है, वैसे ही लहसुन को चतुराई से छिपा लिया गया। लहसुन जो NRC के डर से दो सौ रुपए किलो बिक रहा था, अब भी दो सौ रुपए किलो ही बिक रहा है, इसलिए प्लेट में रखवाया ही नहीं। यही पूँजीवाद है। यही इस देश की विडंबना है।

एक पक्ष यह भी है कि बिहार में चुनाव आने वाला है और लिट्टी खाकर बिहार के प्रचार की शुरुआत हो चुकी है। इतनी जल्दी प्रचार शुरू करना कहाँ का न्याय है? जनता को अभी से चुनाव में झोंक देने की साजिश है यह। अब बिहार मे इतने लंबे समय तक कौन धरने पर बैठेगा? जब घर से निकले ही थे तो थोड़ा आगे शाहीन बाग मे भी जा सकते थे लेकिन वहाँ नहीं गए। वहाँ बैठे हुए लोग प्यार से बुला रहे हैं, लेकिन लिट्टी-चोखा खा रहे प्रधानमंत्री की तरफ से उत्तर नहीं आ रहा है।

शाहीन बाग़ के लोग तो अब मनुवादी होते हुए कह रहे हैं, “हम देवता हैं, आकर हमारी पूजा करो तो हम मान जाएँगे। लेकिन आकर पूजा तो करो।” और प्रधानमंत्री के समर्थक उन्हे बार बार कह रहे हैं, “बुलाती है, मगर जाने का नहीं।” इस पर प्रधानमंत्री एकदम ‘सख़्त’ हुए जा रहे हैं। वो पिघलने का नाम ही नहीं ले रहे।

अब तो शाहीन बाग़ का संचालन करने वाली कमेटी भी सामने आ गई है। तीस्ता जी से तो प्रधानमंत्री का पुराना रिश्ता है। अब वो शाहीन बाग़ को चला रही हैं तो क्या बुरा है? उन्होंने अच्छे-खासे NGO सालों तक चलाए हैं। क्या हुआ अगर थोड़े पैसे भी बना लिए। मान लिया जाए कि तीस्ता सीतलवाड़ प्रधानमंत्री से बेहिसाब चिढ़ती हैं और उन्हें गिराने के लिए कुछ भी कर सकती हैं। शाहीन बाग़ के करेले में तीस्ता सीतलवाड़ नाम की नीम चढ़ी हुई है, लेकिन प्रधानमंत्री वहाँ चले जाएँगे तो क्या हो जायेगा? वो लोग थोड़ा झुकाकर बेइज्जत ही तो करना चाहते हैं।

शाहीन बाग़ को कुल मिला कर प्रधानमंत्री ने अपनी लिट्टी-चोखा की प्लेट में रखी हुई हरी मिर्च की तरह ही नज़रअंदाज़ कर दिया। हरी मिर्च बड़ी उम्मीद से प्लेट मे पड़ी रही कि प्रधानमंत्री खाएँगे। लेकिन उन्होने खाई नहीं। हरी मिर्च को मुँह से लगा भर लेते तो तसल्ली हो जाती। हाथ में मिर्च लेकर फोटो ही खिंचवा देते।

यही इस मिर्च के जीवन की विडंबना है। आप लोग ऐसी जगहों पर जाने से बचिए, कहीं ऐसा न हो कि आप प्रधानमंत्री की किसी योजना का शिकार हो जाएँ और सड़क के किनारे बीस रुपए में मिलने वाली लिट्टी को साठ रुपए में खा आएँ और फिर आप गाली देते रहें। हाँ, बिरयानी मुफ्त है। इसलिए अभी बिरयानी खा आइए। सैर-सपाटा भी हो जाएगा।

बुद्धिजीवियों का कहना है देश में बुद्धि की भारी कमी हैं आजकल। जरूरी है कि लिट्-फेस्ट का आयोजन किया जाए, जहाँ हम भड़ास निकाल सकें, और अपनी पुस्तकें बेच सकें। लेकिन सरकार का ध्यान लिट्-फेस्ट की जगह लिट्टी-फीस्ट पर है। बुद्धिजीवी जाएँ तो कहाँ जाएँ? आप लोग सोचिए, लेकिन लिट्टी पर ज्यादा ध्यान मत दीजिए वरना वोट बीजेपी को चला जाएगा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

योग, सरदार पटेल, राम मंदिर और अब किसान… कॉन्ग्रेसियों के फर्जी विरोध पर फूटा PM मोदी का गुस्सा

राम मंदिर, सरदार पटेल की प्रतिमा, सर्जिकल स्ट्राइक, जन-धन खाता, राफेल और योग दिवस - कॉन्ग्रेस ने हर उस फैसले का जम कर विरोध किया, जो देशहित में था, जनता के भले के लिए था।

क्यों लग रहा है COVID-19 वैक्सीन में समय? जानिए क्या है ‘ड्रग डेवलपमेन्ट प्रोसेस’ और नई दवा के सृजन से लेकर बाजार में आने...

यह स्पॉन्सर और क्लीनिकल रिसर्चर की जिम्मेदारी है कि वे पारदर्शिता के साथ ट्रायल के प्रतिभागियों के स्वास्थ्य, अधिकारों और रेगुलेटरी एजेंसी के नियमों के तहत वित्तीय सहयोग को भी सुनिश्चित करें।

उत्तराखंड को 6 बड़ी योजनाओं की सौगात, PM मोदी ने कहा – ‘अब पैसा न पानी की तरह बहता है, न पानी में बहता...

"नमामि गंगे अभियान को अब नए स्तर पर ले जाया जा रहा। गंगा की स्वच्छता के अलावा अब उससे सटे पूरे क्षेत्र की अर्थव्यवस्था और पर्यावरण..."

बिहार के एक और बॉलीवुड अभिनेता की संदिग्ध मौत, परिजनों ने कहा – सहयोग नहीं कर रही मुंबई पुलिस

सुशांत सिंह राजपूत की मौत से देश अभी उबरा भी नहीं था कि मुंबई में बिहार के एक और अभिनेता अक्षत उत्कर्ष की संदिग्ध मौत का मामला सामने आया है।

आतंकी डेविड हेडली ने शिवसेना के लिए जुटाए थे फंड्स? बाल ठाकरे को कार्यक्रम में बुलाया था? – फैक्ट चेक

एक मीडिया पोर्टल की खबर का स्क्रीनशॉट शेयर किया गया, जिसमें दावा किया गया था कि डेविड हेडली ने शिवसेना के लिए फंड्स जुटाने की कोशिश की थी।

‘एक ही ट्रैक्टर को कितनी बार फूँकोगे भाई?’: कॉन्ग्रेस ने जिस ट्रैक्टर को दिल्ली में जलाया, 8 दिन पहले अम्बाला में भी जलाया था

ट्रैक्टर जलाने के मामले में जिन कॉन्ग्रेस नेताओं के खिलाफ FIR दर्ज हुई है, वो दिल्ली के इंडिया गेट पर भी मौजूद थे और अम्बाला में भी मौजूद थे।

प्रचलित ख़बरें

बेच चुका हूँ सारे गहने, पत्नी और बेटे चला रहे हैं खर्चा-पानी: अनिल अंबानी ने लंदन हाईकोर्ट को बताया

मामला 2012 में रिलायंस कम्युनिकेशन को दिए गए 90 करोड़ डॉलर के ऋण से जुड़ा हुआ है, जिसके लिए अनिल अंबानी ने व्यक्तिगत गारंटी दी थी।

‘दीपिका के भीतर घुसे रणवीर’: गालियों पर हँसने वाले, यौन अपराध का मजाक बनाने वाले आज ऑफेंड क्यों हो रहे?

दीपिका पादुकोण महिलाओं को पड़ रही गालियों पर ठहाके लगा रही थीं। अनुष्का शर्मा के लिए यह 'गुड ह्यूमर' था। करण जौहर खुलेआम गालियाँ बक रहे थे। तब ऑफेंड नहीं हुए, तो अब क्यों?

एंबुलेंस से सप्लाई, गोवा में दीपिका की बॉडी डिटॉक्स: इनसाइडर ने खोल दिए बॉलीवुड ड्रग्स पार्टियों के सारे राज

दीपिका की फिल्म की शूटिंग के वक्त हुई पार्टी में क्या हुआ था? कौन सा बड़ा निर्माता-निर्देशक ड्रग्स पार्टी के लिए अपनी विला देता है? कौन सा स्टार पत्नी के साथ मिल ड्रग्स का धंधा करता है? जानें सब कुछ।

व्यंग्य: दीपिका के NCB पूछताछ की वीडियो हुई लीक, ऑपइंडिया ने पूरी ट्रांसक्रिप्ट कर दी पब्लिक

"अरे सर! कुछ ले-दे कर सेटल करो न सर। आपको तो पता ही है कि ये सब तो चलता ही है सर!" - दीपिका के साथ चोली-प्लाज्जो पहन कर आए रणवीर ने...

आजतक के कैमरे से नहीं बच पाएगी दीपिका: रिपब्लिक को ज्ञान दे राजदीप के इंडिया टुडे पर वही ‘सनसनी’

'आजतक' का एक पत्रकार कहता दिखता है, "हमारे कैमरों से नहीं बच पाएँगी दीपिका पादुकोण"। इसके बाद वह उनके फेस मास्क से लेकर कपड़ों तक पर टिप्पणी करने लगा।

‘नहीं हटना चाहिए मथुरा का शाही ईदगाह मस्जिद’ – कॉन्ग्रेस नेता ने की श्रीकृष्ण जन्मभूमि मुक्ति याचिका की निंदा

कॉन्ग्रेस नेता महेश पाठक ने उस याचिका की निंदा की, जिसमें मथुरा कोर्ट से श्रीकृष्ण जन्मभूमि में अतिक्रमण से मुक्ति की माँग की गई है।

योग, सरदार पटेल, राम मंदिर और अब किसान… कॉन्ग्रेसियों के फर्जी विरोध पर फूटा PM मोदी का गुस्सा

राम मंदिर, सरदार पटेल की प्रतिमा, सर्जिकल स्ट्राइक, जन-धन खाता, राफेल और योग दिवस - कॉन्ग्रेस ने हर उस फैसले का जम कर विरोध किया, जो देशहित में था, जनता के भले के लिए था।

क्यों लग रहा है COVID-19 वैक्सीन में समय? जानिए क्या है ‘ड्रग डेवलपमेन्ट प्रोसेस’ और नई दवा के सृजन से लेकर बाजार में आने...

यह स्पॉन्सर और क्लीनिकल रिसर्चर की जिम्मेदारी है कि वे पारदर्शिता के साथ ट्रायल के प्रतिभागियों के स्वास्थ्य, अधिकारों और रेगुलेटरी एजेंसी के नियमों के तहत वित्तीय सहयोग को भी सुनिश्चित करें।

उत्तराखंड को 6 बड़ी योजनाओं की सौगात, PM मोदी ने कहा – ‘अब पैसा न पानी की तरह बहता है, न पानी में बहता...

"नमामि गंगे अभियान को अब नए स्तर पर ले जाया जा रहा। गंगा की स्वच्छता के अलावा अब उससे सटे पूरे क्षेत्र की अर्थव्यवस्था और पर्यावरण..."

AIIMS ने सौंपी सुशांत मामले में CBI को रिपोर्ट: दूसरे साक्ष्यों से अब होगा मिलान, बहनों से भी पूछताछ संभव

एम्स के फॉरेंसिक मेडिकल बोर्ड के चेयरमैन सुधीर गुप्ता ने कहा है कि सुशांत सिंह राजपूत के मौत के मामले में AIIMS और CBI की सहमति है लेकिन...

‘अमेरिका कर सकता है चीन पर हमला, हमारी सेना लड़ेगी’ – चीनी मुखपत्र के एडिटर ने ट्वीट कर बताया

अपनी नापाक हरकतों से LAC पर जमीन हथियाने की नाकाम कोशिश करने वाले चीन को अमेरिका का डर सता रहा है। ग्लोबल टाइम्स के एडिटर ने...

बिहार के एक और बॉलीवुड अभिनेता की संदिग्ध मौत, परिजनों ने कहा – सहयोग नहीं कर रही मुंबई पुलिस

सुशांत सिंह राजपूत की मौत से देश अभी उबरा भी नहीं था कि मुंबई में बिहार के एक और अभिनेता अक्षत उत्कर्ष की संदिग्ध मौत का मामला सामने आया है।

‘डर का माहौल है’: ‘Amnesty इंटरनेशनल इंडिया’ ने भारत से समेटा कारोबार, कर्मचारियों की छुट्टी

'एमनेस्टी इंटरनेशनल इंडिया' ने भारत में अपने सभी कर्मचारियों को मुक्त करने के साथ-साथ अभी अभियान और 'रिसर्च' पर भी ताला मार दिया है।

आतंकी डेविड हेडली ने शिवसेना के लिए जुटाए थे फंड्स? बाल ठाकरे को कार्यक्रम में बुलाया था? – फैक्ट चेक

एक मीडिया पोर्टल की खबर का स्क्रीनशॉट शेयर किया गया, जिसमें दावा किया गया था कि डेविड हेडली ने शिवसेना के लिए फंड्स जुटाने की कोशिश की थी।

‘एक ही ट्रैक्टर को कितनी बार फूँकोगे भाई?’: कॉन्ग्रेस ने जिस ट्रैक्टर को दिल्ली में जलाया, 8 दिन पहले अम्बाला में भी जलाया था

ट्रैक्टर जलाने के मामले में जिन कॉन्ग्रेस नेताओं के खिलाफ FIR दर्ज हुई है, वो दिल्ली के इंडिया गेट पर भी मौजूद थे और अम्बाला में भी मौजूद थे।

2,50,000 से घट कर अब बस 700… अफगानिस्तान से सिखों और हिंदुओं का पलायन हुआ तेज

अगस्त में 176 अफगान सिख और हिंदू स्पेशल वीजा पर भारत आए। मार्च से यह दूसरा जत्था था। जुलाई में 11 सदस्य भारत पहुँचे थे।

हमसे जुड़ें

264,935FansLike
78,078FollowersFollow
325,000SubscribersSubscribe