Wednesday, September 23, 2020
Home राजनीति थप्पड़ से ही डर लगता है साहेब, प्यार तो राशन कार्ड से भी मिल...

थप्पड़ से ही डर लगता है साहेब, प्यार तो राशन कार्ड से भी मिल जाता है!

सबूत के 370 पन्ने टॉयलेट रोल के ख़त्म होने के कारण पार्टी ऑफ़िस में इस्तेमाल हो जाते हैं और शीला दीक्षित पर एक भी केस फ़ाइल नहीं हो पाता।

ख़बर आई है कि परमसम्माननीय, भारत की राजनीति में बदलाव का बवंडर लाने वाले, युवा दिलों की धड़कन, टेलिब्रांड्स के वज़न बढ़ाने वाली दवाओं के बिफ़ोर-आफ़्टर के अघोषित ब्रांड अंबेसेडर, चेहरे पर इंक से लेकर, अंडा, टमाटर और लाल मिर्च पाउडर तक फिंकवाने वाले (ताकि आमलेट में सिर्फ प्याज का खर्चा आए), श्री अरविन्द केजरीवाल जी ने बनारस की पावन नगरी से चुनाव नहीं लड़ने का फ़ैसला दिल पर पत्थर रखकर ले लिया है।

भक्तों में इस कारण से शोक की लहर फैल गई है। और भक्तों से तात्पर्य आम आदमी कार्यकर्ताओं से है? दुःख इसलिए हो रहा है कि बनारस जाते तो माला पहनकर दो-चार थप्पड़ ही खा लेते! इस बार गाल पर मांस भी तो ज़्यादा है! इससे पहले की मुझे ‘बॉडी शेमिंग’ करनेवाला कह दिया जाए, मैं ध्यान दिलाना चाहूँगा कि गाल पर ज़्यादा मांस से मतलब यह है कि पार्टी के लिए थप्पड़ खा लेंगे तो इस पर चोट कम लगेगी।

थप्पड़ खाकर मुँह फूल जाता है लोगों का, यहाँ पहले से ही फूला हुआ है। थप्पड़ का ज़िक्र बार-बार करते हुए मैं भटककर भूल ही गया कि आख़िर आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं में शोक की लहर क्यों है? दिल्ली के मालिक, दिल्ली राष्ट्र के सुप्रीम लीडर, दिल्ली की तीनों सेनाओं को चीफ़ कमांडर और राष्ट्रपति श्री अरविंद केजरीवाल जी पार्टी को पूरी तरह से समर्पित व्यक्ति रहे हैं। इसमें आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं को कोई संदेह नहीं है। 

ख़ासकर उन कार्यकर्ताओं को तो बिलकुल नहीं जिन पर हर ‘दुर्घटना’ के बाद भाजपा का होने का आरोप लगता है, और पता चलता है कि थप्पड़ मारने से लेकर, इंक फेंकने से लेकर, मिर्ची पाउडर फेंकने तक होते वो आम आदमी पार्टी के ही हैं। जब किसी पार्टी को यह पता चल जाए कि ट्रैफ़िक कैसे बढ़ता है, तो वो ज़ाहिर-सी बात है कि तमाम वैसे काम, बार-बार करेंगे।

- विज्ञापन -

थप्पड़ खाने के बाद आम आदमी पार्टी के साइट पर चंदा देने वालों की भरमार लग जाती है। आधिकारिक सूत्रों के हवाले से मैं ये कह सकता हूँ कि जब-जब केजरीवाल जी ने पार्टी की खातिर अपने चेहरे को आगे किया है, पार्टी के खाते में पैसे बढ़े हैं। आप एक थप्पड़ मारिए, लोग 85 लाख रुपया दान कर देते हैं। अब आलम यह है कि सोने का अंडा देने वाले केजरीवाल ने यह फ़ैसला ले लिया कि वो बनारस से मोदी के ख़िलाफ़ चुनाव नहीं लड़ेंगे, तो उनके भक्तों में ग़मगीनी छाई हुई है।

लेकिन, मैं भी सोचता हूँ कि आदमी की अपनी तो थोड़ी-बहुत इज़्ज़त होती ही है चाहे वो आम आदमी पार्टी से ही क्यों न जुड़ा हो। आदमी घर तो जाता ही होगा। घर का गेटकीपर ही कहीं पूछ दे कि ‘सर, आजकल कोई विडियो नहीं आ रहा?’ तो आदमी को कितना बुरा फ़ील होगा। 

अब जब सरकार के लोग, विधायक आदि पार्टी फ़ंड जुटाने के लिए राशन कार्ड आदि के माध्यम से, चुनाव के टिकटों के माध्यम से पार्टी के लिए चंदा इकट्ठा कर ही रहे हों तो किसी मुख्यमंत्री का माला पहनकर ‘चट देनी मार देली खींच के तमाचा’ खाना सही थोड़े ही लगता है!

वैसे भी शास्त्रों में कहा गया है कि बुद्धिमान इन्सान वो है जो अपनी ग़लतियों से सीखता है। फ़िल्म रीव्यू किया, लेकिन कोई पैसा नहीं मिला, तो वो भी छोड़ दिया आदमी ने। मोदी को सायकोपाथ कहा, सुबह उठकर ताँबे वाले लोटे से पानी पिया और ट्वीट कर बताया कि उनकी कब्जियत से लेकर उनके मुख्यमंत्री होते हुए विभूतिनारायण मिश्रा टाइप के नल्लेपन का ज़िम्मेदार मोदी है, लेकिन बाद में सीधा गरियाना बंद कर दिया। ये सब बताता है कि आदमी उम्र के साथ समझदार हो जाता है। 

माननीय केजरीवाल जी ने काफ़ी अनुनय-विनय के बाद एक पोर्टफ़ोलियो अपने पास रखा

बाहरहाल, अब पता चला है कि माननीय मुख्यमंत्री जी दिल्ली की समस्याओं पर ही ध्यान देंगे। दिल्ली की प्रमुख समस्याओं में से एक है उनका ख़ाली होना। दूसरी समस्या है उन्हीं के कुछ विधायकों का ख़ाली होना जो आए दिन किसी बुजुर्ग को थप्पड़ मार देते हैं, तो किसी का राशन कार्ड बनाने लगते हैं, कभी किसी महिला से छेड़छाड़ करते हैं, तो कभी चीफ़ सेक्रेटरी से मारपीट करते हैं। ये सब अच्छा थोड़े ही लगता है!

अब आप कहेंगे कि ये सब तो बस आरोप हैं, इससे क्या साबित हो जाता है? फिर मैं कहूँगा कि साबित कुछ हो न हो, आदमी पेपर लहराकर ये कहता है कि उसके पास 370 पन्नों का सबूत है शीला दीक्षित के ख़िलाफ़ तो लोग उसे मुख्यमंत्री चुनते हैं। बाद में उसके 370 पन्ने टॉयलेट रोल के ख़त्म होने के कारण पार्टी ऑफ़िस में इस्तेमाल हो जाते हैं और शीला दीक्षित पर एक भी केस फ़ाइल नहीं हो पाता। और हद तो तब हो जाती है जब वो भाजपा के लोगों से शीला दीक्षित के ख़िलाफ़ सबूत माँगने लगता है! 

ख़ैर, हमारा क्या है, हम तो चंदा भी नहीं देते और ये वाला विडियो देखकर खुश रहते हैं। आप भी देखिए:

चुनाव न लड़ने का एक कारण ऐसे वीडियो का इंटरनेट पर होना भी माना जा रहा है

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत भारतीhttp://www.ajeetbharti.com
सम्पादक (ऑपइंडिया) | लेखक (बकर पुराण, घर वापसी, There Will Be No Love)

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मेरी झोरा-बोरा की औकात, मौका मिले तो चुनाव लड़ने का निर्णय लूँगा, लोगों की सेवा के लिए राजनीति में आऊँगा: पूर्व DGP गुप्तेश्वर पांडेय

मैंने अभी कोई पार्टी ज्वाइन करने का ऐलान तो नहीं किया। मैं चुनाव लड़ूँगा, यह भी कहीं नहीं कहा। इस्तीफा तो दे दिया। चुनाव लड़ना कोई पाप है?

‘बोतल डॉन’ खान मुबारक की 20 दुकान वाले कॉम्प्लेक्स पर चला योगी सरकार का बुलडोजर: करोड़ों की स्कॉर्पियो, जेसीबी, डंपर भी जब्त

माफिया सरगना के नेटवर्क को ध्वस्त करने के क्रम में फरार चल रहे खान मुबारक के करीबी शातिर बदमाश परवेज की मखदूमपुर गाँव स्थित करीब 50 लाख की संपत्ति को अंबेडकर नगर पुलिस द्वारा ध्वस्त कर दिया गया।

विदेशी लेखक वीजा पर यहाँ आता है और भारत के ही खिलाफ प्रोपेगेंडा फैलाता है: वीजा रद्द करने की माँग

मोनिका अरोड़ा ने आरोप लगाया है कि स्कॉटिश लेखक विलयम डेलरिम्पल लगातार जानबूझ कर यहाँ के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप कर रहे हैं।

‘सुशांत को थी ड्रग्स की लत, अपने करीबी लोगों का फायदा उठाता था’ – बेल के लिए रिया चक्रवर्ती ने कहा

"सुशांत सिंह राजपूत ड्रग्स लेते थे। वह अपने स्टाफ को ड्रग्स खरीद कर लाने के लिए कहते थे। वो जीवित होते, तो उन पर ड्रग्स लेने का आरोप..."

बच्चे को मोलेस्ट किया, पता ही नहीं था सेक्सुअलिटी क्या होती है: अनुराग कश्यप ने स्वीकारा, शब्दों से पाप छुपाने की कोशिश

कैसे अनुराग कश्यप पर पायल घोष के यौन शोषण के आरोपों के बावजूद खुद को फेमनिस्ट कहने वाले गैंग के एक भी व्यक्ति ने पायल का समर्थन नहीं किया।

लोकतंत्र के मंदिर से होता खिलवाड़, क्या उपवास के बहाने ही सही विपक्ष करेगा गाँधी को याद?

आज हमें खुद से कुछ प्रश्न करने की जरूरत है कि लोकतंत्र के मंदिर में हुई शर्मनाक हरकत से हम अपनी आने वाली पीढ़ी को क्या सीख दे रहे हैं?

प्रचलित ख़बरें

‘ये लोग मुझे फँसा सकते हैं, मुझे डर लग रहा है, मुझे मार देंगे’: मौत से 5 दिन पहले सुशांत का परिवार को SOS

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार मौत से 5 दिन पहले सुशांत ने अपनी बहन को एसओएस भेजकर जान का खतरा बताया था।

शो नहीं देखना चाहते तो उपन्यास पढ़ें या फिर टीवी कर लें बंद: ‘UPSC जिहाद’ पर सुनवाई के दौरान जस्टिस चंद्रचूड़

'UPSC जिहाद' पर रोक को लेकर हुई सुनवाई के दौरान जस्टिस चंद्रचूड़ ने कहा कि जिनलोगों को परेशानी है, वे टीवी को नज़रअंदाज़ कर सकते हैं।

नेपाल में 2 km भीतर तक घुसा चीन, उखाड़ फेंके पिलर: स्थानीय लोग और जाँच करने गई टीम को भगाया

चीन द्वारा नेपाल की जमीन पर कब्जा करने का ताजा मामला हुमला जिले में स्थित नामखा-6 के लाप्चा गाँव का है। ये कर्णाली प्रान्त का हिस्सा है।

व्हिस्की पिलाते हुए… 7 बार न्यूड सीन: अनुराग कश्यप ने कुबरा सैत को सेक्रेड गेम्स में ऐसे किया यूज

पक्के 'फेमिनिस्ट' अनुराग पर 2018 में भी यौन उत्पीड़न तो नहीं लेकिन बार-बार एक ही तरह का सीन (न्यूड सीन करवाने) करवाने का आरोप लग चुका है।

आफ़ताब दोस्तों के साथ सोने के लिए बनाता था दबाव, भगवान भी आलमारी में रखने पड़ते थे: प्रताड़ना से तंग आकर हिंदू महिला ने...

“कई बार मेरे पति आफ़ताब के द्वारा मुझपर अपने दोस्तों के साथ हमबिस्तर होने का दबाव बनाया गया लेकिन मैं अडिग रहीं। हर रोज मेरे साथ मारपीट हुई। मैं अपना नाम तक भूल गई थी। मेरा नाम तो हरामी और कुतिया पड़ गया था।"

‘शिव भी तो लेते हैं ड्रग्स, फिल्मी सितारों ने लिया तो कौन सी बड़ी बात?’ – लेखिका का तंज, संबित पात्रा ने लताड़ा

मेघना का कहना था कि जब हिन्दुओं के भगवान ड्रग्स लेते हैं तो फिर बॉलीवुड सेलेब्स के लेने में कौन सी बड़ी बात हो गई? संबित पात्रा ने इसे घृणित करार दिया।

मेरी झोरा-बोरा की औकात, मौका मिले तो चुनाव लड़ने का निर्णय लूँगा, लोगों की सेवा के लिए राजनीति में आऊँगा: पूर्व DGP गुप्तेश्वर पांडेय

मैंने अभी कोई पार्टी ज्वाइन करने का ऐलान तो नहीं किया। मैं चुनाव लड़ूँगा, यह भी कहीं नहीं कहा। इस्तीफा तो दे दिया। चुनाव लड़ना कोई पाप है?

दिल्ली बार काउंसिल ने वकील प्रशांत भूषण को भेजा नोटिस: 23 अक्टूबर को पेश होने का निर्देश, हो सकती है बड़ी कार्रवाई

दिल्ली बार काउंसिल (BCD) ने विवादास्पद वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण को अवमानना मामले में सुप्रीम कोर्ट द्वारा दोषी करार दिए जाने के मद्देनजर 23 अक्टूबर को उसके सामने पेश होने का निर्देश दिया है।

NCB ने ड्रग्स मामले में दीपिका, सारा अली खान, श्रद्धा समेत टॉप 4 हीरोइन को भेजा समन, जल्द होगी पूछताछ

रिया चक्रवर्ती से पूछताछ के दौरान दीपिका, दीया, सारा अली खान, रकुलप्रीत सिंह और श्रद्धा कपूर का नाम सामने आया था। दीया का नाम पूछताछ के दौरान ड्रग तस्कर अनुज केशवानी ने लिया था।

‘बोतल डॉन’ खान मुबारक की 20 दुकान वाले कॉम्प्लेक्स पर चला योगी सरकार का बुलडोजर: करोड़ों की स्कॉर्पियो, जेसीबी, डंपर भी जब्त

माफिया सरगना के नेटवर्क को ध्वस्त करने के क्रम में फरार चल रहे खान मुबारक के करीबी शातिर बदमाश परवेज की मखदूमपुर गाँव स्थित करीब 50 लाख की संपत्ति को अंबेडकर नगर पुलिस द्वारा ध्वस्त कर दिया गया।

पाकिस्तान 171 हिंदुओं को मदरसा अहसान-उल-तालीम में करवाया गया इस्लाम कबूल: मानवाधिकार कार्यकर्ता का दावा

पाकिस्तान के सिंध प्रांत में 171 हिंदुओं को रविवार (सितंबर 20, 2020) को इस्लाम कबूल करवाया गया। पाकिस्तान के ही मानवाधिकार कार्यकर्ता राहत ऑस्टिन ने ये दावा किया है।

सरकारी जमीन पर कब्जा करने वालों से वसूला जाएगा किराया, ढहाने के खर्च की भी होगी क्षतिपूर्ति: योगी सरकार का नया निर्देश

पिछले कुछ समय से योगी सरकार बडे़ पैमाने पर प्रदेश को भूमाफियों से आजाद करने के लिए लगातार कार्रवाई कर रही है। बीते दिनों प्रशासन ने कई इमारतों पर बुल्डोजर चलवाया है।

एक चायनीज को दलाई लामा बनाने के लिए करोड़ों की जासूसी, बौद्ध भिक्षुओं को हवाला से भेजे जाते थे पैसे

सच्चाई का खुलासा करने के लिए कर्नाटक और दिल्ली पुलिस द्वारा सितंबर में कम से कम 30 भिक्षुओं से पूछताछ की गई है। चीनी नागरिक चार्ली पेंग ने...

केरल सोना तस्करी केस: UDF ने की CM पिनराई विजयन को मुख्यमंत्री पद से हटाने की माँग, सीताराम येचुरी को लिखा पत्र

यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट (UDF) के संयोजक बेनी बेहानन ने सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी को पत्र लिखकर मुख्यमंत्री पिनराई विजयन को पद से हटाने का आग्रह किया है।

उड़ता पंजाब के प्रोड्यूसर ने भी जया साहा से माँगा था वीड: सुशांत के दोस्त ने कहा- काम के लिए यहाँ ड्रग्स और कास्टिंग...

"इंडस्ट्री में अगर कोई चरस, गांजा, कोकीन नहीं लेता तो उसे काम नहीं मिलता। ऐसे में उसे इनका सेवन करना पड़ता है। कंगना ने भी बताया कि उन्हें यह लेना पड़ा था।"

विदेशी लेखक वीजा पर यहाँ आता है और भारत के ही खिलाफ प्रोपेगेंडा फैलाता है: वीजा रद्द करने की माँग

मोनिका अरोड़ा ने आरोप लगाया है कि स्कॉटिश लेखक विलयम डेलरिम्पल लगातार जानबूझ कर यहाँ के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप कर रहे हैं।

हमसे जुड़ें

263,159FansLike
77,989FollowersFollow
323,000SubscribersSubscribe
Advertisements