Monday, September 21, 2020
Home विविध विषय कला-साहित्य राष्ट्रवादी से लेकर पेरियारवादी तक हैं नर्तकी नटराज की कला के प्रेरणा स्रोत: वो...

राष्ट्रवादी से लेकर पेरियारवादी तक हैं नर्तकी नटराज की कला के प्रेरणा स्रोत: वो ‘इंसान’ जिसने इतिहास रचा

“हमने भय भी झेला है, शर्म भी, प्रतिबन्ध भी। लोग हमें वेश्यावृत्ति में धकेलना चाहते थे, पर हमने कला को चुना; शर्म और नकारे जाने को अपनी आत्मा को नहीं तोड़ने दिया।”

“मेरा मानना है कि नृत्य हमारे शरीरों ही नहीं, आत्माओं तक को जोड़ देने के सबसे अद्भुत मार्गों में से एक है।” यह शब्द हैं पद्मश्री से विभूषित होने वाली प्रथम किन्नर (ट्रांसजेंडर) नर्तकी नटराज के।

1989 में खोला अपना पहला नृत्य विद्यालय

1964 में मदुरै में जन्मीं नर्तकी नटराज ने अपना प्रथम नर्तकी नृत्य कलायालय मदुरै में प्रारंभ किया और तमिलनाडु की राजधानी चेन्नै में 2001-02 में दूसरा कलायालय खोला।

बचपन में उन्हें नृत्य की ओर प्रथम आकर्षण पद्मिनी और वैजयंतीमाला जैसी अभिनेत्रियों की फिल्मों के नृत्य को देखकर हुआ। धीरे-धीरे उन्होंने आसपास के स्थानीय नृत्य-नाटक समूहों को भी देखना शुरू कर दिया।

सामाजिक प्रताड़ना का होना पड़ा शिकार

जिस भारत में किन्नर एक समय देवताओं की एक जाति थी और जो अपने महानतम देवताओं शिव और कृष्ण के ‘अर्धनारीश्वर’ और ‘मोहिनी’ रूप के गुण गाता हो, उसके लिए यह ग्लानि का विषय है कि वह अबोध बच्चों को उनकी किन्नर के रूप में लैंगिक पहचान के कारण प्रताड़ित करे।

- विज्ञापन -

नर्तकी बतातीं हैं कि एक बच्चे के रूप में वह अपनी लैंगिक पहचान को लेकर समझ नहीं पातीं थीं कि वे औरों से अलग कैसे हैं। पर नृत्य को लेकर उनके मन में कोई दुविधा नहीं थी- उन्हें पता था कि शरीर से वे चाहे जो हों, उनकी आत्मा एक नृत्य-साधक है। उन्होंने नृत्य का दामन पकड़ लिया और “एकै साधै सब सधै…” की तर्ज पर उनके नृत्य ने उन्हें अपनी लैंगिक पहचान पाने और गढ़ने में भी सहायता की।

नृत्य के प्रति उनके मादक अनुराग की उनके पुरुष शरीर में नारी के तौर पर पहचान को ढूँढ़ने में और अभिव्यक्त करने में महत्वपूर्ण भूमिका रही। नर्तकी नटराज यह भी मानतीं हैं कि उन्होंने नृत्य का नहीं, नृत्य ने उनका चयन किया है।

“नृत्य ने मेरा चयन किया और मेरे अव्यक्त नारीत्व को अभिव्यक्ति दी। नृत्य ने उसे वास्तविकता के धरातल पर उतारा और उसकी सूक्ष्मताओं का बयान किया।”

“हमने (नर्तकी और उनकी मित्र व नृत्य में साझीदार शक्ति भास्कर) भय भी झेला है, शर्म भी, प्रतिबन्ध भी। लोग हमें वेश्यावृत्ति में धकेलना चाहते थे, पर हमने कला को चुना; शर्म और नकारे जाने को अपनी आत्मा को नहीं तोड़ने दिया।” नर्तकी कहतीं हैं, “सम्मानित कलाकार के नाम पर नाम कमाने का जूनून हमें यहाँ तक ले आया है।”

परंपरा की हैं मुरीद

नर्तकी नटराज की विशेषज्ञता तन्जवुर (तंजौर) नायकी भाव परंपरा  में है। उनके अनुसार यह पारंपरिक तन्जवुर शैली है, जो 20वीं सदी में कलाक्षेत्र की नर्तकी रुक्मिणी देवी द्वारा भरतनाट्यम के पुनर्निमाण से पहले की है। इस शैली में ऐतिहासिक विरासत को शुद्धतम रूप में प्रस्तुत करने पर खासा जोर दिया जाता है।

नर्तकी नटराज अपने गुरू, विख्यात डॉ. केपी किट्टप्पा पिल्लई, द्वारा निर्देशित नृत्यों को हूबहू मन्च पर उकेरतीं हैं, और अपने नृत्य को “मधुर भक्ति” कहतीं हैं, जिसमें भावनाओं की कोमलता और आवेश दोनों का सुन्दर समागम होता है।

गुरू और मित्र शक्ति, की जीवन में है महत्वपूर्ण भूमिका

2011 का संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी से प्राप्त कर चुकीं नर्तकी के जीवन में उनके गुरू किट्टप्पा पिल्लई और मित्र शक्ति भास्कर ने बड़ी भूमिकाएँ निभाईं हैं।

मित्र शक्ति, जो उन्हीं की तरह किन्नर हैं, ने अपने परिवार के टेक्सटाइल के धंधे में काम कर के नर्तकी की नृत्य की फ़ीस का बंदोबस्त किया। पहले नृत्य गुरू जयरमन (वह भी जाने-माने नृत्य-शिक्षक थे) से चोरी-छिपे नृत्य सीखने नर्तकी घर से 90 मिनट पैदल चल कर मदुरै की एक ‘चाल’ में जातीं थीं, जो किसी जानने वाले ने दया कर उन्हें अभ्यास के लिए दे दी थी। 1982 में ₹80 जयरमन की फीस थी और ₹20 उस ‘चाल’ तक रोज़ आने-जाने का उन्हें लगाना पड़ता था। (वह कुछ समय पहले ही लम्बी बीमारी से उबरे थे)

नर्तकी का बहाना शक्ति के साथ मंदिर जाने का होता था, इसलिए पूरे दिन काम करने के बाद शक्ति को भी उनके साथ वहाँ तक जाना पड़ता था।

1983 में एक साल की कठोर साधना के पश्चात् जब नर्तकी के अरंगेत्रम (पदार्पण) का मौका आया तो नर्तकी ने खुद जा कर मदुरै के तत्कालीन मेयर को आमंत्रित किया- और वह आए भी। नर्तकी के खुद के परिवार को इस पर विश्वास नहीं हुआ कि मेयर उनकी ‘बेटी’ के आमंत्रण पर उसका नृत्य देखने आए हैं। झमाझम बारिश को ईश्वर का आशीर्वाद मानते हुए नर्तकी ने उस दिन वह नृत्य किया कि वे एक शाम में पूरे मदुरै में जाने जानीं लगीं।

गुरू किट्टप्पा की व्यस्तता के चलते नर्तकी को उनसे शिष्यत्व पाने के लिए लगभग एक साल तक उनकी मनुहार करनी पड़ी। पर जब किट्टप्पा ने उन्हें पकड़ा तो महान नर्तकी बना कर ही छोड़ा। उन्हें उनका नाम ‘नर्तकी नटराज’ भी गुरू किट्टप्पा ने ही दिया। वह नर्तकी को नृत्य के लिए हमेशा प्रोत्साहित करते और कठिन-से-कठिन नृत्य सिखाते गए। इसके अलावा नर्तकी की लैंगिक पहचान और समस्याओं के विषय में भी गुरू किट्टप्पा ने हमेशा उनका साथ दिया।

उन्होंने नर्तकी को नायकी भावं नृत्य पर एक शोधपत्र लिखने का भी परामर्श दिया और पूरी-पूरी सहायता भी की।

राष्ट्रवाद से पेरियारवाद तक हर जगह से लेतीं हैं प्रेरणा

श्री कृष्ण गान सभा द्वारा नृत्य चूड़ामणि सम्मान से सुशोभित (2009) व तमिलनाडु सरकार का उच्चतम सम्मान कलाईमामणि से सम्मानित नटराज राष्ट्रवादी कवी सुब्रमण्य भारती से लेकर पेरियार से प्रभावित कवि भारतीडासन तक तमिल साहित्य की कई विभूतियों के कार्यों को अपनी प्रेरणा बना नृत्य निर्देशित करतीं हैं। पर शैली विशुद्ध भारतीय पारंपरिक ही रखतीं हैं।

अपने शिष्यों को भी वे उच्च कोटि के गुप्त नृत्य रूप इसी शर्त पर सिखातीं हैं कि वे न खुद उनसे छेड़-छाड़ करेंगे, न ही ऐसे किसी शिष्य को आगे सिखाएँगे जो यह प्रण न ले।

तमिलनाडु की 11वीं की तमिल किताबों में नर्तकी नटराज का जीवन चरित्र अंकित है (पूरे भारत में भी होना चाहिए और 7वीं-8वीं तक आ जाना चाहिए, ताकि उनकी तरह लैंगिक पहचान से जूझ रहे बच्चे उनसे प्रेरणा ले सकें)। उन्होंने शक्ति भास्कर के साथ मदुरै के मीनाक्षी मंदिर में 16 जनवरी 2002 को प्रस्तुति दी थी, जो प्राचीन भारत के इस कला केंद्र में 20 वर्ष के अंतराल पर पहली थी।

कड़वाहट नहीं, स्वाभिमान है दिल में

इतने कठिन दिन देखने और निरपराध होकर भी अपमान सहने के बावजूद नर्तकी कभी ‘विक्टिम-कार्ड’ खेल कर सहानुभूति नहीं बटोरना चाहतीं। वह नहीं चाहतीं कि उनके किन्नर होने के कारण उन्हें कोई विशेष सुविधा दी जाए, या उनकी कला को सहानुभूति के आधार पर सराहा जाए।

“मैं आभारी हूँ कि मेरे गुण उन बाकी सभी चीज़ों के मुकाबले उभर कर निकल पाए, जिन्हें लोग गुणों के स्थान पर तलाश रहे थे।”

परमहंस योगानंद का निम्नलिखित कथन उनकी वेबसाइट के मुख्य पेज पर साभार है:

“अटलता निर्णयों की निश्चितता को आश्वासित करती है।”

(“Persistence guarantees that results are inevitable.”)

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कॉलेज-किताबें सब झूठे, असल में जिहादियों की ‘वंडर वुमन’ बनना चाहती थी कोलकाता की तानिया परवीन

22 साल की तानिया परवीन 70 जिहादी ग्रुप्स का हिस्सा थी। पढ़िए, कैसे बनी वह लश्कर आतंकी। कितने खतरनाक थे उसके इरादे।

सपा-बसपा ने 10 साल में दी जितनी नौकरी, उससे ज्यादा योगी सरकार ने 3 साल में दिए

सपा और बसपा ने अपने 5 साल के कार्यकाल में जितनी नौकरियाँ दी, उससे ज्यादा योगी आदित्यनाथ की सरकार 3 साल में दे चुकी है।

सुदर्शन ‘UPSC जिहाद’ मामला: ऑपइंडिया, इंडिक कलेक्टिव ट्रस्ट और UpWord ने सुप्रीम कोर्ट में दायर की ‘हस्तक्षेप याचिका’

मजहब विशेष के दोषियों को बचाने के लिए मीडिया का एक बड़ा वर्ग कैसे उनके अपराध को कम कर दिखाता है, इसको लेकर ऑपइंडिया ने एक रिपोर्ट तैयार की है।

बिहार में कुछ अच्छा हो, कोई अच्छा काम करे… और वो मोदी से जुड़ा हो तो ‘चुड़ैल मीडिया’ भला क्यों दिखाए?

सुल्तानगंज-कहलगाँव के 60 km के क्षेत्र को “विक्रमशिला गांगेय डॉलफिन सैंक्चुअरी” घोषित किया जा चुका है। इस काम को और एक कदम आगे ले जा कर...

8.5% कमीशन तीन हिस्सों में… किसान से उसके उपज को ऐसे लूटा जाता, फिर भी घड़ियाली आँसू बहा रो रहा विपक्ष

इन तीनों विधेयकों की सही और पूरी जानकारी किसानों तक पहुँच नहीं पाई है। यह सरकार की विफलता ही मानी जाएगी। इतने महत्वपूर्ण और दूरगामी...

गाड़ी हिंदू या मुस्लिम की? जलाने से पहले ‘इ-वाहन’ पर चेक किया जाता: Tech के इस्तेमाल से दिल्ली दंगों के 2655 आरोपित धराए

दिल्ली दंगों की संवेदनशीलता के कारण जाँच के दौरान पुलिस द्वारा कॉल डिटेल्स विवरण के अलावा कई अन्य तरह की तकनीक का भी इस्तेमाल किया गया।

प्रचलित ख़बरें

‘उसने अपने C**k को जबरन मेरी Vagina में डालने की कोशिश की’: पायल घोष ने अनुराग कश्यप पर लगाया यौन उत्पीड़न का आरोप

“अगले दिन उसने मुझे फिर से बुलाया। उन्होंने कहा कि वह मुझसे कुछ चर्चा करना चाहते हैं। मैं उसके यहाँ गई। वह व्हिस्की या स्कॉच पी रहा था। बहुत बदबू आ रही थी। हो सकता है कि वह चरस, गाँजा या ड्रग्स हो, मुझे इसके बारे में कुछ भी पता नहीं है लेकिन मैं बेवकूफ नही हूँ।”

संघी पायल घोष ने जिस थाली में खाया उसी में छेद किया – जया बच्चन

जया बच्चन का कहना है कि अनुराग कश्यप पर यौन उत्पीड़न के आरोप लगाकर पायल घोष ने जिस थाली में खाया, उसी में छेद किया है।

व्हिस्की पिलाते हुए… 7 बार न्यूड सीन: अनुराग कश्यप ने कुबरा सैत को सेक्रेड गेम्स में ऐसे किया यूज

पक्के 'फेमिनिस्ट' अनुराग पर 2018 में भी यौन उत्पीड़न तो नहीं लेकिन बार-बार एक ही तरह का सीन (न्यूड सीन करवाने) करवाने का आरोप लग चुका है।

कहाँ गायब हुए अकाउंट्स? सोनू सूद की दरियादिली का उठाया फायदा या फिर था प्रोपेगेंडा का हिस्सा

सोशल मीडिया में एक नई चर्चा के तूल पकड़ने के बाद कई यूजर्स सोनू सूद की मंशा सवाल उठा रहे हैं। कुछ ट्विटर अकाउंट्स अचानक गायब होने पर विवाद है।

जया बच्चन का कुत्ता टॉमी, देश के आम लोगों का कुत्ता कुत्ता: बॉलीवुड सितारों की कहानी

जया बच्चन जी के घर में आइना भी होगा। कभी सजते-संवरते उसमें अपनी आँखों से आँखे मिला कर देखिएगा। हो सकता है कुछ शर्म बाकी हो तो वो आँखों में...

रूम या वैन बंद होते ही दिखाने लगते हैं गुप्तांग: कंगना बोलीं- जो पायल ने कहा वह कई बड़े हीरो ने किया

कंगना ने ट्वीट कर कहा है कि पायल ने जो कुछ कहा है वैसा उनके साथ कई बड़े हीरो ने किया है।

बिहार को ₹14000+ करोड़ की सौगात: 9 राजमार्ग, PM पैकेज के तहत गंगा नदी पर बनाए जाएँगे 17 पुल

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बिहार के 45945 गाँवों को ऑप्टिकल फाइबर इंटरनेट सेवाओं से जोड़ने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि गाँव के किसान...

‘गलत साबित हुई तो माफी माँग छोड़ दूँगी ट्विटर’: कंगना ने ट्रोल करने वालों को कहा पप्पू की चंपू सेना

अपने ट्वीट को तोड़-मरोड़कर पेश करने वालों को कंगना रनौत ने चुनौती दी है। उन्होंने कहा है कि यदि यह साबित हो गया कि उन्होंने किसानों को आतंकी कहा था तो वे ट्विटर छोड़ देंगी।

कॉलेज-किताबें सब झूठे, असल में जिहादियों की ‘वंडर वुमन’ बनना चाहती थी कोलकाता की तानिया परवीन

22 साल की तानिया परवीन 70 जिहादी ग्रुप्स का हिस्सा थी। पढ़िए, कैसे बनी वह लश्कर आतंकी। कितने खतरनाक थे उसके इरादे।

सपा-बसपा ने 10 साल में दी जितनी नौकरी, उससे ज्यादा योगी सरकार ने 3 साल में दिए

सपा और बसपा ने अपने 5 साल के कार्यकाल में जितनी नौकरियाँ दी, उससे ज्यादा योगी आदित्यनाथ की सरकार 3 साल में दे चुकी है।

सुदर्शन ‘UPSC जिहाद’ मामला: ऑपइंडिया, इंडिक कलेक्टिव ट्रस्ट और UpWord ने सुप्रीम कोर्ट में दायर की ‘हस्तक्षेप याचिका’

मजहब विशेष के दोषियों को बचाने के लिए मीडिया का एक बड़ा वर्ग कैसे उनके अपराध को कम कर दिखाता है, इसको लेकर ऑपइंडिया ने एक रिपोर्ट तैयार की है।

प्रेगनेंसी टेस्ट की तरह कोरोना जाँच: भारत का ₹500 वाला ‘फेलूदा’ 30 मिनट में बताएगा संक्रमण है या नहीं

दिल्ली की टाटा CSIR लैब ने भारत की सबसे सस्ती कोरोना टेस्ट किट विकसित की है। इसका नाम 'फेलूदा' रखा गया है। इससे मात्र 30 मिनट के भीतर संक्रमण का पता चल सकेगा।

बिहार में कुछ अच्छा हो, कोई अच्छा काम करे… और वो मोदी से जुड़ा हो तो ‘चुड़ैल मीडिया’ भला क्यों दिखाए?

सुल्तानगंज-कहलगाँव के 60 km के क्षेत्र को “विक्रमशिला गांगेय डॉलफिन सैंक्चुअरी” घोषित किया जा चुका है। इस काम को और एक कदम आगे ले जा कर...

8.5% कमीशन तीन हिस्सों में… किसान से उसके उपज को ऐसे लूटा जाता, फिर भी घड़ियाली आँसू बहा रो रहा विपक्ष

इन तीनों विधेयकों की सही और पूरी जानकारी किसानों तक पहुँच नहीं पाई है। यह सरकार की विफलता ही मानी जाएगी। इतने महत्वपूर्ण और दूरगामी...

ड्रग्स मामले में श्रद्धा कपूर पर भी NCB की नजर, सारा अली के साथ इसी हफ्ते भेज सकती है समन

ड्रग्स मामले में एनसीबी इसी हफ्ते अभिनेत्री सारा अली खान और श्रद्धा कपूर को समन भेज सकती है। दोनों सुशांत के साथ फिल्में कर चुकी हैं।

क्या कंगना रनौत ने प्रदर्शनकारी किसानों को आतंकी कहा? TOI की खबर में किए गए दावे का सच

TOI ने लिखा कि अभिनेत्री कंगना रनौत ने राज्यसभा में पास हुए एग्री-मार्केटिंग बिल्स को लेकर विरोध प्रदर्शन कर रहे किसानों पर निशाना साधते हुए उन्हें 'आतंकी' कहा।

हमसे जुड़ें

263,159FansLike
77,972FollowersFollow
322,000SubscribersSubscribe
Advertisements