Wednesday, June 26, 2024
Homeविविध विषयधर्म और संस्कृति500 साल के इंतजार के बाद श्रीराम जन्मभूमि पर होगा दीपोत्सव, भव्य तैयारियों में...

500 साल के इंतजार के बाद श्रीराम जन्मभूमि पर होगा दीपोत्सव, भव्य तैयारियों में जुटी है अयोध्या, देखें तस्वीरें

भगवान श्रीराम की जन्मभूमि अयोध्या इस बार ऐतिहासिक दीपावली के लिए तैयार हो रही है। 500 साल के लम्बे इंतजार के बाद श्रीराम जन्मभूमि स्थल पर दीपक जलाए जाएँगे। अयोध्या में दीपोत्सव का मुख्य कार्यक्रम इस बार छोटी दीपावली पर 13 नवंबर को होगा।

अयोध्या (Ayodhya) में श्रीराम मंदिर के भूमि पूजन के बाद इस बार की दीवाली को और ज्यादा खास बनाने की तैयारी है। आज धनतेरस के अवसर से ही अयोध्या को भव्य तरीके से सजाया गया है। साथ ही साथ 13 नवंबर को होने वाले दीपोत्सव को लेकर अयोध्या में तैयारियाँ भी जोरों पर हैं। राम की पैड़ी पर दीपोत्सव के खास इंतजाम किए जा रहे हैं। यह दीपावली इस कारण भी ऐतिहासिक है क्योंकि 500 साल के इन्तजार के बाद इस धरती पर दीपोत्सव होने जा रहा है।

शुक्रवार, 13 नवंबर को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अगुवाई में राम कथा पार्क पर भगवान श्री राम, लक्ष्मण और सीता पुष्पक विमान हेलीकॉप्टर से अयोध्या पहुँचकर दीप प्रज्ज्वलित करेंगे।

आइए देखते हैं दीपवाली के लिए किस तरह सजी है श्रीरामचंद्र की जन्मभूमि अयोध्या –

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बड़ी संख्या में OBC ने दलितों से किया भेदभाव’: जिस वकील के दिमाग की उपज है राहुल गाँधी वाला ‘छोटा संविधान’, वो SC-ST आरक्षण...

अधिवक्ता गोपाल शंकरनारायणन SC-ST आरक्षण में क्रीमीलेयर लाने के पक्ष में हैं, क्योंकि उनका मानना है कि इस वर्ग का छोटा का अभिजात्य समूह जो वास्तव में पिछड़े व वंचित हैं उन तक लाभ नहीं पहुँचने दे रहा है।

क्या है भारत और बांग्लादेश के बीच का तीस्ता समझौता, क्यों अनदेखी का आरोप लगा रहीं ममता बनर्जी: जानिए केंद्र ने पश्चिम बंगाल की...

इससे पहले यूपीए सरकार के दौरान भारत और बांग्लादेश के बीच तीस्ता के पानी को लेकर लगभग सहमति बन गई थी। इसके अंतर्गत बांग्लादेश को तीस्ता का 37.5% पानी और भारत को 42.5% पानी दिसम्बर से मार्च के बीच मिलना था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -