Wednesday, April 21, 2021
Home विविध विषय धर्म और संस्कृति 'जय वाल्मीकि, जय श्रीराम' - वो नारा, जिससे 52 गाँव के दलितों ने ओढ़ा...

‘जय वाल्मीकि, जय श्रीराम’ – वो नारा, जिससे 52 गाँव के दलितों ने ओढ़ा भगवा, उतार फेंका फर्जी भीमवादियों का नीला गमछा

"फर्जी भीमवादियों ने जानबूझ कर महर्षि वाल्मीकि को नीले कपड़ों में दिखाना शुरू कर दिया था जबकि हमेशा से उन्हें और संत रविदास जैसी विभूतियों को भगवा वस्त्रों में ही दिखाया जाता रहा है। यह एक एजेंडे के तहत किया गया। इसके बाद..."

चंद्रशेखर आज़ाद उर्फ़ ‘रावण’ की भीम आर्मी हो या फिर दलितों के हितों का दावा करने वाले अन्य हिन्दू विरोधी संगठन, वो लोगों को ये कह कर बेवकूफ बनाते हैं कि सारे हिन्दू देवी-देवता फर्जी हैं और आर्यों ने हमेशा दलितों का अत्याचार किया है। दलितों और हिन्दुओं को अलग करने की इस साजिश को नाकाम किया है महर्षि वाल्मीकि ने। हरियाणा के गुहाना में हुए एक कार्यक्रम में महर्षि वाल्मीकि की मदद से विहिप और दलितों ने मिल कर फर्जी भीमवादियों के मंसूबों को नाकाम किया।

हाल ही में ख़बर आई थी कि हरियाणा के गुहाना से ‘जय वाल्मीकि, जय श्रीराम’ का नारा दिया गया है। वहाँ एक कार्यक्रम में विहिप के कार्याध्यक्ष आलोक कुमार ने कहा था कि अनुसूचित जाति के लोग हिंदू समाज के अटूट अंग हैं और कोई भी साजिश उन्हें अलग नहीं कर सकती। हिंदूवादी नेताओं और विहिप के पदाधिकारियों ने ध्यान दिलाया कि कैसे असदुद्दीन ओवैसी जैसे मौकापरस्त नेता ‘जय भीम, जय मीम’ का नारा देकर दलितों को बरगलाते हैं।

ऑपइंडिया ने इस कार्यक्रम के बारे में और जानकारी जुटाई, जिसके बाद पता चला कि गुहाना के 52 गाँवों में से प्रत्येक से इसमें दो-दो युवकों को बुलाया गया था। ये सभी दलित और वाल्मीकि समुदाय के युवक थे, जिन्होंने भीम आर्मी जैसे संगठनों और फर्जी नारा देने वालों के बहकावे में आकर हिन्दू धर्म से विमुख होना शुरू कर दिया था। हिन्दू धर्म में वापस उनकी श्रद्धा लाने और उन्हें अपनी जड़ों की तरफ लौटाने में काम आए महर्षि वाल्मीकि।

वही महर्षि वाल्मीकि, जो रामायण के रचयिता हैं और भगवान श्रीराम के समकालीन भी। उन्होंने भगवान के अवतरण से पहले ही उनकी पूरी गाथा लिख दी थी। इसके साथ-साथ ‘आनंद रामायण’ और ‘योग वशिष्ठ’ के लेखक के रूप में भी उन्हें जाना गया है। आज भी दलित समुदाय में एक बड़ा वर्ग उन्हें अपना पूर्वज मानता है। भीम आर्मी जैसे संगठन उन्हें हिंदुत्व से अलग कर के देखते हैं और उनके नाम पर दलितों को बरगलाते हैं।

इसके लिए एक उदाहरण देखिए। अक्टूबर 2019 में जब भीम आर्मी का मुखिया ‘रावण’ दंगे करने, सरकारी अधिकारियों के साथ बदतमीजी करने और सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुँचाने के आरोप में तिहाड़ जेल में बंद था, तब उसने वाल्मीकि जयंती को मुद्दा बनाते हुए आरोप लगाया था कि जेल में होली और दिवाली के उलट इसे मनाने की इजाजत नहीं दी जा रही है, जो भेदभाव को दिखाता है।

इसके साथ ही उसने पूछा था कि क्या दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल वाल्मीकि के अस्तित्व को नहीं मानते? उसने जेल में वाल्मीकि जयंती के लिए व्यवस्था न किए जाने पर अनशन करने और सीएम केजरीवाल के घर के बाहर धरना देने की धमकी दी थी। हैरानी की बात तो ये है कि वाल्मीकि-वाल्मीकि का रट्टा लगाने वाला ये आदमी एक प्रदर्शन में मंदिर में तोड़फोड़ का आरोपित भी था।

अब वापस हरियाणा के गुहाना की ओर लौटते हैं। हमने इस कार्यक्रम के बारे में अधिक जानकारी के लिए विश्व हिन्दू परिषद (विहिप) के इंटरनेशनल जॉइंट सेक्रेटरी डॉक्टर सुरेंद्र जैन से बातचीत की। उन्होंने ऑपइंडिया को बताया कि दलितों का एक बड़ा वर्ग हिन्दू विरोधी विभाजनकारी संगठनों के प्रभाव में आकर हिंदुत्व से भटक गया था, जिसे वापस लाने के लिए विहिप ने लगातार प्रयास किया।

हालाँकि, वो ‘जय वाल्मीकि, जय श्रीराम’ नारे का पूरा क्रेडिट वाल्मीकि समुदाय को देते हुए कहते हैं कि ये विहिप का नारा नहीं है, अपितु, वाल्मीकि समुदाय ने खुद ये नारा देकर विहिप को यह काम सौंपा। उन्होंने बताया कि इसकी पहल ख़ुद वाल्मीकि समुदाय ने ही की है। उन्होंने याद दिलाया कि कैसे आंबेडकर ने तत्कालीन सरसंघचालक गुरु गोलवलकर से आग्रह किया था कि वो हिन्दू संतों से कह कर इसकी घोषणा करवाएँ कि छुआछूत हिन्दू समाज का हिस्सा नहीं है।

साथ ही उन्होंने हरियाणा के गुहाना में वाल्मीकि मंदिर परिसर में बन रहे समरसता भवन की भी बात की, जिसका निर्माण जल्द ही पूरा हो जाएगा। डॉक्टर जैन ने बताया कि फर्जी भीमवादियों ने जानबूझ कर महर्षि वाल्मीकि को नीले कपड़ों में दिखाना शुरू कर दिया था जबकि हमेशा से उन्हें और संत रविदास जैसी विभूतियों को भगवा वस्त्रों में ही दिखाया जाता रहा है। उन्होने कहा कि ये एक एजेंडे के तहत किया गया।

डॉक्टर जैन ने कहा कि विहिप शुरू से ही समाज में छुआछूत ख़त्म करने का काम कर रहा है। गुहाना में हुए कार्यक्रम के बारे में उन्होंने जानकारी दी कि उसमें और भी लोगों को बुलाया जाता लेकिन चूँकि कार्यक्रम को सोशल डिस्टेन्सिंग के नियमों का पालन करते हुए संपन्न कराना था, इसीलिए 52 गाँवों से दो-दो लोग ही बुलाए गए थे। उन्होंने महर्षि वाल्मीकि और भगवान श्रीराम को एक-दूसरे का पूरक करार दिया।

इसके बाद हमने रिटायर्ड न्यायाधीश पवन कुमार से संपर्क किया, जो उस कार्यक्रम का अहम हिस्सा थे और वाल्मीकि महासभा कमिटी के अध्यक्ष भी हैं। उन्होंने ऑपइंडिया को बताया कि लगभग एक दशक पहले हुए एक संघर्ष में एक दलित युवक की हत्या कर दी गई थी, जिसके बाद दलितों और कथित उच्च-जाति के लोगों के बीच की खाई बढ़ी और इसी का फायदा उठा कर कुछ संगठनों ने दलितों का इस्तेमाल किया।

वो बताते हैं कि कई दलितों को मिशनरियों ने लुभा कर ईसाई मजहब में धर्मान्तरण करा दिया। उन्होंने बताया कि इसी घटना के बाद से दलित समुदाय के लोग हिन्दू धर्म और इसकी विचारधारा से दूर जाने लगे। उन्होंने बताया कि उन्हें अपनी जड़ों की तरफ वापस लाने के लिए काफी दिनों से प्रयास चल रहा था। हिन्दू संगठन उन्हें समझाने में लगे थे कि कैसे विभाजनकारी ताकतें उनका इस्तेमाल कर रही हैं।

उन्होंने कहा कि दलितों को ये सच्चाई बताई गई कि जो भी लोग और संगठन उन्हें हिन्दू धर्म से विमुख करने में लगे हुए हैं, उनके मंसूबे राजनितिक हैं और वो राजनीतिक फायदे के लिए ही ऐसा कर रहे। उन्हें समझाया गया कि ऐसे संगठनों का देश की एकता और अखंडता से कोई लेना-देना नहीं है। उन्होंने कहा कि दलितों को मुख्यधारा में लाने के लिए और देश की अखंडता बनाए रखने के लिए ये प्रयास किए गए।

पूर्व जज ने बताया कि भीम आर्मी के चंगुल में आए अन्य दलितों को भी चिह्नित कर उन्हें हिन्दू धर्म की मुख्यधारा में वापस लाने का प्रयास जारी है। उन्होंने दलित युवक की हत्या वाले मामले को भी फिर से खोलने के लिए हरियाणा सरकार से अपील करते हुए कहा कि योग्य जाँच एजेंसी को इसकी जाँच दी जाए क्योंकि दोषियों को सजा मिलने के बाद ही पीड़ितों को शांति मिलती है और उनका रोष कम होता है।

पूर्व जज पवन कुमार ने कहा कि जब हम अपने ही लोगों का ख्याल नहीं रखेंगे तो उनके भटकने की सम्भावना ज्यादा है और वो दूसरों के प्रभाव में आ जाते हैं। उन्होंने आशा जताई कि गुहाना के वाल्मीकि मंदिर में बनने वाला समरसता भवन भी कोरोना आपदा ख़त्म होते-होते तैयार हो जाएगा। साथ ही उन्होंने हिन्दू समाज के अन्य वर्गों को भी दलितों के साथ सही बर्ताव करने की सलाह दी, ताकि वो किसी और चंगुल में न फँसें।

विश्व हिन्दू परिषद के पदाधिकारियों ने ये भी जानकारी दी कि दिल्ली में उनके द्वारा जितने भी रामलीला कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं, उन सबकी शुरुआत वाल्मीकि पूजन से होती है और परदे पर महर्षि वाल्मीकि को दिखाया जाता है। इसी तरह अयोध्या के राम मंदिर परिसर में भी महर्षि वाल्मीकि का मंदिर होगा, उनकी प्रतिमा स्थापित की जाएगी। इस तरह महर्षि वाल्मीकि आज हिन्दू समाज के पुनरुत्थान का कार्य दिव्यलोक से ही कर रहे हैं।

हाल ही में हमने बताया था कि कैसे विश्व हिन्दू परिषद (विहिप) ने 5000 ऐसे पुजारियों को प्रशिक्षित कर विभिन्न मंदिरों में नियुक्त किया है, जो एससी-एसटी (दलित) समुदाय से आते हैं। संगठन के निवेदन के बाद विभिन्न राज्य सरकारों ने भी अपने पैनल में इन पुजारियों को जगह दी है। खासकर दक्षिण भारत में संगठन को इस कार्य में खासी सफलता मिली है। अकेले तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश में एससी-एसटी (दलित) समुदाय के 2500 पुजारियों को प्रशिक्षित किया गया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

देश को लॉकडाउन से बचाएँ, आजीविका के साधन बाधित न हों, राज्य सरकारें श्रमिकों में भरोसा जगाएँ: PM मोदी

"हमारा प्रयास है कि कोरोना वायरस के प्रकोप को रोकते हुए आजीविका के साधन बाधित नहीं हों। केंद्र और राज्यों की सरकारों की मदद से श्रमिकों को भी वैक्सीन दी जाएगी। हमारी राज्य सरकारों से अपील है कि वो श्रमिकों में भरोसा जगाएँ।"

‘दिल्ली के अस्पतालों में कुछ ही घंटे का ऑक्सीजन बाकी’, केजरीवाल ने हाथ जोड़कर कहा- ‘मोदी सरकार जल्द करे इंतजाम’

“दिल्ली में ऑक्सीजन की भारी किल्लत है। मैं फिर से केंद्र से अनुरोध करता हूँ दिल्ली को तत्काल ऑक्सीजन मुहैया कराई जाए। कुछ ही अस्पतालों में कुछ ही घंटों के लिए ऑक्सीजन बची हुई है।”

पत्रकारिता का पीपली लाइवः स्टूडियो से सेटिंग, श्मशान से बरखा दत्त ने रिपोर्टिंग की सजाई चिता

चलते-चलते कोरोना तक पहुँचे हैं। एक वर्ष पहले से किसी आशा में बैठे थे। विशेषज्ञ को लाकर चैनल पर बैठाया। वो बोला; इतने बिलियन संक्रमित होंगे। इतने मिलियन मर जाएँगे।

यूपी में दूसरी बार बिना मास्क धरे गए तो ₹10,000 जुर्माने के साथ फोटो भी होगी सार्वजनिक, थूकने पर 500 का फटका

उत्तर प्रदेश में पब्लिक प्लेस पर थूकने वालों के खिलाफ सख्ती करने का आदेश जारी किया गया है। इसके तहत यदि कोई व्यक्ति पब्लिक प्लेस में थूकते हुए पकड़ा गया तो उस पर 500 रुपए का जुर्माना लगाया जाएगा।

हाँ, हम मंदिर के लिए लड़े… क्योंकि वहाँ लाउडस्पीकर से ऐलान कर भीड़ नहीं बुलाई जाती, पेट्रोल बम नहीं बाँधे जाते

हिंदुओं को तीन बातें याद रखनी चाहिए, और जो भी ये मंदिर-अस्पताल की घटिया बाइनरी दे, उसके मुँह पर मार फेंकनी चाहिए।

दिल्ली-महाराष्ट्र में लॉकडाउन: राहुल गाँधी ने एक बार फिर राज्यों की नाकामी के लिए मोदी सरकार को ठहराया जिम्मेदार

"प्रवासी एक बार फिर पलायन कर रहे हैं। ऐसे में केंद्र सरकार की जिम्मेदारी है कि उनके बैंक खातों में रुपए डाले। लेकिन कोरोना फैलाने के लिए जनता को दोष देने वाली सरकार क्या ऐसा जन सहायक कदम उठाएगी?"

प्रचलित ख़बरें

‘वाइन की बोतल, पाजामा और मेरा शौहर सैफ’: करीना कपूर खान ने बताया बिस्तर पर उन्हें क्या-क्या चाहिए

करीना कपूर ने कहा है कि वे जब भी बिस्तर पर जाती हैं तो उन्हें 3 चीजें चाहिए होती हैं- पाजामा, वाइन की एक बोतल और शौहर सैफ अली खान।

‘छोटा सा लॉकडाउन, दिल्ली छोड़कर न जाएँ’: इधर केजरीवाल ने किया 26 अप्रैल तक कर्फ्यू का ऐलान, उधर ठेकों पर लगी कतार

केजरीवाल सरकार ने 26 अप्रैल की सुबह 5 बजे तक तक दिल्ली में लॉकडाउन की घोषणा की है। इस दौरान स्वास्थ्य सुविधाओं को दुरुस्त कर लेने का भरोसा दिलाया है।

नासिर ने बीड़ी सुलगाने के लिए माचिस जलाई, जलती तीली से लाइब्रेरी में आगः 3000 भगवद्गीता समेत 11 हजार पुस्तकें राख

कर्नाटक के मैसूर की एक लाइब्रेरी में आग लगने से 3000 भगवद्गीता समेत 11 हजार पुस्तकें राख हो गई थी। पुलिस ने सैयद नासिर को गिरफ्तार किया है।

‘सुअर के बच्चे BJP, सुअर के बच्चे CISF’: TMC नेता फिरहाद हाकिम ने समर्थकों को हिंसा के लिए उकसाया, Video वायरल

TMC नेता फिरहाद हाकिम का एक वीडियो सोशल मीडिया में वायरल है। इसमें वह बीजेपी और केंद्रीय सुरक्षा बलों को 'सुअर' बता रहे हैं।

‘मैं इसे किस करूँगी, हाथ लगा कर दिखा’: मास्क के लिए टोका तो पुलिस पर भड़की महिला, खुद को बताया SI की बेटी-UPSC टॉपर

महिला ने धमकी देते हुए कहा कि उसका बाप पुलिस में SI के पद पर है। साथ ही दिल्ली पुलिस को 'भिखमंगा' कह कर सम्बोधित किया।

‘F@#k Bhakts!… तुम्हारे पापा और अक्षय कुमार सुंदर सा मंदिर बनवा रहे हैं’: कोरोना पर घृणा की कॉमेडी, जानलेवा दवाई की काटी पर्ची

"Fuck Bhakts! इस परिस्थिति के लिए सीधे वही जिम्मेदार हैं। मैं अब भी देख रहा हूँ कि उनमें से अधिकतर अभी भी उनका (पीएम मोदी) बचाव कर रहे हैं।"
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,326FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe