Sunday, June 16, 2024
Homeविविध विषयधर्म और संस्कृतिज्ञानवापी के भीतर कुएँ में मिला शिवलिंग: विवादित ढाँचे का सर्वे खत्म होने के...

ज्ञानवापी के भीतर कुएँ में मिला शिवलिंग: विवादित ढाँचे का सर्वे खत्म होने के बाद हिन्दू पक्ष का दावा

हिन्दू पक्ष के वकील विष्णु जैन ने ज्ञानवापी के कुएँ में शिवलिंग मिलने का दावा करते हुए उसके संरक्षण के लिए कोर्ट जाने का ऐलान किया है। इस सर्वे के लिए गई टीम को भारी सुरक्षा व्यवस्था के बीच ले जाया गया था।

वाराणसी में ज्ञानवापी का सर्वे पूरा किया जा चुका है। इस दौरान हिन्दू पक्ष ने शिवलिंग भी मिलने का दावा किया है। यह शिवलिंग कुएँ में मिला था। इस दौरान दीवारों पर हिन्दू मंदिर के अवशेष दिखाई देने का भी दावा किया गया है। यह जानकारी 16 मई 2022 (सोमवार) को दी गई है। वाराणसी के DM के मुताबिक सर्वे रिपोर्ट कोर्ट में 17 मई 2022 (मंगलवार) को पेश की जाएगी।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक हिन्दू पक्ष के वकील विष्णु जैन ने ज्ञानवापी के कुएँ में शिवलिंग मिलने का दावा करते हुए उसके संरक्षण के लिए कोर्ट जाने का ऐलान किया है। इस सर्वे के लिए गई टीम को भारी सुरक्षा व्यवस्था के बीच ले जाया गया था।

याचिकाकर्ता सोहनलाल ने कहा, “आज कमीशन खत्म हो गया। अब दूसरे कमीशन की माँग होगी। बाबा मिल गए हैं। आप मेरी बातों से सब समझ लीजिए। बाबा नंदी महराज और देशवासियों को मिले हैं। जाँच कमिश्नर विशाल सिंह को हम धन्यवाद देते हैं।”

Z न्यूज़ के एक शो में बोलते हुए एडवोकेट विष्णु जैन ने कहा, “मैंने कोई गोपनीयता भंग नहीं की है। मैं वही सब बता रहा हूँ जो प्रकाशित हो चुका है। तथाकथित मस्जिद ज्ञानवापी की जो भी पश्चिमी दीवार को देख लेगा वो इसे हिन्दू मंदिर ही कहेगा। उसमें देवी-देवताओं की मूर्तियाँ रखने के लिए स्थान बना हुआ है। इसी के साथ घंटियाँ बनी हुई हैं। इस मामले में कुल 7 केस दाखिल हुए हैं। उन केसों में भक्त, भगवान, स्थान और मालिकाना हक सब शामिल है। आने वाले समय में सभी दावे एक साथ जोड़ दिए जाएँगे।”

एडवोकेट विष्णु जैन ने आगे कहा, “1996 में भी सर्वे हुआ था ज्ञानवापी का। अब दुबारा हुआ है। अगर दोनों स्थितियों में कोई फर्क मिला तो प्लेसेस ऑफ़ वर्शिप एक्ट विपक्षी पर लागू होगा। प्लेसेस ऑफ़ वर्शिप एक्ट हमारे अदालत जाने का अधिकार छीन लेता है। यह एक्ट सुप्रीम कोर्ट द्वारा वर्णित हर किसी के अदालत जाने के अधिकारों का उललंघन है।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

भाजपा विधायक T राजा सिंह हैदराबाद में गिरफ्तार: हमले के शिकार गोरक्षकों से जा रहे थे मिलने, आरोप- मूकदर्शक बनी रही थी तेलंगाना पुलिस

तेलंगाना के मेडक में गौ रक्षा कर रहे भाजपा कार्यकर्ताओं पर हमले में 2 लोग घायल। मिलने जा रहे भाजपा विधायक टी राजा सिंह गिरफ्तार।

बाबरी अब मस्जिद नहीं ‘ढाँचा’, राम मंदिर ‘राष्ट्रीय गर्व’, अयोध्या ‘पवित्र स्थल’: NCERT ने 12वीं की किताब में किया बदलाव, सुप्रीम कोर्ट के फैसले...

अयोध्या को भारत के सबसे पवित्र स्थलों में से एक बताया गया है। राम जन्मभूमि को 'राष्ट्रीय गर्व' लिखा गया है। सन् 1528 में इसे तोड़ कर यहाँ ढाँचा बना।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -