Sunday, June 20, 2021
Home विविध विषय धर्म और संस्कृति बेटा बलात्कारी निकल गया तो श्रीकृष्ण ने घर में घुस किया उसका वध :...

बेटा बलात्कारी निकल गया तो श्रीकृष्ण ने घर में घुस किया उसका वध : दिवाली की एक कथा ये भी

श्रीकृष्ण जब भौमासुर के महल के अंदर पहुँचे तो पाया कि उसने 16,000 स्त्रियों को बंधक बना रखा था। श्रीकृष्ण को देखते ही उन सबने एकमत से मन ही मन उन्हें अपना पति मान लिया। असल में श्रीकृष्ण की 16 हजार पटरानी होने की कहानी यही है।

हमारी धरती के इतिहास में ऐसे कई उदाहरण मिलते हैं, जब पता चलता है कि कुल कितना भी अच्छा हो अथवा माँ-बाप कितने ही अच्छे हों, ज़रूरी नहीं है कि पुत्र भी उन्हीं सद्गुणों के साथ पैदा हो। ऋषि के कुल में असुर पैदा हो सकता है, उदाहरण के तौर पर रावण को लीजिए। लेकिन, अगर भगवान किसी बेटे को जन्म दें और वो बलात्कारी एवं पतित निकल जाए तो क्या किया जाएगा? जी हाँ, हमारे इतिहास में ऐसा हुआ है। इसे जानने का इससे अच्छा मौक़ा नहीं हो सकता, क्योंकि ये कथा दिवाली से ही जुड़ी है। भगवान विष्णु के एक अवतार ने जिस बेटे को जन्म दिया, उनके दूसरे अवतार को उसी बेटे का वध करना पड़ा, ऐसा हमारे पुराणों में वर्णित है।

सीधा कहानी पर आते हैं। भौमासुर नामक एक राक्षस था। उसका नाम नरकासुर था। शनिवार (अक्टूबर 26, 2019) को जो नरक चतुर्दशी मनाई गई, वो नरकासुर वध की याद में ही मनाई जाती है। यह दीपावली पर्व का ही एक हिस्सा है। कहानी कुछ यूँ शुरू होती है कि देवराज इंद्र भौमासुर के अत्याचारों से त्रस्त हो चुके थे और उन्होंने श्रीकृष्ण के पास जाकर इसकी शिकायत की। श्रीकृष्ण को उन्होंने बताया कि भौमासुर बलात्कारी हो गया है और अन्य राजाओं की स्त्रियों का हरण करता है। इंद्र ने यह भी बताया कि वह उनके प्रिय हाथी ‘ऐरावत’ को भी छीनना चाहता है।

विष्णुपुराण, भागवतपुराण और ब्रह्मपुराण में इसका उल्लेख है। भागवत पुराण के 59वें अध्याय में श्रीकृष्ण द्वारा भौमासुर के वध को विस्तृत तरीके से बताया गया है। भौमासुर के पास कई लूटी हुई बहुमूल्य चीजें थीं। उसके पास वरुण का छत्र था। उसने माता अदिति के कुण्डल लूट लिए थे। साथ ही उसने मेरु पर्वत पर स्थित वो जगह भी छीन ली थी, जो देवताओं को प्रिय था। चूँकि, जब भगवान विष्णु वराह के रूप में उत्पन्न हुए थे, तब उनके स्पर्श के कारण वह पृथ्वी के गर्भ से उत्पन्न हुआ था।

पृथ्वी देवी ने ख़ुद इस बात को स्वीकार किया है और ये प्रकरण भी पुराणों में वर्णित है। भागवत पुराण में राजा परीक्षित को कहानी सुनाते हुए ऋषि शुकदेव ने बताया कि किस तरह श्रीकृष्ण गरुड़ पर सवार होकर और सुदर्शन चक्र लेकर उसकी राजधानी गए। भौमासुर प्राग्ज्योतिषपुर का राजा था। कहते हैं, जहाँ से पृथ्वी के गर्भ में माँ जानकी अर्थात सीता का जन्म हुआ था, वहीं पर भौमासुर का भी जन्म हुआ था (भागवत 10.2.2; 36.63)। इस तरह से भौमासुर और सीता एक ही गर्भ से पैदा होने के कारण भाई-बहन हुए। हालाँकि, बचपन में उसे भी राजा जनक ने ही पाला था, लेकिन बाद में पृथ्वी उसे ले गई और वह राजा बना।

भौमासुर की संगति भी अच्छी नहीं थी। वह बाणासुर और कंस जैसे दुष्टों का मित्र था। इस कारण उसकी भी बुद्धि भ्रष्ट हो चुकी थी। दरअसल, उसे ऋषि वशिष्ठ ने विष्णु के हाथों मारे जाने का श्राप दिया था। भागवत पुराण में उसके राज्य की घेराबंदी का जो जिक्र है, वो आजकल के लोगों को भी सोचने को मजबूर कर सकता है। उसके राज्य को सबसे पहले तो पहाड़ों से घेराबंदी की गई थी। अर्थात, पहला रक्षा कवच पहाड़ों से तैयार किया गया था। उसके बाद आग और विद्युत् की चहारदीवारी से घेराबंदी की गई थी। उसके बाद वायु, अर्थात गैस को उसके भीतर रखा गया था। सच में ये घेराबंदी काफ़ी दुर्गम थी। इसका जिक्र संस्कृत में कुछ यूँ किया गया है:

"गिरिदुर्गैः शस्त्रदुर्गैर्जलाग्न्यनिलदुर्गमम् 
मुरपाशायुतैर्घोरैर्दृढैः सर्वत आवृतम्"

इसके अलावा वहाँ बहुत सारे यंत्र भी रखे हुए थे। हालाँकि, उन्हें छिन्न-भिन्न करना श्रीकृष्ण जैसे योद्धा के लिए कोई बड़ी बात नहीं थी और उन्होंने इसके लिए बाणों और चक्र का प्रयोग किया। फिर उनका सामना मुर नामक दैत्य से हुआ। मुर ने गरुड़ पर वार किया लेकिन श्रीकृष्ण ने पाँच मुख वाले उस राक्षस को मार गिराया। उसके बाद उसके सात पुत्रों से श्रीकृष्ण का युद्ध हुआ। मुर राक्षस को मार गिराने के कारण ही उनका नाम मुरारी भी कहा गया। भौमासुर ख़ुद पागल हाथियों के साथ युद्ध करने बाहर निकला, लेकिन उसे भी भगवान श्रीकृष्ण ने मार गिराया। उसके बाद पृथ्वी वहाँ प्रकट हुई और उन्होंने भौमासुर के बेटे के प्राण की रक्षा कर वंश बचाने का निवेदन दिया।

श्रीकृष्ण ने निवेदन स्वीकार करते हुए भौमासुर के पुत्र भगदत्त को प्राणदान दे दिया। जब वह महल के अंदर पहुँचे तो उन्होंने पाया कि नरकासुर ने 16,000 स्त्रियों को बंधक बना रखा था। श्रीकृष्ण को देखते ही उन सबने एकमत से मन ही मन उन्हें अपना पति मान लिया, ऐसा विवरण भागवत पुराण में मिलता है। इसके लिए ये श्लोक देखें:

"तम्प्रविष्टं स्त्रियो वीक्ष्य नरवर्यं विमोहिताः 
मनसा वव्रिरेऽभीष्टं पतिं दैवोपसादितम्"

बताया गया है कि इसके बाद श्रीकृष्ण ने उन सभी स्त्रियों को द्वारका भेज दिया, जहाँ उनके रहने-सहने की पूरी व्यवस्था की गई और उन्हें उचित सम्मान दिया गया। यह भी वर्णन है कि उन स्त्रियों के साथ समय व्यतीत करने के लिए श्रीकृष्ण ने उतने ही रूप धारण किए थे। श्रीकृष्ण अपनी उन पत्नियों के साथ ठीक वैसा ही आचरण करते थे, जैसा एक गृहस्थ पुरुष अपनी पत्नियों के साथ करते थे। वे सभी भी कृष्ण के प्रति उतना ही प्रेम रखती थीं। इसीलिए, यह मिथक कि श्रीकृष्ण ने उन 16,000 स्त्रियों को पहले विवाह का प्रस्ताव किया, वो ग़लत है। दरअसल, उन्होंने पहले ही उन्हें देखते मात्र ही अपने मन ही मन उन्हें अपना पति मान लिया था।

भगवान श्रीकृष्ण के इस प्रकरण से हमें यह सीख मिलती है कि संतान भले ही भगवान की ही क्यों न हो, पूरी जनसंख्या का भार ढोने वाली पृथ्वी की ही क्यों न हो, ज़रूरी नहीं कि वो दुष्ट न निकले। उसी पृथ्वी की संतान माता सीता जहाँ अनंत काल के लिए एक आदर्श महिला की छवि पेश करती हैं, उसी पृथ्वी का पुत्र नरकासुर अथवा भौमासुर आतंक का साम्राज्य कायम करता है और स्त्रियों के साथ दुर्व्यवहार करता है। इस पूरे प्रकरण को परीक्षित ने शुकदेवजी के मुँह से सुना। बता दें कि परीक्षित पांडवों के वंशज थे और उनके रहते ही कलियुग का आरम्भ हुआ था। उससे पहले द्वापर युग था, जिसमें महाभारत जैसा बड़ा युद्ध हुआ और श्रीकृष्ण के रूप में भगवान विष्णु ने अवतार लिया था।

रेफरेंस : भागवत पुराण (तीसरा अध्याय, श्लोक 3), भागवत पुराण (59वाँ अध्याय, पूरा)

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘नाइट चार्ज पर भेजो रं$* सा*$ को’: दरगाह परिसर में ‘बेपर्दा’ डांस करना महिलाओं को पड़ा महंगा, कट्टरपंथियों ने दी गाली

यूजर ने मामले में कट्टरपंथियों पर निशाना साधते हुए पूछा है कि ये लोग दरगाह में डांस भी बर्दाश्त नहीं कर सकते और चाहते हैं कि मंदिर में किसिंग सीन हो।

इन 6 तरीकों से उइगर मुस्लिमों का शोषण कर रहा है चीन, वहीं की एक महिला ने सुनाई खौफनाक दास्ताँ

रिपोर्ट में कहा गया है कि चीन योजनाबद्ध तरीके से उइगर मुसलमानों की संख्‍या सीमित करने में जुटा है और इसका असर अगले 20 वर्षों में साफ देखने को मिलेगा।

शशि थरूर की अध्यक्षता वाली संसदीय स्थायी समिति के सामने पेश हुआ Twitter, खुद अपने ही जाल में फँसा: जानें क्या हुआ

संसदीय समिति ने ट्विटर के अधिकारियों से पूछताछ करते हुए साफ कहा कि देश का कानून सर्वोपरि है ना कि आपकी नीतियाँ।

हिन्दू देवी की मॉर्फ्ड तस्वीर शेयर कर आस्था से खिलवाड़, माफी माँगकर किनारे हुआ पाकिस्तानी ब्रांड: भड़के लोग

एक प्रमुख पाकिस्तानी महिला ब्रांड, जेनरेशन ने अपने कार्यालय में हिंदू देवता की एक विकृत छवि डालकर हिंदू धर्म का मजाक उड़ाया।

केजरीवाल सरकार को 30 जून तक राशन दुकानों पर ePoS मशीन लगाने का केंद्र ने दिया अल्टीमेटम, विफल रहने पर होगी कार्रवाई

ऐसा करने में विफल रहने पर क्या कार्रवाई की जाएगी यह नहीं बताया गया है। दिल्ली को एनएफएसए के तहत लाभार्थियों को बाँटने के लिए हर महीने 36,000 टन चावल और गेहूँ मिलता है।

सपा नेता उम्मेद पहलवान दिल्ली में गिरफ्तार, UP पुलिस ले जाएगी गाजियाबाद: अब्दुल की पिटाई के बाद डाला था भड़काऊ वीडियो

गिरफ्तारी दिल्ली के लोक नारायण अस्पताल के पास हुई है। गिरफ्तारी के बाद उसे गाजियाबाद लाया जाएगा और फिर आगे की पूछताछ होगी।

प्रचलित ख़बरें

70 साल का मौलाना, नाम: मुफ्ती अजीजुर रहमान; मदरसे के बच्चे से सेक्स: Video वायरल होने पर केस

पीड़ित छात्र का कहना है कि परीक्षा में पास करने के नाम पर तीन साल से हर जुम्मे को मुफ्ती उसके साथ सेक्स कर रहा था।

‘…इस्तमाल नहीं करो तो जंग लग जाता है’ – रात बिताने, साथ सोने से मना करने पर फिल्ममेकर ने नीना गुप्ता को कहा था

ऑटोबायोग्राफी में नीना गुप्ता ने उस घटना का जिक्र भी किया है, जब उन्हें होटल के कमरे में बुलाया और रात बिताने के लिए पूछा।

BJP विरोध पर ₹100 करोड़, सरकार बनी तो आप होंगे CM: कॉन्ग्रेस-AAP का ऑफर महंत परमहंस दास ने खोला

राम मंदिर में अड़ंगा डालने की कोशिशों के बीच तपस्वी छावनी के महंत परमहंस दास ने एक बड़ा खुलासा किया है।

‘रेप और हत्या करती है भारतीय सेना, भारत ने जबरन कब्जाया कश्मीर’: TISS की थीसिस में आतंकियों को बताया ‘स्वतंत्रता सेनानी’

राजा हरि सिंह को निरंकुश बताते हुए अनन्या कुंडू ने पाकिस्तान की मदद से जम्मू कश्मीर को भारत से अलग करने की कोशिश करने वालों को 'स्वतंत्रता सेनानी' बताया है। इस थीसिस की नजर में भारत की सेना 'Patriarchal' है।

वामपंथी नेता, अभिनेता, पुलिस… कुल 14: साउथ की हिरोइन ने खोल दिए यौन शोषण करने वालों के नाम

मलयालम फिल्मों की एक्ट्रेस रेवती संपत ने एक फेसबुक पोस्ट में 14 लोगों के नाम उजागर कर कहा है कि इन सबने उनका यौन शोषण किया है।

कम उम्र में शादी करो, एक से ज्यादा करो: अभिनेता फिरोज खान ने पैगंबर मोहम्मद का दिया उदाहरण

फिरोज खान ने कहा कि शादी सीखने का एक अनुभव है। इस्लामिक रूप से यह प्रोत्साहित भी करता है, इसलिए बहुविवाह आम प्रथा होनी चाहिए।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
104,984FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe