अनुराग कश्यप ने Sacred Games में किया सिखों का अपमान: गुरुद्वारा कमिटी के अध्यक्ष का आरोप

अनुराग कश्यप द्वारा धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुँचाने का काम पहली बार नहीं किया गया है। इससे पहले भी वह अपने निर्देशन में हिंदू-फोबिक कंटेंट दिखाकर लोगों के निशाने पर आ चुके हैं।

शिरोमणि अकाली दल के नेता और दिल्ली के विधायक मनजिंदर सिंह सिरसा ने विवादित फिल्म निर्माता अनुराग कश्यप पर आरोप लगाया है कि उन्होंने नेटफ्लिक्स की सेक्रेड गेम्स सीजन 2 में धार्मिक चिह्नों का अपमान करके सिखों की भावनाओं को ठेस पहुँचाया। सिरसा दिल्ली सिख गुरुद्वारा कमिटी के अध्यक्ष भी हैं।

अपने एक ट्वीट में सिरसा ने अनुराग कश्यप पर निशाना साधते हुए कहा, “मैं हैरान हूँ कि बॉलीवुड लगातार हमारे धार्मिक चिह्नों को अपमानित कर रहा है! अनुराग कश्यप ने जान-बूझ कर सेक्रेड गेम्स के सीजन 2 में ऐसा दृश्य डाला है जहाँ सैफ अली खान अपना कड़ा समुद्र में फेंक देते हैं। कड़ा कोई आम जेवर नहीं है। ये सिखों का गुरूर है और गुरु साहिब का आशीर्वाद है।”

बता दें ‘कड़ा’ या ‘करा’ का महत्व सिखों के लिए इसलिए इतना है क्योंकि ये उन ‘पंज ककार’ का ही एक हिस्सा हैं जिन्हें एक सिख हमेशा धारण किए रहते हैं। बाकी चार केश, कंघा, कछेरा और कृपाण हैं। ‘पंज ककार’ की प्रथा को सिखों के दसवें गुरु गोबिंद सिंह द्वारा शुरू किया गया था। उन्होंने 1699 में सभी सिखों को इसे धारण करने का आदेश दिया था। इसलिए सिख समुदाय के लोगों का मानना है कि पाँच ककार सिर्फ़ उनके सिख होने का ही सूचक नहीं हैं, बल्कि ये ऐसा विश्वास है जो उन्हें सामूहिक रूप से एक अलग पहचान देता है और उनके सिख रहने के विश्वास को जीवित रखता है।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

रही बात अब अनुराग कश्यप की तो उनके द्वारा धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुँचाने का काम पहली बार नहीं किया गया है। इससे पहले भी वह अपने निर्देशन में हिंदू-फोबिक कंटेंट दिखाकर लोगों के निशाने पर आ चुके हैं। अपने शो के जरिए वह भारतीय संस्कृति और खासकर हिंदुओं के ख़िलाफ़ घृणा और आपत्तिजनक सामग्री फैलाने का काम करते है। शायद इसलिए अपना कारनामों से मिलने वाली आलोचना को देखने से पहले वो ट्विटर से नौ दो ग्यारह हो गए हैं।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

सुब्रमण्यम स्वामी
सुब्रमण्यम स्वामी ने ईसाइयत, इस्लाम और हिन्दू धर्म के बीच का फर्क बताते हुए कहा, "हिन्दू धर्म जहाँ प्रत्येक मार्ग से ईश्वर की प्राप्ति सम्भव बताता है, वहीं ईसाइयत और इस्लाम दूसरे धर्मों को कमतर और शैतान का रास्ता करार देते हैं।"

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

154,510फैंसलाइक करें
42,773फॉलोवर्सफॉलो करें
179,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: