Friday, July 1, 2022
Homeविविध विषयमनोरंजनअब पान मसाला नहीं बेचेंगे अमिताभ बच्चन, विज्ञापन का करार खत्म कर फीस लौटाई:...

अब पान मसाला नहीं बेचेंगे अमिताभ बच्चन, विज्ञापन का करार खत्म कर फीस लौटाई: 80वें जन्मदिन पर दी जानकारी

टीम ने बताया है कि जब अमिताभ बच्चन इस पान मसाला एड से जुड़े थे, तब उन्हें इस बात की जानकारी नहीं थी कि ये सरोगेट विज्ञापन के अंतर्गत आता है।

बॉलीवुड अभिनेता अमिताभ बच्चन सोमवार (11 अक्टूबर, 2021) को अपना 80वाँ जन्मदिन मना रहे हैं। इसी बीच जानकारी आई है कि उन्होंने विरोध के बाद पान मसाला का विज्ञापन बंद कर दिया है। कुछ ही दिनों पहले उनका एक विज्ञापन सामने आया था, जिसमें उनके साथ अभिनेता रणवीर सिंह भी दिखे थे। टीवी पर इसके जारी होने के कुछ ही दिनों बाद अब बॉलीवुड मेगास्टार ने इससे अपना करार ख़त्म कर दिया है।

अमिताभ बच्चन के कई प्रशंसकों और कई तम्बाकू व धूम्रपान विरोधी NGO ने भी राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता अभिनेता से आग्रह किया था कि वो पान मसाला का विज्ञापन न करें। सोशल मीडिया पर इसके लिए उनका कड़ा विरोध भी हुआ था। अमिताभ बच्चन के टीम के बयान के अनुसार, कुछ दिनों पहले एक विज्ञापन प्रसारित हुआ था। टीम ने आगे कहा कि अमिताभ बच्चन ने अब उस ब्रांड से संपर्क कर के करार ख़त्म करने का आग्रह किया।

पिछले सप्ताह ही उन्होंने ऐसा कर दिया था। टीम ने बताया है कि जब अमिताभ बच्चन इस पान मसाला एड से जुड़े थे, तब उन्हें इस बात की जानकारी नहीं थी कि ये सरोगेट विज्ञापन के अंतर्गत आता है। अमिताभ बच्चन न सिर्फ पान मसाला ब्रांड से अपने करार को ख़त्म कर के विज्ञापन से पीछे हट गए, बल्कि उन्होंने अपनी फीस भी वापस कर दी है। आधिकारिक बयान जारी कर इसकी जानकारी दी गई है।

बता दें कि सरोगेट विज्ञापन उसे कहते हैं, जिसमें सिगरेट या अल्कोहल जैसे प्रोडक्ट्स का विज्ञापन किसी अन्य वस्तु की आड़ में किया जाता है। कुछ दिनों पहले एक फैन को जवाब देते हुए अमिताभ बच्चन ने कहा था कि इस विज्ञापन के लिए वो क्षमाप्रार्थी हैं। उन्होंने ये भी कहा था कि इसी भी व्यवसाय से कई लोगों का भला हो रहा हो, तो हमें उसके बारे में गलत नहीं सोचना चाहिए और हमें अपने व्यवसाय के बारे में भी सोचना पड़ता है।

तम्बाकू के खिलाफ अभियान चलाने वाले एक राष्ट्रीय NGO ने अमिताभ बच्चन से अपील की थी कि वो पान मसाला का विज्ञापन छोड़ें। NGO ने कहा था कि इससे युवाओं में गलत सन्देश जा रहा है। ‘National Organisation for Eradication of Tobacco’ के अध्यक्ष शेखर सलकर ने पत्र लिख कर कहा था कि चूँकि बच्चन सरकार के प्लस पोलियो अभियान के ब्रांड एम्बेसडर हैं, उन्हें जल्द से जल्द पान मसाला का विज्ञापन छोड़ना चाहिए।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एकनाथ शिंदे मुख्यमंत्री बनेंगे, नहीं थी किसी को कल्पना’: राजनीति के धुरंधर एनसीपी चीफ शरद पवार भी खा गए गच्चा, कहा- उम्मीद थी वो...

शरद पवार ने कहा कि किसी को भी इस बात की कल्पना नहीं थी कि एकनाथ शिंदे को महाराष्ट्र का सीएम बना दिया जाएगा।

आँखों के सामने बच्चों को खोने के बाद राजनीति से मोहभंग, RSS से लगाव: ऑटो चलाने से महाराष्ट्र के CM बनने तक शिंदे का...

साल में 2000 में दो बच्चों की मौत के बाद एकनाथ शिंदे का राजनीति से मोहभंग हुआ। बाद में आनंद दिघे उन्हें वापस राजनीति में लाए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
201,261FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe