Friday, July 23, 2021
Homeविविध विषयमनोरंजन'मोदी का चमचा अमिताभ क्यों हुआ अस्पताल में भर्ती?' - हिंदुओं से नफरत करने...

‘मोदी का चमचा अमिताभ क्यों हुआ अस्पताल में भर्ती?’ – हिंदुओं से नफरत करने वाले प्रोफेसर ने उगला जहर

"ये मोदी चमचा, कोरोना के हल्के लक्षण पाए जाने के बाद अस्पताल में भर्ती हुआ है।" - अमिताभ के लिए ये कहने वाले प्रोफेसर अशोक स्वैन ने अनुपम खेर की माता व भाई के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने पर पूछा - "ये लोग कौन सी जमात से हैं।"

शिक्षित व्यक्ति समझदार ही हो- ये हर बार जरूरी नहीं होता। कई दफा पढ़े-लिखे इंसान भी ऐसी जाहिलियत भरी बातें करते हैं कि मानवता भी स्तब्ध रह जाए।

अशोक स्वैन इस बात का बिलकुल सटीक उदहारण हैं। जो साबित करते हैं कि कुत्सित मानसिकता वाला व्यक्ति केवल किताबों के सहारे पद को हासिल करना जानता है, उसका संवेदनाओं से कोई सरोकार नहीं होता।

एक ओर जहाँ अमिताभ बच्चन के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद पूरा देश उनकी सलामती की कामनाएँ कर रहा है। प्रशंसक हों या आलोचक उन्हें जल्द ठीक होने का संदेश दे रहे हैं। वहीं स्वीडन की उपसला यूनिवर्सिटी में पीस एंड कॉन्फ्लिक्ट के प्रोफेसर अशोक स्वैन उन्हें मोदी का चमचा कहकर उनपर अपनी कुँठा निकाल रहे हैं।

अशोक स्वैन अपने ट्वीट में अमिताभ बच्चन के लिए लिखते हैं- “ये मोदी चमचा, कोरोना के हल्के लक्षण पाए जाने के बाद अस्पताल में भर्ती हुआ है। इसने आयुष मत्रालय की voodoo दवाइयाँ क्यों नहीं ली। ये धोखेबाजी बिलकुल ऐसी है, जैसे भाजपा नेता कैंसर होने पर सीधे अमेरिका भागते हैं। मगर, बेवकूफों को गौमूत्र पीने को कहते हैं।”

बात इस अकेले ट्वीट की नहीं है। स्वीडन के इस प्रोफेसर को अमिताभ बच्चन से या उनकी बॉलीवुड यात्रा से कोई लेना-देना नहीं है। उनका गुस्सा तो मोदी सरकार और हिंदुओं पर है, जिसके चलते वह सदी के महानायक को भी नहीं बख्शना चाहते और उनके काम को नजरअंदाज करके सिर्फ़ उन्हें मोदी के प्रशंसक के तौर पर घेर रहे हैं।

अशोक स्वैन क्या है, इसके लिए आपको उसके कुछ अन्य ट्विट्स देखने होंगे। जो बताते हैं कि आखिर मोदी सरकार की नीतियों की तारीफ करने वाले अमिताभ बच्चन को हुआ कोरोना उनके लिए संवेदना व्यक्त करने का मसला न होकर जहर उगलने का विषय क्यों है? अशोक के ट्विटर से गुजरते हुए मालूम चलता है कि उन्हें केवल हिंदुओं से नफरत नहीं है। बल्कि चीनियों के प्रति भी उनके मन में अपार प्रेम है।

इसके अलावा उन्हें मोदी सरकार के एक अन्य प्रशंसक व बॉलीवुड एक्टर अनुपम खेर से भी इतनी दिक्कत है कि वो तबलीगी जमात पर उठे सवालों को काउंटर करने के लिए अनुपम खेर की माता व भाई के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने पर निशाना साधने से नहीं चूकते और पूछते हैं कि आखिर ये लोग कौन सी जमात से हैं।

अशोक स्वैन के जहर उगलने का सिलसिला इतने पर नहीं थमता। वह आगे छत्रपति शिवाजी का अपमान करने वाली कॉमेडियन के प्रति अपनी सहानुभूति दिखाते हैं। लेकिन अर्णब गोस्वामी समेत भारतीय पत्रकारों के प्रति उनके मन में कुँठा साफ नजर आती है। वो स्वीडन में बैठे-बैठे विकास दुबे के एनकाउंटर को स्पष्ट हत्या बताते हैं और भगवा को आतंक का पर्याय बताने में कोई कसर नहीं छोड़ते।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

काशी विश्वनाथ मंदिर की हुई ज्ञानवापी मस्जिद की 1700 फीट जमीन

काशी विश्‍वनाथ मंदिर प्रशासन और ज्ञानवापी मस्जिद पक्ष की ओर से पहले ही इस मामले पर सहमति बातचीत के दौरान बनी थी।

‘कौन है स्वरा भास्कर’: 15 अगस्त से पहले द वायर के दफ्तर में पुलिस, सिद्धार्थ वरदराजन ने आरफा और पेगासस से जोड़ दिया

इससे पहले द वायर की फर्जी खबरों को लेकर कश्मीर पुलिस ने उनको 'कारण बताओ नोटिस' जारी किया था। उन पर मीडिया ट्रॉयल में शामिल होने का भी आरोप है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
110,891FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe