Tuesday, June 18, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजनहमारा धर्म सनातन है... '695' में राम मंदिर के संघर्ष की गाथा, प्राण प्रतिष्ठा...

हमारा धर्म सनातन है… ‘695’ में राम मंदिर के संघर्ष की गाथा, प्राण प्रतिष्ठा से पहले रिलीज होगी अरुण गोविल और मनोज जोशी की फिल्म

फिल्म ऐतिहासिक संघर्ष को पर्दे पर उतारने का निर्देशक रजनीश बेरी और योगेश भारद्वाज बेरी की एक कोशिश है। शादानी फिल्मस के बैनर तले बनी ढाई घंटे की ये फिल्म सदियों पुराने सपने को वास्तविकता में साकार होने की कहानी पर्दे पर जीवंत करती है।

22 जनवरी, 2024 को निर्माणाधीन राम मंदिर के गर्भगृह में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा का समारोह होना है। उससे पहले देशवासी इस मंदिर के संघर्ष की गाथा को 19 जनवरी, 2024 को रिलीज हो रही फिल्म ‘695’ में देख पाएँगे। इस फिल्म में टीवी के पर्दे पर राम के चरित्र को जीवंत कर देने वाले अरुण गोविल सहित सिने जगत के कई अन्य नामी कलाकार भी है।

इस फिल्म का प्रीमियर शो 12 जनवरी, 2024 को दिल्ली में हुआ। राम जन्मभूमि के संघर्षों की तारीखों की वजह से फिल्म का नाम ‘695’ सुर्खियों में है। ये फिल्म दरअसल अयोध्या में राम मंदिर के ऐतिहासिक निर्माण का मार्ग प्रशस्त करने वाले अटूट संघर्ष और बलिदानों की 500 साल की गाथा है।

राम जन्मभूमि आंदोलन की तीन अहम घटनाओं को जोड़कर फिल्म का नाम रखा गया है। इनमें पहली घटना बाबरी ढाँचा ध्वस्त करने की 6 दिसंबर 1992 की तारीख है तो दूसरी घटना सुप्रीम कोर्ट ने रामजन्म भूमि को लेकर बड़े फैसले की तारीख 9 नवंबर 2019 की है। तीसरी घटना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मंदिर का शिलान्यास की तारीख 5 अगस्त, 2020 की है। तब फिल्म का टाइटल ‘695’ बना।

फिल्म ऐतिहासिक संघर्ष को पर्दे पर उतारने का निर्देशक रजनीश बेरी और योगेश भारद्वाज बेरी की एक कोशिश है। ‘शादानी फिल्मस’ के बैनर तले बनी ढाई घंटे की ये फिल्म सदियों पुराने सपने को वास्तविकता में साकार होने की कहानी पर्दे पर जीवंत करती है।

इस फिल्म की एक वीडियो क्लिप फिल्म वकील बने मनोज जोशी ने अपने ‘एक्स’ हैंडल पर शेयर की है। इसके साथ उन्होंने लिखा है, “19 जनवरी को आ रही है श्री राम जन्मभूमि के संघर्ष पर आधारित मेरी फ़िल्म ‘695’। यह केवल एक फ़िल्म नही है, बल्कि हमारी आस्था और स्वाभिमान की रक्षा के लिए दिए बलिदान की गाथा है, जिसे चलचित्र में पिरोने का पुनीत प्रयास हुआ है। ज़रूर देखिएगा!”

फिल्म की इस क्लिप में सबसे पहले सुप्रीम कोर्ट का विजुएल है। इसके बाद वकील के तौर पर मनोज जोशी स्क्रीन पर नजर आते हैं। उसके बाद डॉयलाग्स आता है, “हमने न कभी आक्रमण किया, न किसी की धरती छीनी, न किसी की सभ्यता संहार किया, हमारा धर्म सनातन है”

फिल्म को लेकर रामानंद सागर की टेलीविजन सीरीज रामायण में राम का किरदार निभा चुके अभिनेता अरुण गोविल इस फिल्म में साधु बाबा अभिराम दास के किरदार में नजर आएँगे जो अपना पूरा जीवन राम और राम मंदिर बनने के इंतजार में बिता देते हैं।

अरुण गोविल कहते हैं, “लाखों लोगों के दिलों में एक विशेष स्थान रखने वाली उस कालजयी कहानी को फिर से देखना सम्मान की बात है। ‘695’ सिर्फ एक फिल्म नहीं है; यह हमारी सांस्कृतिक विरासत और आस्था की जीत का उत्सव है।”

वो आगे कहते हैं कि फिल्म को लेकर वो कहते हैं कि यह एक अच्छी फिल्म है और हमें खुशी है कि यह सही समय पर रिलीज हो रही है। फिल्म अच्छी बनी है और हमें इस फिल्म के शीर्षक और उसके अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद है। गोविल ने कहा, “500 वर्षों के बाद मुझे लगता है कि राम भगवान हमारे घर आ रहे हैं। मैं 22 तारीख को अयोध्या जा रहा हूँ। मैं बस सरलता से आगे बढ़ता रहूँगा।”

फिल्म को आदेश के अर्जुन, योगेश भारद्वाज और श्याम चावला ने लिखा है। ये अरुण गोविल, मनोज जोशी के अलावा गोविंद नामदेव, मुकेश तिवारी, अशोक समर्थ, केके रैना, शैलेंद्र श्रीवास्तव, दयाशंकर पांडे, विकाश महंते, सुशीलाजीत साहनी और गरिमा अग्रवाल के अभिनय से सजी है।

पूर्वजों के इस संघर्ष और दर्द को समाज के सामने बताने के लिए खूबसूरत गीत आशीष पंडित ने लिखे तो संगीत निर्देशन वेद शर्मा का है। दलेर मेहंदी का गाया ‘एलान कर’ गाना फिल्म का एक अहम हिस्सा है। इसे लेकर मेहंदी ने कहा था, ”जब से यह गाना मेरे पास आया है, तब से मैं इसे लेकर काफी रोमांचित हूं। फिल्म की कहानी ने सचमुच मेरे दिल को छू लिया। समाज को हमारे देश के इतिहास और हमारे द्वारा किए गए संघर्ष पर नजर रखने की जरूरत है। यह ट्रैक इस फिल्म के बिंदुओं को जोड़ता है और मुझे इसका हिस्सा बनकर खुशी हो रही है। मैं यह देखने के लिए इंतजार नहीं कर सकता कि क्या दर्शकों को यह गाना उतना ही पसंद आएगा जितना हमने इसे बनाते समय दिया था।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

तेजस्वी यादव के बगल में खड़े इस राजा को देखिए, वहीं के व्यवसायी को सुपारी देकर मरवाया जहाँ से माँ थी RJD उम्मीदवार: हत्या...

बिहार के पूर्णिया में 2 जून, 2024 को हुई एक व्यवसायी गोपाल यादुका की हत्या की सुपारी राजद नेता बीमा भारती के बेटे राजा ने दी थी।

चुनाव ब्रिटेन का और वोट ‘कश्मीर की आजादी’ के नाम पर माँग रहा सत्ताधारी दल का सांसद, हिंदू-भारत घृणा से भरा है चुनावी अभियान

कंजर्वेटिव पार्टी के नेता मार्को लोंगी ने पहले तो बकरीद की शुभकामनाएँ दी, उसके बाद भारत विरोधी आग उगलना शुरू किया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -