Saturday, June 22, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजनफर्जी खबरें फैलाने की उस्ताद कॉन्ग्रेस नेता रम्या आ रहीं 'दिल का राजा' के...

फर्जी खबरें फैलाने की उस्ताद कॉन्ग्रेस नेता रम्या आ रहीं ‘दिल का राजा’ के साथ

कॉन्ग्रेस की पूर्व सांसद ने पुलवामा में आतंकी हमले के बाद असंवेदनशील बयानों को हवा देने की कोशिश की थी। हमले के मास्टरमाइंड आदिल डार के आतंकवादी बनने को शर्मनाक तरीके से सही ठहराया था।

फर्जी खबरें फैलाने की उस्ताद रहीं कॉन्ग्रेस नेता दिव्या स्पंदना उर्फ रम्या के सिल्वर स्क्रीन पर लौटने की खबर सामने आ रही है। एक्टर से नेता बनी स्पंदना की कन्नड़ फिल्म ‘दिल का राजा’ का टीजर शुक्रवार को रिलीज हुआ। कयास लगाए जा रहे हैं कि वह सक्रिय राजनीति से तौबा कर वापस फिल्मी दुनिया में लौटने को तैयार हैं।

हालॉंकि पूरी तरह से उनके फिल्मी दुनिया में लौटने को लेकर यकीनी तौर से कुछ कहा नहीं जा सकता, क्योंकि वे गायब होने की कला के लिए जानी जाती हैं। वैसे, रम्या कई महीनों से कॉन्ग्रेस के किसी भी कार्यक्रम में नजर नहीं आई हैं। कॉन्ग्रेस की सोशल मीडिया टीम की मुखिया के पद से इस्तीफा देने के बाद से सोशल मीडिया पर भी सक्रिय नहीं हैं।

बता दें कि पूर्व सांसद रम्या 2019 के लोकसभा चुनावों के दौरान कॉन्ग्रेस की सोशल मीडिया टीम की कमान सॅंभाल रही थी। लोकसभा चुनाव में कॉन्ग्रेस की बुरी हार के बाद उन्होंने अपने पद से इस्तीफा दे दिया था। जिसके बाद पार्टी ने गुजरात कॉन्ग्रेस के मीडिया कोऑर्डिनेटर रोहन गुप्ता को सोशल मीडिया डिपार्टमेंट का चेयरमैन बनाया है।

बता दें कि दिव्या स्पंदना गलत जानकारियाँ ट्वीट करने और भ्रामक अभियान चलाने के लिए कुख्यात रही हैं। भारत की सबसे तेज़ रफ़्तार ट्रेन ‘वंदे भारत एक्सप्रेस’ की सफलता को ख़ारिज करने के लिए दिव्या स्पंदना ने फर्जी ख़बरों का सहारा लेते हुए इसके बारे में झूठ फैलाने की कोशिश की।

कॉन्ग्रेस की पूर्व सांसद ने पुलवामा में आतंकी हमले के बाद असंवेदनशील बयानों को हवा देने की कोशिश की थी। हमले के मास्टरमाइंड आदिल डार के आतंकवादी बनने को शर्मनाक तरीके से सही ठहराया था। इसके अलावा दिव्या स्पंदना ने अल्ट्रा-लेफ्ट विंग वकील प्रशांत भूषण के एक ट्वीट को री-ट्वीट भी किया, जिसमें उन्होंने देश के ख़िलाफ़ युद्ध छेड़ने के लिए आतंकवाद में शामिल होने वाले कश्मीरी युवाओं को सही ठहराया था।

दिव्या ने इससे पहले अपने अकॉउंट पर ट्वीट करते हुए मीम शेयर किया था। इसमें उन्होंने लिखा था कि मोदी को वोट देने वाले तीन लोगों में एक आदमी बेवकूफ़ होता है, बिल्कुल बाक़ी दोनों की तरह।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नालंदा विश्वविद्यालय को ब्राह्मणों ने ही जलाया था, 11वीं सदी का शिलालेख है साक्ष्य!!

नालंदा विश्वविद्यालय को ब्राह्मणों ने ही जलाया था, बख्तियार खिलजी ने नहीं। ब्राह्मण+बुर्के वाली के संभोग को खोद निकाला है इस इतिहासकार ने।

10 साल जेल, ₹1 करोड़ जुर्माना, संपत्ति भी जब्त… पेपर लीक के खिलाफ आ गया मोदी सरकार का सख्त कानून, NEET-NET परीक्षाओं में गड़बड़ी...

परीक्षा आयोजित करने में जो खर्च आता है, उसकी वसूली भी पेपर लीक गिरोह से ही की जाएगी। केंद्र सरकार किसी केंद्रीय जाँच एजेंसी को भी ऐसी स्थिति में जाँच सौंप सकती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -