Thursday, April 25, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजनहॉरर फिल्मों के 'सरताज' कुमार रामसे का निधन: 85 साल की उम्र में पड़ा...

हॉरर फिल्मों के ‘सरताज’ कुमार रामसे का निधन: 85 साल की उम्र में पड़ा दिल का दौरा

70 और 80 के दशक में हॉरर फिल्मों का सरताज रामसे ब्रदर्स (कुमार, तुलसी, श्याम, केशू, किरण, गंगू और अर्जुन) को माना जाता था। सात भाइयों में कुमार सबसे बड़े थे। वे अधिकांशत: फिल्मों की स्क्रिप्टिंग का काम करते थे।

बॉलीवुड के सुपरस्टार दिलीप कुमार के इंतकाल के बाद गुरुवार (8 जुलाई 2021) को बॉलीवुड इंडस्ट्री के मशहूर निर्माता-निर्देशक कुमार रामसे का निधन हो गया। दिल का दौरा पड़ने के कारण 85 वर्षीय कुमार ने आज सुबह आखिरी साँस ली। कुमार रामसे के भतीजे अमित रामसे के मुताबिक, “उनको गुरुवार सुबह करीब 5:30 बजे दिल का तेज दौरा पड़ा और उन्होंने हीरानंदानी स्थित अपने घर पर ही अंतिम साँस ली।”

बता दें कि 70 और 80 के दशक में हॉरर फिल्मों का सरताज रामसे ब्रदर्स (कुमार, तुलसी, श्याम, केशू, किरण, गंगू और अर्जुन) को माना जाता था। सात भाइयों में कुमार सबसे बड़े थे। वे अधिकांशत: फिल्मों की स्क्रिप्टिंग का काम करते थे। पुराना मंदिर, साया, खोज जैसी फिल्मों में उनका काम देखते बनता है। 

कुमार के दो छोटे भाइयों, तुलसी का 2018 में और श्याम रामसे का 2019 में देहांत हो गया था। इसके बाद तीसरे भाई अर्जुन, जिनके जिम्मे पोस्ट प्रोडक्शन का काम और एडिटिंग का जिम्मा आता था उनकी मृत्यु भी 2019 में हो गई थी। किरण रामसे जो साउंड डिपार्टमेंट देखते थे उनका निधन 2017 में हुआ था, जबकि केशू रामसे ने अपनी आखिरी साँस 2010 में ली थी।

जानकारी के मुताबिक, जीवन के आखिरी दिनों में कुमार अपने बीवी बच्चों के साथ रह रहे थे। उनके साथ उनकी पत्नी शीला और तीन लड़के राज, गोपाल, सुनील थे। बतौर निर्देशक और निर्माता उन्होंने कई फिल्में लिखीं, साथ ही उनका निर्देशन भी किया। अंधेरा, दरवाजा, और कौन, सबूत, गेस्ट हाउस, दहशत, पुराना मंदिर, टेलीफोन, सामरी, डाक बंगला, साया और खोज फिल्मों की स्क्रिप्ट उन्होंने ही लिखी थी।

रामसे ब्रदर्स की जीवनी ‘डोंट डिस्टर्ब द डेड: द स्टोरी ऑफ़ द रामसे ब्रदर्स’ के अनुसार, 1947 में विभाजन के बाद उनका परिवार मुंबई आया था। मुंबई आने के बाद उनके पिता एफयू रामसे ने एक इलेक्ट्रॉनिक दुकान खोली थी, लेकिन बाद में वह फिल्मों की ओर मुड़ गए। सिनेमा जगत में सातों भाइयों ने अपने पिता के नक्शे-कदम पर चलते हुए फिल्में बनाना शुरू किया और एक दौर ऐसा आया जब कम बजट में कल्ट और उस समय के मुताबिक जबरदस्त हॉरर फिल्में रामसे भाइयों ने बॉलीवुड को दीं।

आज कुमार रामसे के जाने से बॉलावुड में एक बार फिर शोक पसर गया है। अभी कल ही दिलीप कुमार का लंबे समय तक बीमार रहने के बाद निधन हुआ था। दिलीप कुमार को पिछले 1 महीने में 2 बार अस्पताल में भर्ती कराया गया था। 5 जुलाई 2021 को उनके आधिकारिक ट्विटर हैंडल से जारी किए गए अपडेट में उनकी पत्नी सायरा बानो ने बताया था कि उनकी हालत में सुधार हो रहा है, लेकिन कल मालूम चला कि हिंदुजा अस्पताल में उनका निधन हो गया।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कॉन्ग्रेस ही लेकर आई थी कर्नाटक में मुस्लिम आरक्षण, BJP ने खत्म किया तो दोबारा ले आए: जानिए वो इतिहास, जिसे देवगौड़ा सरकार की...

कॉन्ग्रेस का प्रचार तंत्र फैला रहा है कि मुस्लिम आरक्षण देवगौड़ा सरकार लाई थी लेकिन सच यह है कि कॉन्ग्रेस ही इसे 30 साल पहले लेकर आई थी।

मुंबई के मशहूर सोमैया स्कूल की प्रिंसिपल परवीन शेख को हिंदुओं से नफरत, PM मोदी की तुलना कुत्ते से… पसंद है हमास और इस्लामी...

परवीन शेख मुंबई के मशहूर स्कूल द सोमैया स्कूल की प्रिंसिपल हैं। ये स्कूल मुंबई के घाटकोपर-ईस्ट इलाके में आने वाले विद्या विहार में स्थित है। परवीन शेख 12 साल से स्कूल से जुड़ी हुई हैं, जिनमें से 7 साल वो बतौर प्रिंसिपल काम कर चुकी हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe