Wednesday, December 8, 2021
Homeविविध विषयमनोरंजनफराह खान नहीं चाहती थी कि 'मैं हूँ ना' फिल्म का विलेन मुस्लिम हो

फराह खान नहीं चाहती थी कि ‘मैं हूँ ना’ फिल्म का विलेन मुस्लिम हो

वैसे, फराह ख़ान ने कुछ नया नहीं कहा है। ईसाइयों और मुस्लिमों को लेकर तो बॉलीवुड ख़ासा संजीदा रहता है। लेकिन जहाँ बात हिन्दुओं की आती है तो उनकी भावनाओं का सम्मान नहीं किया जाता।

बॉलीवुड में हिन्दुओं को बदनाम करने का खेल दशकों से चल रहा है। जहाँ एक तरफ पंडितों को चुगली करने वाला दिखाया जाता है वहीं दूसरी तरफ मौलवियों को एक सीधा-सादा ईमानदार इंसान के तौर पर चित्रित किया जाता है। ‘ओम शांति ओम’ और ‘हैप्पी न्यू ईयर’ जैसी फ़िल्मों का निर्देशन कर चुकीं फराह ख़ान ने 2004 में आई अपनी फ़िल्म ‘मैं हूँ ना’ को लेकर बड़ा खुलासा किया है। इस फ़िल्म में शाहरुख़ ख़ान और सुष्मिता सेन ने लीड रोल निभाया था, वहीं सुनील शेट्टी विलेन के किरादर में नज़र आए थे। जाएद ख़ान, नसीरुद्दीन शाह और अमृता राव इस फ़िल्म में सहायक किरदारों में नज़र आए थे।

फराह ख़ान ने ‘ऑडिबल सुनो’ के पॉडकास्ट ‘पिक्चर के पीछे’ में कहा कि उन्होंने ये सुनिश्चित किया था कि ‘मैं हूँ ना’ का मुख्य विलेन वाला किरदार मुस्लिम न हो। फराह नहीं चाहती थीं कि इस फ़िल्म का विलेन मुस्लिम हो। इसमें मुख्य विलेन के सहायक विलेन का सरनेम ख़ान होता है, जिसे अंत में पता चलता है कि उसे बहकाया जा रहा था। फिर वो देश के प्रति अपने प्यार को प्रदर्शित करता है और आतंकवाद को अलविदा कह देता है। इस फ़िल्म में सुनील शेट्टी के किरदार का नाम ‘राघवन’ था। फ़िल्म में दिखाया गया था कि ‘मुट्ठी भर लोग’ भारत-पाकिस्तान के रिश्ते को ख़राब करना चाहते हैं, जिनसे शाहरुख़ ख़ान का किरदार निपटता है।

इसमें ज़ाएद ख़ान की भूमिका के लिए ऋतिक रोशन को एप्रोच किया गया था, लेकिन उन्होंने सहायक किरदार निभाने से इनकार कर दिया था। फराह ख़ान ने बताया कि वो इस फ़िल्म का दूसरा भाग भी बनाना चाहती हैं लेकिन उनके पास लंबे समय से कोई कहानी ही नहीं आई है।

कुल मिलकर देखें तो फराह ख़ान ने कुछ नया नहीं कहा है। ईसाइयों और मुस्लिमों को लेकर तो बॉलीवुड ख़ासा संजीदा रहता है, लेकिन जहाँ बात हिन्दुओं की आती है तो उनकी भावनाओं का सम्मान नहीं किया जाता। जैसे, हाल ही में फराह ख़ान, रवीना टंडन और भारती सिंह ने ईसाइयों की पवित्र पुस्तक ‘बाइबिल’ के एक शब्द को लेकर कॉमेडी किया था। इसके बाद देश भर में ईसाइयों ने विरोध-प्रदर्शन शुरू कर दिया था। सोशल मीडिया पर माफ़ी माँगने से भी जब काम नहीं चला तब तीनों हस्तियों ने रोमन कैथोलिक चर्च के भारतीय कार्डिनल ओसवाल्ड ग्रेसियस से मिल कर लिखित में माफ़ीनामा सौंपा था। क्यों?

क्योंकि विवाद ईसाई समुदाय से जुड़ा था। लेकिन जैन मुनि तरुण सागर पर विवादित टिप्पणी करने वाला संगीतकार तब उनकी चौखट पर पहुॅंचा जब उसे पुलिसिया कार्रवाई का डर सताने लगा। लेकिन, जब मामला ईसाई या मुस्लिम धर्म से जुड़ा रहता है तो इन्हें माफी मॉंगने में सेकेंड भर देरी नहीं लगती। विवाद मुस्लिम अथवा ईसाई समुदाय से जुड़ा हो अथवा उनके विरोध का डर हो तो एक भी बॉलीवुड सितारा रिस्क नहीं लेना चाहता। वहीं जब बात बहुसंख्यक समुदाय की हो, तब लाख प्रदर्शनों के बावजूद वो माफ़ी नहीं माँगते और दिखाते हैं कि ‘देखो, हम उपद्रवियों के सामने नहीं झुक रहे।’ वो ऐसा क्यों करते हैं? सोचिए!

रवीना, फराह और भारती ने पादरी से मिल कर सौंपी लिखित क्षमा-प्रार्थना, ट्विटर पर माफ़ी से नहीं चला काम

बॉलीवुड की रीत पुरानी: ‘उन्हें’ रखो सिर-माथे पर, हिंदुओं की भावना ठेंगे पर

जब कश्मीरी बैंड की लड़कियों को रेप की धमकी मिलती रही, CM अब्दुल्ला पलट कर कठमुल्लों की गोद में बैठ गए

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कोरोना काल में ₹42 लाख का क्रिकेट मैच… खिलाड़ी झारखंड के ‘माननीय’ MLA लोग, मैन ऑफ द मैच खुद CM सोरेन

कोरोना महामारी के दौरान 42 लाख रुपए का क्रिकेट मैच खेल लिया झारखंड के विधायकों ने। मैन ऑफ द मैच खुद बने मुख्यमंत्री सोरेन।

‘वसीम रिजवी का सिर कलम करने वाले को 25 लाख रुपए का इनाम’: कॉन्ग्रेस नेता ने खुलेआम किया दोबारा ऐलान

कॉन्ग्रेस विधायक राशिद खान ने मंगलवार को कहा कि वह शिया वक्‍फ बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिजवी का सिर काटने वाले को 25 लाख रुपए का इनाम देने की बात पर अभी भी कायम हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
142,284FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe