Wednesday, December 1, 2021
Homeविविध विषयमनोरंजनकंगना रनौत पर तृणमूल कॉन्ग्रेस ने करवाई FIR, CM ममता की फोटो को एडिट...

कंगना रनौत पर तृणमूल कॉन्ग्रेस ने करवाई FIR, CM ममता की फोटो को एडिट कर लिखी थी गंदी बात

"बंगाल में साम्प्रादायिक हिंसा उकसाने के लिए कंगना हेट प्रोपगेंडा फैलाने की कोशिश कर रही। ममता बनर्जी की छवि बिगाड़ने का प्रयास भी लगातार उनके द्वारा किया जा रहा है।"

बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत के विरुद्ध तृणमूल कॉन्ग्रेस के प्रवक्ता रिजू दत्ता ने एफआईआर दर्ज करवाई है। दत्ता ने अपने ट्विटर पर एफआईआर की कॉपी शेयर करते हुए बताया कि बंगाल में साम्प्रादायिक हिंसा उकसाने के लिए कंगना हेट प्रोपगेंडा फैलाने की कोशिश कर रही हैं। इसके अलावा ममता बनर्जी की छवि बिगाड़ने का प्रयास भी लगातार उनके द्वारा किया जा रहा है।

अपने ट्वीट में रिजू ने बताया कि कंगना ने अपने इंस्टा पर स्टोरी शेयर करके लोगों को भड़काने का काम किया ।

जब हमने कंगना रनौत की स्टोरी चेक की, तो उसमें सारे पोस्ट ममता बनर्जी या फिर बंगाल की स्थिति को लेकर ही थे। इनमें से एक में कंगना ने ममता बनर्जी को हिंदू नरसंहार के लिए जेल में डालने की अपील की थी। इसके अलावा बंगाल पीड़ितों को सपोर्ट करने की बात भी कंगना की स्टोरी में थी।

बता दें कि बंगाल में हो रही हिंसा पर कंगना रनौत लगातार अपनी बात रख रही हैं। इंस्टाग्राम से पहले वह ट्विटर पर सक्रिय हो कर टीएमसी पर सवाल उठा रही थीं। लेकिन 4 मई को उनका अकॉउंट हमेशा के लिए सस्पेंड कर दिया गया।

इस अकॉउंट सस्पेंशन के बाद जब ऑपइंडिया ने कंगना से उनका पक्ष जानना तो उन्होंने कहा, “मैं सभी से अनुरोध करना चाहती हूँ कि बंगाल हिंसा पर ध्यान केंद्रित रखें और नरसंहार को रोकने के लिए सरकार पर दबाव डालें। पूरा ध्यान निलंबन (मेरे ट्विटर अकाउंट) पर चला गया है। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता। मैं कई प्लेटफॉर्मों के माध्यम से आ सकती हूँ। इसे विवाद मत बनाइए।”

वहीं अकॉउंट सस्पेंड होने से पहले रिलीज की गई एक वीडियो में कंगना ने बंगाल की स्थिति बयान करते हुए लिबरलों पर सवाल उठाया था। अपनी वीडियो में उन्होंने कहा था, “…बंगाल में मर्डर हो रहे हैं, दंगे हो रहे हैं, गैंगरेप हो रहे हैं, घरों को जलाया जा रहा है, लेकिन कोई लिबरल कुछ बोल तक नहीं रहा। कोई इंटरनेशनल मीडिया भी इसे खबर नहीं कर रहा है। मुझे समझ नहीं आ रहा है कि ये कौन सी कॉन्सपिरेसी चल रही है इंडिया के खिलाफ। कोई बहुत बड़ी कॉन्सपिरेसी है। ये बहुत ही ज्यादा अननेचुरल है।”

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,729FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe