Sunday, July 21, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजनअशोक पंडित ने कतर को याद दिलाए भारत के एहसान, कंगना ने कहा- नुपूर...

अशोक पंडित ने कतर को याद दिलाए भारत के एहसान, कंगना ने कहा- नुपूर को मन की बात कहने की आजादी, हिंदू देवी-देवताओं का हर रोज होता है अपमान

बता दें कि भारत को लोकतांत्रिक देश बताते हुए नूपुर को अपनी बात कहने के लिए जहाँ कंगना स्वतंत्र बता रही हैं, वहीं कमाल फरहान अख्तर जैसे लोगों ने नूपुर शर्मा की माफी को स्वीकार करने लायक नहीं बताया था। फरहान अख्तर ने कहा था, "जबरन मँगवाई गई माफी कभी दिल नहीं माँगी जाती।"

बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत ने भाजपा की पूर्व प्रवक्ता नूपुर शर्मा का समर्थन किया है और कहा है कि भारत इस्लामिक मुल्क अफगानिस्तान नहीं है। बता दें कि प्रोपगेंडबाजों ने नूपुर शर्मा के खिलाफ अभियान चलाकर उन्हें बदनाम किया कि उन्होंने मुस्लिमों के पैगंबर मुहम्मद का अपमान किया था।

कंगना ने अपनी इंस्टा पोस्ट में लिखा, “नूपुर को अपने मन की बात कहने की पूरी आजादी है। उन्हें दी गई हर तरह की धमकी मैंने देखी है। हिंदू देवताओं को हर दिन अपमानित किया जाता है तो हम कोर्ट जाते हैं। ये अफगानिस्तान नहीं है।”

कंगना रनौत का इंस्टाग्राम पोस्ट

अपने पोस्ट में कंगना ने आगे लिखा, “हमारे पास एक व्यवस्था में चलने वाली सरकार है, जिसे लोगों ने ही चुना है। इस पूरी प्रोसेस को लोकतंत्र कहते हैं। यह बात सिर्फ उन लोगों के लिए है, जो हमेशा इस बात को भूल जाते हैं।”

वहीं, फिल्म प्रोड्यूसर और अभिनेता अशोक पंडित ने एक ट्विस्ट पोस्ट कर नूपुर शर्मा का समर्थन किया है। उन्होंने कतर और वहाँ के लोगों के नमकहराम (कृतघ्न) व्यक्तित्व का बताकर उनकी आलोचना की।

उन्होंने लिखा, “कतर जैसे इस्लामिक मुल्क नूपुर शर्मा के बयान पर भारत को उपदेश दे रहा है। ये लोग चुके हैं कि ये वही भारत है, जिसने कोरोना की वैक्सीन भेजकर उनकी जान बचाई। अन्य देशों ने उनके अनुरोधों को ठुकरा दिया था। नमकहराम।”

बता दें कि भारत को लोकतांत्रिक देश बताते हुए नूपुर को अपनी बात कहने के लिए जहाँ कंगना स्वतंत्र बता रही हैं, वहीं फरहान अख्तर जैसे लोगों ने नूपुर शर्मा की माफी को स्वीकार करने लायक नहीं बताया था। फरहान अख्तर ने कहा था, “जबरन मँगवाई गई माफी कभी दिल नहीं माँगी जाती।”

बता दें कि ये वही ऐक्टर पर हैं, जब फिल्मों के कंटेंट को लेकर विवाद हुआ तब उसे अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता बताकर समर्थन किया है, लेकिन नूपुर शर्मा मामले में इन्होंने इसके ठीक विपरीत का रूख अपनाया।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

भारत के ओलंपिक खिलाड़ियों को मिला BCCI का साथ, जय शाह ने किया ₹8.50 करोड़ मदद का ऐलान: पेरिस में पदकों का रिकॉर्ड तोड़ने...

बीसीसीआई के सचिव जय शाह ने बताया कि ओलंपिक अभियान के लिए इंडियन ओलंपिक एसोसिएशन (IOA) को बीसीसीआई 8.5 करोड़ रुपए दे रही है।

वामपंथी सरकार ने चलवाई गोली, मारे गए 13 कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता: जानें क्यों ममता बनर्जी मना रहीं ‘शहीद दिवस’, TMC ने हाईजैक किया कॉन्ग्रेस का...

कभी शहीद दिवस कार्यक्रम कॉन्ग्रेस मनाती थी, लेकिन ममता बनर्जी ने कॉन्ग्रेस पार्टी से अलग होने के बाद युवा कॉन्ग्रेस के 13 कार्यकर्ताओं की हत्या को अपने नाम के साथ जोड़ लिया और उसका इस्तेमाल कम्युनिष्टों की जड़ काटने में किया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -