Tuesday, July 27, 2021
Homeविविध विषयमनोरंजनसुशांत सुसाइड केस: मुंबई पुलिस के समन पर कंगना रनौत का जवाब- मनाली आएँ...

सुशांत सुसाइड केस: मुंबई पुलिस के समन पर कंगना रनौत का जवाब- मनाली आएँ या ऑनलाइन दर्ज करें बयान

"हम आपसे ये भी अनुरोध करते हैं कि यदि हो सके तो आपका कोई ऑफिसर आए और मनाली में हमारे क्लाइंट से पूछताछ करे। अगर आप यहाँ नहीं आ सकते तो हमें सूचित करें ताकि हम किसी इलेक्ट्रॉनिक मीडियम से उनका बयान दर्ज कर सकें।"

सुशांत सिंह राजपूत की खुदकुशी के बाद पुलिस लगातार बॉलीवुड की हस्तियों से पूछताछ कर रही है। पुलिस सुशांत की गर्लफ्रेंड समेत कई अन्य सितारों से पूछताछ कर चुकी है। इस केस में सुशांत के परिजनों, दोस्तों और फिल्म इंडस्ट्री से 30 से ज्यादा लोगों को तलब किया गया है।

अब पुलिस ने अभिनेत्री कंगना रनौत को समन भेजा है। यह समन पुलिस ने उनके मनाली स्थित घर पर भेजा है, क्योंकि कंगना इस वक्त अपने परिवार के साथ वहीं पर है।

बता दें, पिछले महीने बांद्रा पुलिस के इंवेस्टिगेशन टीम ने कंगना के मुंबई वाले घर पर समन भेजा था और एक्ट्रेस की गैर-मौजूदगी में उनके एक स्टाफ के सदस्य को सौंप दिया था। पुलिस के समन पर कंगना रनौत की लीगल टीम ने अपने जवाब में लिखा, ” सुशांत सिंह राजपूत सुसाइड मामले में जाँच कर रहे ऑफिसर ने कंगना रनौत को 27 जुलाई तक बांद्रा पुलिस स्टेशन में अपना बयान दर्ज कराने को कहा है और मेरी क्लाइंट सुशांत सिंह राजपूत की रहस्यमयी परिस्थितियों में हुई मौत मामले में आपकी सहायता करना भी चाहती हैं। लेकिन वो पिछले 17 मार्च से ही अपने मनाली वाले घर पर रह रही हैं। कोरोना वायरस को देखते हुए इस समय ट्रेवल नहीं कर सकती हैं। हम आपसे अनुरोध करना चाहते हैं कि आप अपने सवाल उपल्ब्ध कराएँ, जिसका वो उत्तर दे सकें।”

कंगना रनौत की लीगल टीम ने आगे लिखा, “हम आपसे ये भी अनुरोध करते हैं कि यदि हो सके तो आपका कोई ऑफिसर आए और मनाली में हमारे क्लाइंट से पूछताछ करे। अगर आप यहाँ नहीं आ सकते तो हमें सूचित करें ताकि हम किसी इलेक्ट्रॉनिक मीडियम से उनका बयान दर्ज कर सकें।”

वहीं ट्विटर के जरिए कंगना की लीगल टीम ने व्हाट्सअप का भी एक स्क्रीनशॉट शेयर किया था। इसमें यह दिखाया गया है कि कंगना को लेकर उनकी बहन रंगोली चंदेल से मुंबई पुलिस की क्या बातचीत हुई थी।

इस स्क्रीनशॉट को शेयर करते हुए लिखा गया है, “कंगना के पास अभी तक कोई भी फॉर्मल समन नहीं आया है। पिछले दो हफ्तों से रंगोली के पास पुलिस के फोन आ रहे हैं। कंगना अपना बयान दर्ज कराना चाहती हैं, लेकिन मुंबई पुलिस की ओर से कोई जवाब नहीं मिल रहा है। ये वही मैसेज है जो रंगोली ने मुंबई पुलिस को भेजा है।”

इस स्क्रीनशॉट में रंगोली ने लिखा है, “आप किसी को भेज सकते हैं? इस पर मुंबई पुलिस के अधिकारी कहते हैं कि चूंकि जाँच हर दिन के हिसाब से हो रही है, ऐसे में ये संभव नहीं है। इसके बाद रंगोली मैसेज करते हुए लिखती हैं कि वह इस मामले में मुंबई पुलिस की पूरी मदद करना चाहती हैं और कंगना भी चाहती हैं कि सुशांत सिंह राजपूत को न्याय मिले, इसलिए वह अपने बयान को दर्ज कराने के लिए मुंबई पुलिस के सवालों का इंतजार कर रही हैं।” सोशल मीडिया पर यह स्क्रीनशॉट काफी वायरल हुआ है।

गौरतलब है कि सुशांत सिंह राजपूत की खुदकुशी के बाद से कंगना रनौत लगातार बॉलीवुड की कुछ हस्तियों पर निशाना साध रही हैं। अपने कई बयानों में वो बॉलीवुड में फैले भाई-भतीजावाद और वशंवाद (नेपोटिज्म) पर खुलकर बोल चुकी हैं। हाल ही में एक इंटरव्यू में कंगना ने कहा था सुशांत सुसाइड मामले में पुलिस ने बॉलीवुड के एक तबके से अभी तक पूछताछ की ही नहीं है।

कंगना रनौत ने कहा था, “मैं बता रही हूँ कि अगर मैंने कुछ ऐसा कह दिया हो, जिसकी मैं गवाही नहीं दे सकती, जिसे मैं साबित नहीं कर सकती और जो जनता के हित में नहीं है तो मैं अपना पद्मश्री लौटा दूँगी। मैं यह नहीं कह रही कि थी कोई भी चाहता था कि सुशांत मर जाएँ, लेकिन कई चाहते थे कि वे निश्चित रूप से बर्बाद हो जाएँ। ये लोग भावनात्मक गिद्ध होते हैं। वे लोगों को मरता देखना चाहते हैं। निर्माता आदित्य चोपड़ा, फिल्म निर्माता महेश भट्ट, फिल्म निर्माता- निर्देशक करण जौहर और फिल्म समीक्षक राजीव मसंद को भी पूछताछ के लिए बुलाया जाना चाहिए।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कारगिल कमेटी’ पर कॉन्ग्रेस की कुण्डली: लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा राजनीतिक दृष्टिकोण का न हो मोहताज

हमें ध्यान में रखना होगा कि जिस लोकतंत्र पर हम गर्व करते हैं उसकी सुरक्षा तभी तक संभव है जबतक राष्ट्रीय सुरक्षा का विषय किसी राजनीतिक दृष्टिकोण का मोहताज नहीं है।

असम-मिजोरम बॉर्डर पर भड़की हिंसा, असम के 6 पुलिसकर्मियों की मौत: हस्तक्षेप के दोनों राज्‍यों के CM ने गृहमंत्री से लगाई गुहार

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट कर बताया कि असम-मिज़ोरम सीमा पर तनाव में असम पुलिस के 6 जवानों की जान चली गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,361FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe