Tuesday, July 27, 2021
Homeविविध विषयमनोरंजनघर लौटीं स्वर कोकिला लता मंगेशकर, चेस्ट इन्फेक्शन के कारण अस्पताल में होना पड़ा...

घर लौटीं स्वर कोकिला लता मंगेशकर, चेस्ट इन्फेक्शन के कारण अस्पताल में होना पड़ा था दाखिल

देश के शीर्ष सम्मान भारत रत्न और फिल्म जगत के सबसे बड़े सम्मान दादासाहब फाल्के अवॉर्ड से सम्मानित लता मंगेशकर ने 2014 लोकसभा चुनाव के पहले कहा था कि वो नरेंद्र मोदी को देश का प्रधाममंत्री बनते देखना चाहती हैं।

स्वर कोकिला लता मंगेशकर की तबीयत अचानक से बिगड़ गई। उन्हें कुछ घंटों के लिए साउथ मुंबई में स्थित ब्रीच कैंडी हॉस्पिटल में भर्ती किया गया था। सोमवार (नवम्बर 11, 2019) की सुबह ही उन्होंने साँस लेने में तकलीफ की शिकायत की थी, जिसके बाद दोपहर में उन्हें इलाज के लिए हॉस्पिटल ले जाया गया।

ताज़ा सूचना के अनुसार, लता मंगेशकर को वापस उनके घर ले जाया गया है। उन्हें हॉस्पिटल से डिस्चार्ज कर दिया गया है। उनके नजदीकी लोगों ने बताया है कि उन्हें चेस्ट इन्फेक्शन के कारण हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था। बताया गया है कि उनकी हालत अब पहले से बेहतर है।

सितम्बर 28, 2019 को लता मंगेशकर ने अपना 90वाँ जन्मदिन मनाया था। हजारों गानों को अपनी मधुर आवाज़ से सँवार चुकी लता मंगेशकर 8 दशक तक भारतीय फ़िल्म इंडस्ट्री में सक्रिय रही हैं और उन्होंने कई भाषाओं में गाने गए हैं। 50 के दशक में एसडी बर्मन से लेकर 21वीं सदी में एएआर रहमान तक, लता मंगेशकर ने कई संगीत निर्देशकों की धुन को अमर बनाया है।

लता मंगेशकर को देश के शीर्ष सम्मान भारत रत्न से भी नवाजा जा चुका है। उन्हें फिल्म जगत के सबसे बड़े सम्मान दादासाहब फाल्के अवॉर्ड से भी सम्मानित किया जा चुका है। 2014 लोकसभा चुनाव के पहले उन्होंने कहा था कि वो नरेंद्र मोदी को देश का प्रधाममंत्री बनते देखना चाहती हैं। लता मंगेशकर ने मुंबई में मोदी की उपस्थिति में ‘ऐ मेरे वतन के लोगों’ भी गुनगुनाया था। जब उन्होंने पहली बार ये गाना गया था, तब तत्कालीन पीएम जवाहरलाल नेहरू की आँखों में भी आँसू आ गए थे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘अपनी मौत के लिए दानिश सिद्दीकी खुद जिम्मेदार, नहीं माँगेंगे माफ़ी, वो दुश्मन की टैंक पर था’: ‘दैनिक भास्कर’ से बोला तालिबान

तालिबान प्रवक्ता जबीउल्लाह मुजाहिद ने कहा कि दानिश सिद्दीकी का शव युद्धक्षेत्र में पड़ा था, जिसकी बाद में पहचान हुई तो रेडक्रॉस के हवाले किया गया।

विवाद की जड़ में अंग्रेज, हिंसा के पीछे बांग्लादेशी घुसपैठिए? असम-मिजोरम के बीच झड़प के बारे में जानें सब कुछ

असल में असम से ही कभी मिजोरम अलग हुआ था। तभी से दोनों राज्यों के बीच सीमा-विवाद चल रहा है। इस विवाद की जड़ें अंग्रेजों के काल में हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,381FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe