Thursday, June 24, 2021
Home विविध विषय मनोरंजन Laxmii: तर्क-हॉरर तलाशना बहिष्कार का कारण तलाशने से कहीं अधिक मुश्किल, सीक्वल की संभावना...

Laxmii: तर्क-हॉरर तलाशना बहिष्कार का कारण तलाशने से कहीं अधिक मुश्किल, सीक्वल की संभावना है एकमात्र डरावनी बात

जिस फिल्म में कोई कथा ही न हो उसकी पटकथा का बहिष्कार करना मानवीय क्षमताओं को चुनौती देने वाली बात है। त्वरित प्रतिक्रिया के इस दौर में सिर्फ विवाद के दम पर कोई फिल्म बना देने का फैसला करना वास्तव में एक चुनौती भरा और साहसिक कदम ठहराया जा सकता है। किन्नरों को लेकर समाज के नजरिए को लेकर ये फिल्म एक अच्छा संदेश जरूर देती है।

कोई फिल्म अपने आप ही इतनी ज्यादा वाहियात हो कि उसके बॉयकॉट की जरूरत ही ना पड़े। उसे दर्शकों को देखने के बाद फैसला लेने दिया जाय कि भविष्य में अमुक कलाकार के फिल्म चयन की सजा आपको अपनी जेब और अपने बहमूल्य (तकरीबन) ढाई घंटों के रूप में आखिर क्यों नहीं देनी चाहिए! अक्षय कुमार अभिनीत Laxmii (लक्ष्मी) फिल्म भी ऐसी ही किसी मनोदशा का सबसे बेहतरीन उदाहरण कही जा सकती है।

Laxmii फिल्म में तर्क और हॉरर तलाशना इसके बहिष्कार का कारण तलाशने से कहीं ज्यादा परेशान कर देने वाला काम था। मैं निजी तौर पर अब उन लोगों का विरोध करना चाहता हूँ जिन्होंने कहा कि इस फिल्म का बॉयकॉट इसकी पटकथा के कारण किया जाना चाहिए।

जिस फिल्म में कोई कथा ही न हो उसकी पटकथा का बहिष्कार करना मानवीय क्षमताओं को चुनौती देने वाली बात है। त्वरित प्रतिक्रिया और संवाद के इस दौर में सिर्फ विवाद के दम पर कोई फिल्म बना देने का फैसला करना वास्तव में एक चुनौती भरा और साहसिक कदम ठहराया जा सकता है। किन्नरों को लेकर समाज के नजरिए को लेकर ये फिल्म एक अच्छा संदेश जरूर देती है।

Laxmii की ‘कहानी’

अक्षय कुमार द्वारा प्रोड्यूस्ड फिल्म ‘लक्ष्मी’ फॉक्सस्टार स्टूडियो, तुषार कपूर और केप ऑफ गुड फिल्म्स बैनर तले बनी है। फिल्म में अक्षय कुमार, कियारा आडवाणी के अलावा शरद केलकर, अश्विनी कल्सेकर, मनू ऋषि और आयशा रजा भी हैं।

अक्षय कुमार आसिफ़ नाम के एक व्यक्ति का किरदार निभा रहे हैं, जिसका विवाह रश्मि नाम की एक हिन्दू युवती से हुआ है। आसिफ़ इस फिल्म में कहता है कि उसका काम लोगों के मन से भूत-प्रेत का वहम निकालने का है। इस क्रम में, फिल्म की शुरूआती पन्द्रह मिनट में ही आसिफ़ एक हिन्दू ‘ढोंगी बाबा’ के ढोंग का भी पर्दाफाश कर अपनी बात को साबित करता है।

अक्षय की पत्नी यानी, रश्मि के किरदार में कियारा आडवाणी हैं। रश्मि के परिवार को ‘आसिफ़’ में बहुत रूचि नहीं है। आसिफ हर बात पर बोलता नजर आता है, ‘माँ कसम चूड़ियाँ पहन लूँगा’। और फिर जब उसके अंदर एक किन्नर की आत्मा प्रवेश करती है तो आसिफ को चूड़ियाँ पहननी ही पड़ती हैं।

कहानी के नाम पर जबरन ठूँसे गए ‘पोटेंशियल विवादित’ दृश्य

‘आत्मा’ और ‘हॉरर’ के नाम पर फिल्म में कई ऐसे घटनाक्रम बनाए गए हैं, जो फिल्म से ज्यादा एक सांस्कृतिक और सामाजिक विवाद पर चर्चा जैसे दृश्य प्रतीत होते हैं। यानी, फिल्म में दृश्य अपनी कहानी नहीं कहते बल्कि कहीं पर बैठकर उन विषयों पर ज्ञान देते लोग नजर आते हैं।

ऐसे ही एक दृश्य में अक्षय कुमार यानी, आसिफ अपनी पत्नी रश्मि से ‘प्रगतिशील चर्चा’ करते हुए नजर आ रहे हैं। आसिफ अपनी पत्नी रश्मि से कहता है, “ये अभी तक हिन्दू-मुस्लिम में अटके हुए हैं।”

यह दृश्य हाल ही में चर्चा में आए ‘लव-जिहाद’ जैसे विषय के नाम पर पब्लिसिटी उठाने के लिए बिना अधिक मेहनत के ही जबरन ठूँसा हुआ प्रतीत होता है। इसके अलावा, आसिफ एक हिन्दू बाबा को ढोंगी साबित कर देता है जबकि एक मुस्लिम झाड़-फूँक वाला इंसान आसिफ के भीतर बैठी आत्मा को चुटकियों में ठिकाने लगा देता है।

मंदिर के पुजारी गुंडों की सहायता करते हैं जबकि ‘पीर बाबा’ आसिफ और उसके परिवार की मदद करता है। एक हिन्दू परिवार में जन्मी ‘लक्ष्मी’, जो कि किन्नर है, अपमानित कर घर से निकाल दी जाती है। जबकि एक ‘अब्दुल’ लक्ष्मी को अपने घर में जगह देकर उसे ‘महान’ बनाने का सपना दिखाकर उसको पालता है।

इस पूरे कथानक के बीच ना ही आसिफ़ के मुस्लिम और रश्मि के हिन्दू होने की जरूरत को लेकर कोई तर्क है, ना ही एक किन्नर के हिन्दू परिवार में पैदा होकर एक अब्दुल के उसे अपनाने के बीच कोई सम्बन्ध बैठता नजर आता है। हाँ, फिल्म के आखिर में भगवान शिव को लेकर फिल्माए गए एक गाने से तमाम अजेंडे की क्षतिपूर्ति करने की कोशिश अवश्य की गई है।

जहाँ तक हॉरर मूवी के नाम पर ‘डर’ पैदा करने की बात है तो लक्ष्मी फिल्म में एकमात्र भयावह बात इसके सिक्वल की सम्भावना है। लक्ष्मी फिल्म के दक्षिण भारतीय फिल्म को उठाकर ‘कॉपी-पेस्ट’ कर एक विवादित रंग में ढालने का असफल प्रयास है। इस फिल्म को देखकर हास्य पैदा होता है, वह भी दृश्यों के कारण नहीं बल्कि अक्षय कुमार जैसे अभिनेता की ऐसी फिल्मों में अभिनय करने की सहमती के कारण ही!

जहाँ तक फिल्मों में या कला में हिन्दू घृणा और हिन्दू विरोधी अजेंडे की बात है तो उसे हम यदि किनारे रख दें तब भी इस फिल्म में कुछ भी ऐसा नहीं जिसे लेकर बहुत ज्यादा चर्चा की जा सकती है। हालाँकि, यह इस फिल्म की एकमात्र उपलब्धी अवश्य कही जा सकती है कि बिना किसी ठोस कथा, डायलोग, संगीत और हॉरर के भी हम इस पर चर्चा कर रहे हैं।

मैं समझता हूँ कि लक्ष्मी (Laxmii) फिल्म इतनी घटिया है कि इसका बहिष्कार तक करना जरुरी नहीं है। यह हिन्दू विरोधी फिल्म के नाम पर महज एक ‘वान्ना बी हिन्दू-विरोधी फिल्म’ से अधिक कुछ नहीं। अक्षय कुमार की इस फिल्म को गुमनामी में अपनी मौत स्वयं मर जाना चाहिए।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

आशीष नौटियाल
पहाड़ी By Birth, PUN-डित By choice

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

हिंदुओं की बारात नहीं लेकिन नमाज होगी… धमकी के बाद सरकारी नियम को ताक पर रख नूरपुर मदरसे में सैकड़ों को तालीम

उत्तर प्रदेश में अलीगढ़ के टप्पल के नूरपुर गाँव की बड़ी मस्जिद में मदरसा चलाया जा रहा है। सैकड़ों छोटे बच्चों को उर्दू और अरबी की...

‘देश रिकॉर्ड बनाता है तो भारतीयों पर हमला कॉन्ग्रेसी संस्कृति’: वैक्सीन पर खुद घिरी कॉन्ग्रेस, बीजेपी ने दिया मुँहतोड़ जवाब

जेपी नड्डा ने लिखा कि 21 जून को रिकॉर्ड 88 लाख से अधिक लोगों का टीकाकरण करने के बाद, भारत ने मंगलवार और बुधवार को भी 50 लाख टीकाकरण के मार्क को पार किया है, जो कॉन्ग्रेस पार्टी को नापसंद है।

गहलोत पर फिर संकट: सचिन पायलट शांत हुए तो निर्दलीय, BSP से आए 19 MLA बागी, माँग रहे सरकार बचाने का इनाम

निर्दलीय विधायकों में से एक रामकेश मीणा ने सचिन पायलट गुट पर हमला बोलते हुए कहा कि भाजपा के कहने पर पायलट की बगावत की योजना तैयार हुई थी।

‘हरा$ज*, हरा%$, चू$%’: ‘कुत्ते’ के प्रेम में मेनका गाँधी ने पशु चिकित्सक को दी गालियाँ, ऑडियो वायरल

गाँधी ने कहा, “तुम्हारा बाप क्या करता है? कोई माली है चौकीदार है क्या हैं?” डॉक्टर बताते भी हैं कि उनके पिता एक टीचर हैं। इस पर वो पूछती हैं कि तुम इस धंधे में क्यों आए पैसे कमाने के लिए।

राजा-रानी की शादी हुई, दहेज में दे दिया बॉम्बे: मात्र 10 पाउंड प्रति वर्ष था किराया, पुर्तगाल-इंग्लैंड ने कुछ यूँ किया था खेल

ये वो समय था जब इंग्लैंड में सिविल वॉर चल रहा था। पुर्तगाल को स्पेन ने अपने अधीन किया हुआ था। भारत की गद्दी पर औरंगज़ेब को बैठे 5 साल भी नहीं हुए थे। इधर बॉम्बे का भाग्य लिखा जा रहा था।

कॉन्ग्रेस के इस मर्ज की दवा नहीं: ‘श्वेत पत्र’ में तलाश रही ऑक्सीजन, टूलकिट वाली वैक्सीन से खोज रही उपचार

कॉन्ग्रेस और उसके इकोसिस्टम को स्वीकार लेना चाहिए कि प्रोपेगेंडा और टूलकिट से उसकी सेहत दुरुस्त नहीं हो सकती।

प्रचलित ख़बरें

TMC के गुंडों ने किया गैंगरेप, कहा- तेरी काली माँ न*गी है, तुझे भी न*गा करेंगे, चाकू से स्तन पर हमला: पीड़ित महिलाओं की...

"उस्मान ने मेरा रेप किया। मैं उससे दया की भीख माँगती रही कि मैं तुम्हारी माँ जैसी हूँ मेरे साथ ऐसा मत करो, लेकिन मेरी चीख-पुकार उसके बहरे कानों तक नहीं पहुँची। वह मेरा बलात्कार करता रहा। उस दिन एक मुस्लिम गुंडे ने एक हिंदू महिला का सम्मान लूट लिया।"

‘CM योगी पहाड़ी, गोरखपुर मंदिर मुस्लिमों की’: धर्मांतरण पर शिकंजे से सामने आई मुनव्वर राना की हिंदू घृणा

उन्होंने दावा किया कि योगी आदित्यनाथ को प्रधानमंत्री बनने की इतनी जल्दी है कि 1000 क्या, वो ये भी कह सकते हैं कि यूपी में 1 करोड़ हिन्दू धर्मांतरण कर के मुस्लिम बन गए हैं।

कन्नौज के मंदिर में घुसकर दिलशाद ने की तोड़फोड़, उमर ने बताया- ये सब किसी ने करने के लिए कहा था

आरोपित ने बताया है कि मूर्ति खंडित करने के लिए उसे किसी ने कहा था। लेकिन किसने? ये जवाब अभी तक नहीं मिला है। फिलहाल पुलिस उसे थाने ले जाकर पूछताछ कर रही है।

जानिए कैसे श्याम प्रताप सिंह बन गया मौलाना मोहम्मद उमर, पूर्व PM का रिश्तेदार है परिवार: AMU से मिल चुका है सम्मान

जानिए कैसे श्याम प्रताप सिंह बन गया मौलाना मोहम्मद उमर गौतम, जिसने 1000 हिंदुओं को मुस्लिम बनाया। उसका परिवार दिवंगत पूर्व PM वीपी सिंह का रिश्तेदार है। उसका कहना था कि वो 'अल्लाह का काम' कर रहा है।

‘इस्लाम अपनाओ या मोहल्ला छोड़ो’: कानपुर में हिन्दू परिवारों ने लगाए पलायन के बोर्ड, मुस्लिमों ने घर में घुस की छेड़खानी और मारपीट

पीड़ित हिन्दू परिवारों ने कहा कि सपा विधायक आरोपितों की मदद कर रहे हैं। घर में घुस कर मारपीट की गई। लड़की के साथ बलात्कार का भी प्रयास किया गया।

‘हरा$ज*, हरा%$, चू$%’: ‘कुत्ते’ के प्रेम में मेनका गाँधी ने पशु चिकित्सक को दी गालियाँ, ऑडियो वायरल

गाँधी ने कहा, “तुम्हारा बाप क्या करता है? कोई माली है चौकीदार है क्या हैं?” डॉक्टर बताते भी हैं कि उनके पिता एक टीचर हैं। इस पर वो पूछती हैं कि तुम इस धंधे में क्यों आए पैसे कमाने के लिए।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
105,679FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe