Saturday, June 22, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजनसुशांत अंदर से बच्चा था, वह राजनीति और गुटबाजी हैंडल नहीं कर पाया: मनोज...

सुशांत अंदर से बच्चा था, वह राजनीति और गुटबाजी हैंडल नहीं कर पाया: मनोज बाजपेयी की सीधी बात, कहा- उसकी आत्मा बड़ी पवित्र थी

"इंडस्‍ट्री में राजनीति हमेशा से होती रही है। जैसे-जैसे आप सफलता की सीढ़ियाँ चढ़ते हैं, यह और भी गंदा होता जाता है। मुझे इससे कभी कोई समस्या नहीं हुई, क्योंकि मैं जिद्दी और मोटी चमड़ी वाला था। लेकिन वह नहीं था और वो इस तरह दबाव हैंडल नहीं कर पाया।"

सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) की आत्मा बड़ी पवित्र थी। वह भीतर से बच्चे थे। वह बॉलीवुड की राजनीति और गुटबाजी को हैंडल नहीं कर पाए। यह कहना है अभिनेता मनोज बाजपेयी (Manoj Bajpayee) का। मनोज की तरह बिहार से आने वाले अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत जून 2020 में मुंबई के अपने घर में मृत मिले थे।

आज तक के सीधी बात कार्यक्रम में मनोज बाजपेयी से बॉलीवुड के नेपोटिज्म और सुशांत की मौत को लेकर सवाल पूछा गया था। जवाब में सुशांत के साथ अपने संबंधों और फिल्म ‘सोनचिरैया’ की शूटिंग के दिनों को याद करते हुए वाजपेयी ने कहा कि उन्हें यह नहीं पता था कि वह इतना बड़ा कदम उठा लेगा। लेकिन उसने अपनी चु​नौतियों और परेशानियों को लेकर उनसे बात की थी। उन्होंने कहा, “मैं सुशांत की मौत से पर्सनली बहुत प्रभावित हुआ था। सोनचिरैया की शूटिंग के दौरान हम वाकई बहुत क्‍लोज हो गए थे। वह मुझसे बहुत प्यार करता था। मैं अक्सर सेट पर मटन पकाता था और वह हमेशा खाने के लिए आता था।”

मनोज बाजपेयी ने कहा, “सुशांत कहीं न कहीं इंडस्‍ट्री में राजनीति और गुटबाजी को हैंडल नहीं कर पाए। जैसे-जैसे कोई अपने करियर में आगे बढ़ता है, कंपीटिशन बढ़ता जाता है। आपके सामने समस्याएँ आती हैं। इंडस्‍ट्री में राजनीति हमेशा से होती रही है। जैसे-जैसे आप सफलता की सीढ़ियाँ चढ़ते हैं, यह और भी गंदा होता जाता है। मुझे इससे कभी कोई समस्या नहीं हुई, क्योंकि मैं जिद्दी और मोटी चमड़ी वाला था। लेकिन वह नहीं था और वो इस तरह दबाव हैंडल नहीं कर पाया। उसने मुझसे इन चीजों के बारे में बात की थी, क्योंकि वह इससे बहुत प्रभावित हुआ था।” नीचे वीडियो में आप 36 मिनट से 40 मिनट के बीच ये बातें सुन सकते हैं।

हालाँकि जब बाजपेयी से यह पूछा गया कि क्या सुशांत बॉलीवुड के नेपोटिज्म के शिकार थे तो उन्होंने इसे खारिज कर दिया। उनका कहना था, “वह अपने लिए एक बहुत ही अलग तरह का करियर चाहता था। यदि आप मनोज बाजपेयी बनना चाहते हैं, तो यहाँ कोई राजनीति नहीं है। लेकिन वह स्टार बनना चाहता था और वहाँ बहुत ज्यादा कंपीटिशन है। जो भी स्टार बनने के लिए मैदान में उतरता है, वह उस मुकाम को हासिल करने की पूरी कोशिश करता है। सुशांत यह सब सहन नहीं कर सका।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Searched termsमनोज बाजपेयी, मनोज बाजपेयी इंटरव्यू, मनोज बाजपेयी सीधी बात, मनोज बाजपेयी आज तक, मनोज बाजपेयी सुशांत सिंह राजपूत, मनोज बाजपेयी बॉलीवुड राजनीति, मनोज बाजपेयी बॉलीवुड, मनोज बाजपेयी नेपोटिज्म, मनोज बाजपेयी के बारे में, मनोज बाजपेयी फिल्में, मनोज बाजपेयी वेब सीरिज, सुशांत सिंह राजपूत, सुशांत सिंह राजपूत डेथ, सुशांत सिंह राजपूत की मृत्यु कैसे हुई, सुशांत सिंह राजपूत मौत, सुशांत सिंह राजपूत को किसने मारा, सुशांत सिंह राजपूत करियर, सुशांत सिंह राजपूत बायोग्राफी, manoj bajpayee, manoj bajpayee seedhi baat, manoj bajpayee interview, manoj bajpayee sushant singh rajput, manoj bajpayee aaj tak, manoj bajpayee new series, manoj bajpayee bollywood, manoj bajpayee politics, manoj bajpayee nepotism, manoj bajpayee sushant death, sushant singh rajput, sushant singh rajput death, sushant singh rajput ko kisne mara, sushant singh rajput kaun tha, sushant singh rajput case
ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘हे माँ, हमें माफ़ कर दो, गलती हो गई कि यहाँ चोरी की’: गिरफ्तार होते ही चोरों के गिरोह का हुआ हृदय-परिवर्तन, मंदिर में...

ये सब झालावाड़ जिला के रहने वाले हैं। चोरों ने मंदिर में माता की प्रतिमा के सामने हाथ जोड़ कर कहा, "हे माँ, हमें माफ़ कर दो। हमसे गलती हो गई कि हमने यहाँ चोरी की।"

केंद्र सरकार की नौकरी के मजे? अब 15 मिनट से ज्यादा की देरी पर आधे दिन की छुट्टी: ऑफिस टाइमिंग को लेकर कड़ा फैसला

भारत सरकार के कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग (DoPT) ने आदेश जारी किया है कि जिन दफ्तरों के खुलने का समय 9 बजे है, वहाँ अधिकतम 15 मिनट का ही ग्रेस पीरियड मिलेगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -