Tuesday, July 27, 2021
Homeविविध विषयमनोरंजनकम उम्र में शादी करो, एक से ज्यादा करो: अभिनेता फिरोज खान ने पैगंबर...

कम उम्र में शादी करो, एक से ज्यादा करो: अभिनेता फिरोज खान ने पैगंबर मोहम्मद का दिया उदाहरण

"...मुझे और भी जल्दी शादी करनी चाहिए थी। मुझे लगता है कि आपको शादी से बहुत कुछ सीखने को मिलता है और क्योंकि यह सुन्नत है, लोगों को एक से अधिक बार शादी करनी चाहिए।"

पाकिस्तान में वहाँ के सिर्फ कट्टरपंथी मुल्ले-मौलवी ही नहीं, पढ़ा-लिखा तबका भी घोर रूढ़ीवादी है। आधुनिकता के नाम पर लिबास तो जरूर बदल गए हैं लेकिन सोच में कोई खास परिवर्तन नहीं दिखता है। ऐसी सोच का सबसे अधिक परिणाम स्त्रियों को भुगतना पड़ता है।

दरअसल, पाकिस्तान के अभिनेता फिरोज खान ने कहा है कि शादी कम उम्र में ही हो जानी चाहिए। उन्होंने न सिर्फ कम उम्र में शादी, बल्कि बहुविवाह को भी जायज ठहराया।

फिरोज खान हाल ही में ‘टाइम आउट विद अहसान खान’ में बहुविवाह और कम उम्र में शादी पर अपना रुख साझा करते हुए जल्दी और एक से अधिक शादी करने के महत्व को साझा किया। वहीं, शादी की संस्था पर सवाल उठाने के लिए मलाला को उन्होंने “पश्चिम का कठपुतली” कहा।

शो के एक सेगमेंट में फिरोज खान अभिनेत्री हुमैमा मलिक के साथ अतिथि के रूप में शिरकत किए थे। शो के इस सेगमेंट उन्होंने कहा कि उन्हें पहले ही शादी कर लेनी चाहिए थी। इसके बाद, उन्होंने जोर देकर कहा कि विवाह सीखने का एक अनुभव है और यह धार्मिक रूप से प्रोत्साहित करता है, इसलिए बहुविवाह एक आम प्रथा होनी चाहिए।

जब अहसान ने दोहराया कि उनके साथ भी ऐसा ही होगा तो अभिनेता ने अस्वीकृति में जवाब दिया। अहसान ने कहा, “मैं तो अभी बच्चा था मुझे इतनी जल्दी शादी नहीं करनी चाहिए थी।” इस पर फिरोज ने जवाब दिया, “नहीं नहीं, मुझे और भी जल्दी शादी करनी चाहिए थी। मुझे लगता है कि आपको शादी से बहुत कुछ सीखने को मिलता है और क्योंकि यह सुन्नत है, लोगों को एक से अधिक बार शादी करनी चाहिए।”

हाल ही में, फिरोज ने पश्चिम में मुस्लिम प्रतिनिधित्व को बदलने के लिए ब्रिटिश अभिनेता रिज अहमद की सराहना की थी। अपने इंस्टाग्राम पर स्टार की प्रशंसा करते हुए फिरोज ने लिखा, “हाहाहा, तबलीगी कहलाने के लिए तैयार हो जाइए…। लेकिन रुको मत भाई, गर्व है!”

यहाँ यह उल्लेख करना उचित है कि तबलीगी एक जमात के रूप में काम करता है, जो कट्टर इस्लाम पर बढ़ावा देता है। इसका प्रभाव भारत और पाकिस्तान सहित अधिकांश मुस्लिम देशों में हैं। तबलीगी जमात पर आतंकवादी गतिविधियों में भी शामिल होने के आरोप लग चुके हैं।

कोरोना शुरू होने के दौरान तबलीगी जमात के लोगों ने भारत में सरकार और आम लोगों के लिए भारी मुश्किलें पैदा की थीं। कोरोनो संक्रमित तबलीगी जमात के लोगों ने न सिर्फ पुलिस व डॉक्टर के साथ बदतमीजी की थी, बल्कि नर्सों के साथ अभद्रता और यौन उत्पीड़न के लिए आरोपी बनाए गए थे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कारगिल कमेटी’ पर कॉन्ग्रेस की कुण्डली: लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा राजनीतिक दृष्टिकोण का न हो मोहताज

हमें ध्यान में रखना होगा कि जिस लोकतंत्र पर हम गर्व करते हैं उसकी सुरक्षा तभी तक संभव है जबतक राष्ट्रीय सुरक्षा का विषय किसी राजनीतिक दृष्टिकोण का मोहताज नहीं है।

असम-मिजोरम बॉर्डर पर भड़की हिंसा, असम के 6 पुलिसकर्मियों की मौत: हस्तक्षेप के दोनों राज्‍यों के CM ने गृहमंत्री से लगाई गुहार

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट कर बताया कि असम-मिज़ोरम सीमा पर तनाव में असम पुलिस के 6 जवानों की जान चली गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,362FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe