Sunday, October 17, 2021
Homeविविध विषयमनोरंजनहरे रंग का कुर्ता, बाथरोब के टुकड़े और बिखरी पड़ी आलमारी: सामने आई सुशांत...

हरे रंग का कुर्ता, बाथरोब के टुकड़े और बिखरी पड़ी आलमारी: सामने आई सुशांत के मौत की डिटेल्स, परिवार का बयान

पुलिस को सुशांत सिंह राजपूत की आलमारी में कपड़े बिखरे पड़े हुए मिले। इससे अंदेशा जताया गया है कि बाथरोब के टूट जाने पर उन्होंने अपनी आलमारी में से हरे रंग का एक कुर्ता निकाला और उसी को रस्सी के रूप में इस्तेमाल किया। जब तक पुलिस घटनास्थल पर पहुँची, तब तक सुशांत......

सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या मामले में जाँच के बाद कई और चौंकाने वाली बातें सामने आई हैं। आत्महत्या वाली जगह पर पुलिस को बाथरोब के टुकड़े भी मिले हैं। पुलिस ने शक जताया है कि शायद उन्होंने आत्महत्या के पहले बाथरूम के बाथरोब को इस्तेमाल किया था लेकिन वो टूट गया, जिसके टुकड़े वहाँ पड़े मिले। इससे निष्कर्ष निकलता है कि उन्होंने दो बार में आत्महत्या की।

पहली बार में वो कामयाब नहीं हुए थे। न्यूज़ 18 की ख़बर के अनुसार, पुलिस को सुशांत सिंह राजपूत की आलमारी में कपड़े बिखरे पड़े हुए मिले। इससे अंदेशा जताया गया है कि बाथरोब के टूट जाने पर उन्होंने अपनी आलमारी में से हरे रंग का एक कुर्ता निकाला और उसी को रस्सी के रूप में इस्तेमाल किया। जब तक पुलिस घटनास्थल पर पहुँची, तब तक सुशांत की बहन व अन्य लोगों ने फंदे को काट कर बॉडी नीचे उतार ली थी।

फ़िलहाल इस हरे रंग के कुर्ते को फॉरेंसिक लैब में जाँच के लिए भेजा गया है। जाँच में ये पता लगाया जाएगा कि ये कुर्ता किसी एक व्यक्ति का भार उठाने की क्षमता रखता भी है या नहीं। सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या मामले में लोगों द्वारा तरह-तरह के सवाल उठाते हुए सीबीआई जाँच की माँग की जा रही है। उधर परिवार ने बयान जारी कर के कई अहम घोषणाएँ की है और अपनी बात सामने रखी है।

सुशांत सिंह राजपूत के परिवार ने जारी किया बयान

परिवार ने कहा है कि दुनिया के सुशांत सिंह राजपूत परिवार के लिए गुलशन की तरह थे। उन्हें खुले विचारों वाला, बातूनी, और अविश्वसनीय ढंग से प्रतिभाशाली बताया गया है। परिवार ने ‘ राजपूत फाउंडेशन’ की स्थापना की घोषणा की है, जिसमें सुशांत के दिल के क़रीबी क्षेत्रों सिनेमा, विज्ञान और खेल में प्रतिभावान युवाओं को मौका दिया जाएगा और उनका समर्थन किया जाएगा। परिवार ने कहा है कि उनकी लिगेसी और यादों को सजोने के लिए ऐसा किया जाएगा।

साथ ही पटना के राजीव नगर स्थित उनके घर को एक मेमोरियल में तब्दील कर दिया जाएगा, जहाँ सुशांत ने अपने बचपन के दिन गुजारे थे। हजारों किताबें, टेलिस्कोप और फ्लाइट स्टिमुलेटर सहित सुशांत की अन्य व्यक्तिगत चीजों को उनके फैंस के देखने के लिए वहाँ रखा जाएगा। साथ ही परिवार फेसबुक, ट्विटर और इंस्टाग्राम पर उनकी सोशल मीडिया प्रोफाइल्स को भी मेंटेन करेंगे, ताकि उनकी यादों को ज़िंदा रखा जा सके।

परिवार ने कहा है कि सुशांत सिंह राजपूत अपने हर एक फैन को प्यार करते थे, उन्हें सम्मान देते थे। परिवार ने कहा कि उनके जाने से एक स्थाई शून्य पैदा हो गया है जो परिवार में हमेशा रहेगा। साथ ही विज्ञान सम्बन्धी उनकी बातों को भी याद किया गया है। परिवार ने कहा कि वो लोग ये स्वीकार करने के लिए तैयार नहीं है कि वो सुशांत की हँसी फिर नहीं सुन पाएँगे। उन्होंने कहा कि सुशांत ने बिना किसी दायरे के सपने देखे और और शेर की तरह उन सपनों का पीछा किया।

सुशांत की आत्महत्या पर कंगना ने कहा था कि बॉलीवुड के लिए सुशांत ने इतनी अच्छी फिल्में कीं। मगर उन्हें कभी कोई अवॉर्ड नहीं मिला। उन्होंने ‘काय पो छे’ से डेब्यू किया। उन्हें डेब्यू तक का अवॉर्ड नहीं मिला। उन्होंने 6-7 साल के अंतराल में केदारनाथ, धोनी और छिछोरे जैसी अच्छी फिल्में बनाईं। मगर, फिर भी उन्हें कोई अवॉर्ड नहीं मिला। कोई सराहना नहीं मिली। वहीं, गली बॉय जैसी वाहियात फिल्म को अवॉर्ड मिल जाते हैं।

फिल्म निर्देशक अभिषेक कपूर ने खुलासा किया है कि ‘केदारनाथ’ की रिलीज के बाद मीडिया ने सारा अली ख़ान को तो सिर-आँखों पर बिठा लिया था, लेकिन सुशांत सिंह राजपूत को नकार दिया था, जिससे वो बुझे-बुझे से रहते थे। इस फिल्म के डायरेक्टर अभिषेक ही थे। उन्होंने ही सुशांत की लॉचिंग फिल्म ‘काई पो चे’ को भी डायरेक्ट किया था। कपूर ने बताया कि मीडिया द्वारा इस तरह का भेदभाव किए जाने के कारण सुशांत अंदर से बुझे-बुझे से रहते थे। बिहार में सलमान खान से भी लोग आक्रोशित हैं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

CPI(M) सरकार ने महादेव मंदिर पर जमाया कब्ज़ा, ताला तोड़ घुसी पुलिस: केरल में हिन्दुओं का प्रदर्शन, कइयों ने की आत्मदाह की कोशिश

श्रद्धालुओं के भारी विरोध के बावजूद केरल की CPI(M) सरकार ने कन्नूर में स्थित मत्तनूर महादेव मंदिर का नियंत्रण अपने हाथ में ले लिया है।

राम ‘छोकरा’, लक्ष्मण ‘लौंडा’ और ‘सॉरी डार्लिंग’ पर नाचते दशरथ: AIIMS वाले शोएब आफ़ताब का रामायण, Unacademy से जुड़ा है

जिस वीडियो को लेकर विवाद है, उसे दिल्ली AIIMS के छात्रों ने शूट किया है। इसमें रामायण का मजाक उड़ाया गया है। शोएब आफताब का NEET में पहला रैंक आया था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,325FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe