मुशर्रफ के अरबपति सम्बन्धी के कार्यक्रम में मीका ने किया परफॉर्म, ट्विटर पर मचा बवाल

मीका सिंह द्वारा कराँची में परफॉर्म करने से न सिर्फ़ पाकिस्तानी बल्कि भारतीय ट्विटर यूजर्स भी खफा नजर आए। जहाँ भारतीय लोगों ने सवाल किया कि इस तनाव भरे माहौल में जब पाकिस्तान ने भारत से संबंधों को तोड़ना शुरू कर दिया है, मीका को पाकिस्तान जाने की क्या ज़रूरत थी?

जहाँ भारत-पाकिस्तान तनाव के बीच पाकिस्तानी नेता लगातार भड़काऊ बयान दे रहे हैं, इसी बीच गायक मीका सिंह द्वारा पाकिस्तानी अरबपति के कार्यक्रम में परफॉर्म करने की ख़बर आई है। ट्विटर पर लोगों ने मीका सिंह से नाराज़गी जताई क्योंकि कराँची में जिस व्यक्ति के यहाँ उन्होंने परफॉर्म किया, वह पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ का कजन भाई है।

मीका सिंह के साथ इस कार्यक्रम में 14 कलाकारों के क्रू को परफॉर्म करने के लिए बुलाया गया था। लोकप्रिय पाकिस्तानी पत्रकार नायला इनायत ने मीका सिंह की परफॉरमेंस पर टिप्पणी करते हुए लिखा:

“मैं इस बात से ख़ुश हूँ कि मीका सिंह ने कराँची में जनरल मुशर्रफ के सम्बन्धी की मेहँदी कार्यक्रम में परफॉर्म किया। अगर उन्होंने नवाज शरीफ के किसी सम्बन्धी के कार्यक्रम में ऐसा किया होता तो पाकिस्तानी लोग ‘गद्दारी’ से जुड़ा हैशटैग ट्रेंड कर रहे होते।”

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

बता दें कि पाकिस्तान ने भारतीय फिल्मों पर रोक लगा दी है और भारतीय गानों व अन्य मीडिया कंटेंट को भी प्रतिबंधित कर दिया है। पाक वेबसाइट्स पर प्रकाशित ख़बरों के अनुसार, मीका सिंह को कराँची, इस्लामाबाद और लाहौर में कार्यक्रम करने के लिए 30 दिनों का वीजा दिया गया है।

मीका सिंह द्वारा कराँची में परफॉर्म करने से न सिर्फ़ पाकिस्तानी बल्कि भारतीय ट्विटर यूजर्स भी खफा नजर आए। जहाँ भारतीय लोगों ने सवाल किया कि इस तनाव भरे माहौल में जब पाकिस्तान ने भारत से संबंधों को तोड़ना शुरू कर दिया है, मीका को पाकिस्तान जाने की क्या ज़रूरत थी? वहीं पाकिस्तान के लोगों ने अपनी सरकार से नाराज़गी जताते हुए पूछा कि भारतीय गायक को वीजा क्यों दिया गया?

वहीं कई लोगों ने मीका सिंह का समर्थन भी किया। कुछ ट्विटर यूजर्स ने लिखा कि मीका एक कलाकार हैं और एक कलाकार के लिए बाउंड्री मायने नहीं रखता। कुछ यूजर्स ने पाकिस्तान को आड़े हाथों लेते हुए लिखा कि पाकिस्तान बॉलीवुड कलाकारों के बिना रह ही नहीं सकता।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

आरफा शेरवानी
"हम अपनी विचारधारा से समझौता नहीं कर रहे बल्कि अपने तरीके और स्ट्रेटेजी बदल रहे हैं। सभी जाति, धर्म के लोग साथ आएँ। घर पर खूब मजहबी नारे पढ़कर आइए, उनसे आपको ताकत मिलती है। लेकिन सिर्फ मुस्लिम बनकर विरोध मत कीजिए, आप लड़ाई हार जाएँगे।"

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

144,693फैंसलाइक करें
36,539फॉलोवर्सफॉलो करें
165,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: