Monday, May 16, 2022
Homeविविध विषयमनोरंजन'गृहयुद्ध का डर' दिखाने वाले नसीरुद्दीन शाह की जिंदगी Onomatomania से हराम: खुद बताया- चैन...

‘गृहयुद्ध का डर’ दिखाने वाले नसीरुद्दीन शाह की जिंदगी Onomatomania से हराम: खुद बताया- चैन से नहीं रह पाता, एक ही बात दोहराता रहता हूँ

ओनोमैटोमेनिया एक ऐसी बीमारी है जब किसी वाक्य, शब्द या नाम को लेकर एक असामान्य जुनून पैदा हो जाए और आप उसे दोहराते या अपने आप में बड़बड़ाते रहें।

बॉलीवुड इंडस्ट्री के मशहूर अभिनेता और अपने विवादित बयानों के चलते मीडिया सुर्खियों में रहने वाले नसीरुद्दीन शाह ने हाल में दिए एक इंटरव्यू में खुलासा किया कि 71 साल की उम्र में उन्हें एक बीमारी हो चुकी है। उन्होंने बताया कि वह ओनोमैटोमेनिया (Onomatomania) से ग्रसित हैं जिसमें व्यक्ति बार-बार अपनी बातें रिपीट करता है।

नसीरुद्दीन शाह ने ये खुलासा यूट्यूब चैनल ‘चलचित्र टॉक्स’ में किया। उन्होंने बताया, “मैं एक बीमारी से जूझ रहा हूँ, जिसे ओनोमैटोमेनिया (Onomatomania) कहते हैं। मैं मजाक नहीं कर रहा हूँ। यह एक मेडिकल कंडीशन है। आप इसे डिक्शनरी में देख सकते हैं।”

उन्होंने बताया, “ओनोमैटोमेनिया एक बीमारी है जिसमें आप बिना किसी वजह से विशेष शब्द या बात को, वाक्य या कविता या भाषण को दोहराते रहते हैं जिसे आप सुनना पसंद करते हैं। मैं इसे हर समय करता हूँ इसलिए मैं कभी भी आराम से नहीं रहता। यहाँ तक कि जब मैं सो रहा होता हूँ, तब भी मैं किसी ऐसे रास्ते पर जा रहा हूँ जो मुझे पसंद है।”

क्या है Onomatomania?

बता दें कि नसीरुद्दीन शाह द्वारा इंटरव्यू में ओनोमैटोमेनिया नाम लिए जाने के बाद इस बीमारी पर चर्चा शुरू हो गई है। सवाल-जवाब हैं कि आखिर ये बीमारी क्या होती है। ऐसे में बता दें कि ये ओनोमैटोमेनिया एक ऐसी बीमारी है जब किसी वाक्य, शब्द या नाम को लेकर एक असामान्य जुनून पैदा हो जाए और आप उसे दोहराते या अपने आप में बड़बड़ाते रहें।

गृहयुद्ध को लेकर नसीरुद्दीन शाह में डर

गौरतलब है कि नसीरुद्दीन शाह पिछले कुछ सालों में अपनी फिल्मों से ज्यादा अजीबोगरीब बयानों के चलते सुर्खियों में रहे हैं। कुछ समय पहले नसीरुद्दीन शाह ने ‘The Wire’ के करण थापर से बात करते हुए कहा था कि उन्होंने तो अपनी ज़िन्दगी जी ली है, लेकिन अपने बच्चों को लेकर डरे हुए हैं।

इस इंटरव्यू में उन्होंने कहा था कि आज देश में एक पुलिस इंस्पेक्टर की मौत से ज्यादा एक गाय के मरने को मुद्दा बनाया जाता है, जो त्रासद है। गृहयुद्ध की आशंका जताते हुए शाह ने मुस्लिमों की स्थिति पर कहा था, “मुस्लिमों को दूसरे दर्जे का नागरिक बना कर छोड़ दिया गया है… एक फोबिया फैलाने के लिए ये सब किया जा रहा है।” 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अभिनेत्री के घर पहुँची महाराष्ट्र पुलिस, लैपटॉप-फोन सहित कई उपकरण जब्त किए: पवार पर फेसबुक पोस्ट, एपिलेप्सी से रही हैं पीड़ित

अभिनेत्री ने फेसबुक पर 'ब्राह्मणों से नफरत' का आरोप लगाते हुए 'नर्क तुम्हारा इंतजार कर रहा है' - ऐसा लिखा था। हो चुकी हैं गिरफ्तार। अब घर की पुलिस ने ली तलाशी।

जिसे पढ़ाया महिला सशक्तिकरण की मिसाल, उस रजिया सुल्ताना ने काशी में विश्वेश्वर मंदिर तोड़ बना दी मस्जिद: लोदी, तुगलक, खिलजी – सबने मचाई...

तुगलक ने आसपास के छोटे-बड़े मंदिरों को भी ध्वस्त कर दिया और रजिया मस्जिद का और विस्तार किया। काशी में सिकंदर लोदी और खिलजी ने भी तबाही मचाई।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
186,227FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe