Saturday, July 31, 2021
Homeविविध विषयमनोरंजनब्यूटी कॉन्टेस्ट के नाम पर यौन उत्पीड़न: कंपनी प्रमोटर के साथ महेश भट्ट, रणविजय...

ब्यूटी कॉन्टेस्ट के नाम पर यौन उत्पीड़न: कंपनी प्रमोटर के साथ महेश भट्ट, रणविजय सिंह सहित बॉलीवुड की कई हस्तियों को नोटिस

आरोप लगाया गया है कि सनी, फोटो प्राप्त करने के बाद और कभी-कभी पहले भी लड़कियों के संपर्क में आता था और उनसे पूरी तरह न्यूड तस्वीरें और वीडियो माँगता था। शिकायती पत्र में यह कहा गया है कि सनी वर्मा मॉडलिंग करने या प्रतियोगिता जीतने की इच्छा रखने वाली लड़कियों को धमकी देकर अपनी यौन इच्छाओं को पूरा करने के लिए इस्तेमाल करता था।

मॉडलिंग में करियर बनाने की कोशिश में लगी लड़कियों को ब्यूटी कॉन्टेस्ट में हिस्सा दिलाने के नाम पर उनके यौन शोषण और ब्लैकमेलिंग का मामला सामने आया है। इस संबंध में राष्ट्रीय महिला आयोग (NCW) को दी गई शिकायत के अनुसार, चंडीगढ़ में स्थित आईएमजी वेंचर्स (IMG Ventures) नाम की एक कंपनी के प्रमोटर सनी वर्मा के खिलाफ आरोप लगाया गया है कि उसने मॉडलिंग में करियर बनाने का मौका देने के बहाने कई लड़कियों को ब्लैकमेल और उनका यौन शोषण किया है। 

NCW ने कंपनी के प्रमोटर के खिलाफ ‘यौन उत्पीड़न’ की शिकायत के मामले में बॉलीवुड की कई हस्तियों को नोटिस जारी किया है। कई लड़कियों ने मॉडलिंग में उनका करियर बनाने के बहाने कंपनी प्रमोटर पर ब्लैकमेल करने और यौन उत्पीड़न करने का आरोप लगाया है।

NCW ने पीपुल अगेंस्ट रेप इन इंडिया (PARI) की संस्थापक सोशल एक्टिविस्ट योगिता भयाना द्वारा दायर शिकायत का संज्ञान लेते हुए 6 अगस्त को अपनी चेयरपर्सन रेखा शर्मा की अध्यक्षता में एक वर्चुअल सुनवाई निर्धारित की है।

आयोग ने शिकायतकर्ता योगिता भयाना को संबोधित एक पत्र में कहा, “NCW ने आपके मामले का संज्ञान लिया है और तदनुसार इस मामले में एक वर्चुअल सुनवाई करने का निर्णय लिया है। आयोग ने आपके द्वारा नामित हस्तियों को नोटिस भी जारी किए हैं।”

सोशल एक्टिविस्ट योगिता भयाना ने अपनी शिकायत में कई बॉलीवुड हस्तियों का नाम लिया है, जिनमें महेश भट्ट, उर्वशी रौतेला, मौनी रॉय, रणविजय सिंह, प्रिंस नरूला और ईशा गुप्ता के नाम शामिल हैं।

योगिता भयाना द्वारा राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा को लिखे गए एक शिकायती पत्र में आरोप लगाया गया है कि सनी वर्मा अपनी कंपनी के माध्यम से मिस एशिया प्रतियोगिता के आयोजन के बहाने लड़कियों को इस दावे के साथ बुलाता है कि इस प्रतियोगिता में हिस्सा लेने के बाद वह मॉडल बन जाएँगी।

इस प्रतियोगिता को वास्तविक दिखाने के लिए उसकी कंपनी लड़कियों से 2,950 रुपए एंट्री फीस भी लेती है। 31 जुलाई को दिए गए शिकायती पत्र में कहा गया है कि एक बार जब लड़कियाँ प्रतियोगिता में हिस्सा लेने के आवेदन करती हैं तो प्रतियोगिता में बेहतर रैंकिंग हासिल करने के लिए सनी वर्मा की महिला साथियों द्वारा उन्हें नग्न तस्वीरें देंने के लिए मजबूर किया जाता है।

यह भी आरोप लगाया गया है कि सनी, फोटो प्राप्त करने के बाद और कभी-कभी पहले भी लड़कियों के संपर्क में आता था और उनसे पूरी तरह न्यू तस्वीरें और वीडियो माँगता था। शिकायती पत्र में यह कहा गया है कि सनी वर्मा मॉडलिंग करने या प्रतियोगिता जीतने की इच्छा रखने वाली लड़कियों को धमकी देकर अपनी यौन इच्छाओं को पूरा करने के लिए इस्तेमाल करता था।

एक बार लड़कियों के साथ शारीरिक संबंध बनाने के बाद वह उन लड़कियों को आगे भी संबंध बनाने के लिए लगातार ब्लैकमेल करता था। देश भर की कई लड़कियों को सनी वर्मा और उसके साथियों द्वारा यौन और मानसिक उत्पीड़न का सामना करना पड़ा। शिकायत में सबूत के रूप में कई लड़कियों के कई पत्रों, मैसेज और ऑडियो क्लिप के माध्यम से सनी वर्मा और उसकी कंपनी के इस काले कारनामे का खुलासा किया गया है।

शिकायत में यह भी कहा गया है कि यौन उत्पीड़न के आरोप में सनी वर्मा को पहले भी गिरफ्तार किया जा चुका है। उन्होंने माँग की है कि NCW मामले की गहराई से जाँच करे और दोषियों को सजा दिलवाए ताकि कोई भी अन्य व्यक्ति किसी भी बहाने इस तरह लड़कियों का यौन शोषण करने की हिम्मत न करे। जो कि सनी वर्मा और इससे जुड़े सभी लोगों को एक कड़ा संदेश होगा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

20 से ज्यादा पत्रकारों को खालिस्तानी संगठन से कॉल, धमकी- 15 अगस्त को हिमाचल प्रदेश के CM को नहीं फहराने देंगे तिरंगा

खालिस्तान समर्थक सिख फॉर जस्टिस ने हिमाचल प्रदेश के 20 से अधिक पत्रकारों को कॉल कर धमकी दी है कि 15 अगस्त को सीएम तिरंगा नहीं फहरा सकेंगे।

‘हमारे बच्चों की वैक्सीन विदेश क्यों भेजी’: PM मोदी के खिलाफ पोस्टर पर 25 FIR, रद्द करने से सुप्रीम कोर्ट का इनकार

सुप्रीम कोर्ट ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आलोचना वाले पोस्टर चिपकाने को लेकर दर्ज एफआईआर को रद्द करने से इनकार कर दिया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,090FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe